हमें चाहने वाले मित्र

29 दिसंबर 2015

,,कांग्रेस के मुख पत्र का आलेख ,,,,इसी चड्डीधारी कांग्रेस मुखबीरी प्रणाली का नतीजा है

कांग्रेस के भेस में ,,,कांग्रेस के शीर्ष पदों पर बैठे ,,,चड्डीधारी कोंग्रेसियों,,, के बारे में ,,में लगातार कहता रहा हूँ ,,कांग्रेस के मुख पत्र का आलेख ,,,,इसी चड्डीधारी कांग्रेस मुखबीरी प्रणाली का नतीजा है ,,,,,कांग्रेस इन चड्डीधारियों को ,,,,अपनी आस्तीनों में पाल रही है ,,शीर्ष पदो पर बैठा रही है,,, और यह लोग कांग्रेस को ,,कांग्रेस के मूल कल्चर ,,मूल रीती नीति से अलग लेजाकर ,,इस हालात में पहुंचा चुके है ,,अब भी कांग्रेस को चेतने की ज़रूरत है,,,, दस जनपथ ,,चौबीस अकबर रोड ,,बारह तुगलक लेन रोड से ,,,कांग्रेस में शुद्धिकरण अभियान चलना चाहिए ,,,आज कांग्रेस के मुखपत्र में ,,,,जो बदतमीज़ी हुई है ,,,,वोह एक दिन की विचारधारा नहीं ,,इसके लिए कांग्रेस के चड्डीधारियों ने ,,,बहुत मेहनत की है ,,इनका बहुमत बढ़ाया है ,,आज कांग्रेस में जो मूल कोंग्रेसी मिजाज़ के लोग है,,,, उन्हें यह चड्डीधारी कोंग्रेसी दबाने का प्रयास करते है ,,अपने रसूक़ातों से हाईकमान के कान भरते है ,,कांग्रेस में अब सोशल मिडिया ,,,प्रवक्ता ,,संपादक मंडल ,,लेखन मंडल ,,चिंतक ,,विचारक ,,प्रबुद्ध कोंग्रेसियों सहित ,,,विधि विभाग में बदलाव की सख्त आवश्यकता है ,,,,,अगर विधि विभाग मज़बूत और सक्रिय होता,,, तो कांग्रेस कार्यालय का लीज़ वक़्त खत्म होने के पहले ,,कार्यवाही हो गयी होती ,,अगर कांग्रेस का विधि विभाग सजग सतर्क वफादार होता ,,तो उन्नीस दिसंबर को सोनिया जी और राहुल गांधी को अदालत में सम्मन पर जाना नहीं पढता ,,कांग्रेस का सोशल मिडिया विभाग पद लेकर खामोश है ,,,कांग्रेस के भीतरघाती ,,अपनी अपनी निजी दुकाने चलाने के लिए ,,,हाईकमान को गुमराह कर मिलते जुलते नामों से ,,,अलग अलग गैरकानूनी संगठन चला रहे है,,, जिन्हे कांग्रेस का नाम देकर ,,,कांग्रेस से जुड़ाव बताकर ,,,लोगों को गुमराह किया जा रहा है ,,इन संगठनों में भी ,,,चड्डीधारी कोंग्रेसियों ने ऐसा ही कोई खेल बता दिया,,,, तो सच कांग्रेस को फिर बदनामी झेलना पढ़ेगी ,,इन पर भी पाबंदी लगाना होगी ,,,,राजस्थान में भी कुछ चड्डीधारी,,, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलेट को धोखे मे रखे हुए है ,,अलग अलग सचिन पायलेट के कथित वफादार ,,,उन्हें सही फीडबैक नहीं दे रहे है ,,,जो लोग सचिन पायलेट तक जाकर ,,,अपनी बात कहना चाहते है ,,,वोह सचिन के नज़दीकी,,, उन्हें सचिन से मिलवाना नहीं चाहते है ,,सचिन को अलग थलग रखकर ,,,केवल गिनती के लोगों के साथ ,,जोड़कर राजस्थान की एक तस्वीर से ,,,अलग तस्वीर वोह सचिन पायलेट को बताकर,,, गुमराह कर रहे है ,,ऐसे हालातों में दस जनपथ ,,,चौबीस अकबर रोड ,,,बारह तुग़लक़ लेंन ,,रोड ,,, राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी ,,,इंद्रा भवन के लोगों की,,, एक बार फिर स्क्रूटनिंग करना होगी ,,सोशल मिडिया विभाग ,, प्रवक्ता मंडल ,,चिंतक ,,विचारकों में बदलाव करना होगा ,,नए लोगों को जोड़ना होगा ,,,,विधि विभाग को भी सक्रिय कर बदलना होगा ,,अपने साथ जुड़े लेखकों की सूचि में बदलाव लाना होगा ,,गैरकानूनी कांग्रेस के नाम से चल रहे ,,,,अवैध संगठनों पर रोक लगाना होगी ,,,इन दुकानो में कई ऐसे लोग भी घुसे है,,, जिनका कांग्रेस से कोई वास्ता नहीं ,,, राजस्थान में भी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को ,,,एक मिलने वालों को सूचीबद्ध करने के लिए ,,,कंट्रोल रूम बनाना होगा ,,, जहां अगर कोई भी कोंग्रेसी मिलने वाला सचिन से सीधा रूबरू होकर ,,,कोई बात कहना चाहे,, तो इसके लिए उन्हें तारीख और समय निर्धारित कर ,,,एक दिन पहले सूचित करने का प्रावधान हो जाए ,,,ताकि सचिन पायलेट का मर्तबा और बुलंद हो सके ,,जो तस्वीर उन्हें दिखाई जाती है ,,उससे अलग हठ कर एक सच्ची तस्वीर भी उन्हें नज़र आ सके ,,,और कांग्रेस इन चड्डीधारी गद्दारो ,,मौकापरस्तों से मुक्त होकर फिर से ज़िंदाबाद हो सके ,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...