हमें चाहने वाले मित्र

19 दिसंबर 2015

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से गडकरी ने कहा था-फाइलें पास नहीं हुईं तो छत से फेंक दूंगा

कार्यक्रम में शामिल केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, मेयर मालिनी गौड़ और सीएम शिवराज सिंह चौहान।
कार्यक्रम में शामिल केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी, मेयर मालिनी गौड़ और सीएम शिवराज सिंह चौहान।
इंदौर. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का कहना है कि हाईवे पर बनने वाले 300 ओवर ब्रिज की फाइलें पास करवाने के लिए एक बार उन्हें रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को धमकाना पड़ा था। गडकरी ने बताया, "मैंने बोर्ड के चेयरमैन से कहा कि यदि फाइल पास नहीं की तो घर की छत से फेंक दूंगा।" इंदौर में इंडियन रोड कांग्रेस की 75वीं एनुअल मीटिंग में गडकरी ने यह खुलासा किया।

धमकाने से फाइलें हुईं पास

- केंद्रीय रोड ट्रांसपोर्ट मिनिस्टर नितिन गडकरी के मुताबिक जब उन्होंने पदभार संभाला तब रेलवे बोर्ड में 300 ओवर ब्रिज की फाइल्स पेंडिंग थीं।
- गडकरी के मुताबिक रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को मैंने अपने घर बुलाया और डपटकर कहा कि यदि तुमने ये फाइल्स क्लियर नहीं की तो मैं तुमको घर की छत से नीचे फेंक दूंगा।
- ऐसा करने के बाद फाइलें पास हुई और रेलवे ने ओवर ब्रिज फाइल्स के लिए एक ऑनलाइन सिस्टम बनाया।

परिवहन मंत्रालय में पैसे की कमी नहीं

- गडकरी के मुताबिक उनकी मिनिस्ट्री के पास पैसे की कोई कमी नहीं है। खजाना द्रौपदी की रसोई जैसा है, जिसमें कभी कमी नहीं पड़ती।

रोड एक्सिडेंट में मौत हुई तो जिम्मेदार होंगे इंजीनियर

- इंदौर में इंडियन रोड कांग्रेस के कार्यक्रम में पूरे देश से इंजीनियर पहुंचे हैं।
- गडकरी ने कहा कि डीपीआर बनाने और रोड डिजाइनिंग में इंजीनियर किसी के दबाव में न आएं।
- सरकार ऐसे विधेयक पर काम कर रही है, जिसमें डिजाइनिंग की खामी के चलते एक्सिडेंट होता है और उसमें किसी की मौत होती है तो जिम्मेदारी DPR बनाने वाले की होगी।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...