हमें चाहने वाले मित्र

04 दिसंबर 2015

पॉल्यूशन कंट्रोल की कवायद: दिल्ली में आधा महीना घर से नहीं निकाल पाएंगे कार



पॉल्यूशन पर दिल्ली हाईकोर्ट ने एक दिन पहले ही कहा था कि शहर में ऐसा लगता है कि जैसे गैस चेंबर में रह रहे हों।
पॉल्यूशन पर दिल्ली हाईकोर्ट ने एक दिन पहले ही कहा था कि शहर में ऐसा लगता है कि जैसे गैस चेंबर में रह रहे हों।
नई दिल्ली. देश की राजधानी में बढ़ते पॉल्यूशन को कंट्रोल करने के लिए दिल्ली सरकार की कैबिनेट ने बड़ा फैसला किया है। फैसले के मुताबिक, अब शहर में EVEN (सम) और ODD (विषम) नंबर की कारें अल्टरनेट डे के हिसाब से चलेंगी। मतलब, एक तरह के नंबर वाली गाड़ियां एक दिन तो दूसरे तरह के नंबर वाली गाड़ियां दूसरे दिन ही सड़कों पर चल सकेंगी। आधे दिन आप अपनी कार घर से नहीं निकाल पाएंगे। दिल्ली सरकार का यह फैसला 1 जनवरी, 2016 से लागू होगा।
इसे ऐसे समझिए
- दिल्ली सरकार के फैसले के मुताबिक 0, 2, 4, 6 ,8 (ईवन नंबर्स) से खत्म होने वाले नंबरों वाली गाड़ियां एक दिन और 1, 3, 5, 7, 9 (ऑड नंबर्स) से खत्म होने वाले नंबर वाली गाड़ियां दूसरे दिन चलेंगी।
- हालांकि, यह नियम पब्लिक ट्रांसपोर्ट, एंबुलेंस और सरकारी गाड़ियों पर लागू नहीं किया जाएगा।
क्यों लिया गया फैसला?
दिल्‍ली में बढ़ते पॉल्यूशन को लेकर हाईकोर्ट की सख्त टिप्‍पणी के बाद दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार एक्‍शन मोड में आ गई है। सीएम केजरीवाल ने शुक्रवार को कैबिनेट की इमरजेंसी मीटिंग बुलाई थी, जिसमें यह फैसला लिया गया। हाईकोर्ट ने सख्त कमेंट करते हुए कहा था दिल्ली में रहते हुए ऐसा लगता है जैसे 'गैस चेंबर' में रह रहे हों।
क्यों बने ऐसे हालात : दिल्ली का सबसे कम पॉल्यूटेड एरिया भी बीजिंग से 14 गुना ज्यादा बदतर
- ताजा एयर क्वॉलिटी इंडैक्स के मुताबिक दिल्ली के सबसे ज्यादा पॉल्यूटेड एरिया में एयर क्वालिटी 860/100gm3 जो बीजिंग के सबसे पॉल्यूटेड एरिया से 5 गुना ज्यादा खतरनाक था।
- बीजिंग के सबसे पॉल्यूटेड एरिया में यह 175/100gm3 रिकॉर्ड किया गया।
- दिल्ली के सबसे कम पॉल्यूटेड एरिया में यह 260/mg3 जबकि बीजिंग में 16 था। जो यह दिखाता है कि दिल्ली का सबसे कम पॉल्यूटेड एरिया भी बीजिंग के कम पॉल्यूटेड एरिया से 16 गुना ज्यादा प्रदूषित है।
- यह लेटेस्ट रिसर्च बीजिंग में 2 दिसंबर 2015 की सुबह 11 बजे और दिल्ली में शाम 9 बजे की गई ।
पॉल्यूशन रोकने के लिए किस देश में कितने दिन हैं गाड़ियों पर बैन?
- बगोटा, कोलंबिया- हफ्ते में दो दिन बैन।
- मेक्सिको- 1989 में लागू हफ्ते में 1 दिन बैन।
- चीन में हफ्ते में एक दिन। बीजिंग में 2008 में बीजिंग ओलंपिक्स में लागू हुआ।
- पेरिस में इसी साल लागू हुई।
- लंदन के केवल सेंट्रल लंदन इलाके में यह व्यवस्था लागू।
- दुबई ,साओ पाउलो में 2007 में लागू किया गया।
- लापाज में साल 2003 में लागू हुआ।
- सेंटियागो (चिली) में 2006 में इस व्यवस्था की शुरूआत की हुई।
- मेक्सिको में 1989 में लागू की गई।
- काठमांडू के अंदरूनी इलाकों में 26 सितंबर 2015 से लागू ।
कोर्ट ने 21 दिसंबर तक मांगा एक्‍शन प्‍लान
गुरुवार को कोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा था कि क्या सरकार ने पॉल्यूशन की जांच के लिए कोई कदम उठाए हैं? कोर्ट ने दिल्ली सरकार को 21 दिसंबर तक पॉल्यूशन कंट्रोल के लिए टाइम बाउंड एक्‍शन प्‍लान पेश करने को कहा था। क्योंकि इससे पहले एन्वायर्नमेंट मिनिस्ट्री और दिल्‍ली सरकार की तरफ से सौंपे गए प्लान को अधूरा बताते हुए यह कहकर खारिज कर दिया था कि इसमें रिस्पॉन्सिबिलिटी और टाइम लाइन का कोई जिक्र नहीं है।
इससे पहले NGT (नेशनल ग्रीन ट्रिब्‍यूनल) भी बढ़ते प्रदूषण को लेकर दिल्‍ली सरकार पर गंभीरता से कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगा चुका है। ट्रिब्युनल ने बच्‍चों और बुजुर्गों से प्रदूषण से बचने के लिए घर में ही रहने की सलाह दी थी।
बढ़ते पॉल्यूशन पर कोर्ट ने किए सख्त कमेंट्स
> गुरुवार को बढ़ते पॉल्यूशन से जुड़े एक मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली की तुलना गैस चैंबर से की थी। हाईकोर्ट ने दिल्ली के प्रदूषण पर चिंता जताते हुए कहा था है कि 'दिल्ली में रहना गैस चेंबर में रहने जैसा है।' हाईकोर्ट ने कहा कि दिल्ली में एयर पॉल्यूशन की दो वजहे हैं-धूल के कण और वाहनों से निकलने वाला धुआं।
> अक्टूबर में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस एचएल दत्तू ने कमेंट करते हुए कहा था कि दिल्ली में पॉल्यूशन इतना बढ़ गया है कि उनके पोते को भी मास्क लगाकर चलना पड़ता है।
जानिए दिल्ली-बीजिंग की एयर क्वॉलिटी में फर्क
दिल्ली एयर क्वालिटी इंडैक्स
दिल्ली गुड नॉर्मल एवरेज पुअर वेरी पुअर सीवियर पॉल्यूटेड
0-50 51-100 101-200 201-300 301-400 400-501
बीजिंग एयर क्वॉलिटी इंडैक्स
बीजिंग एक्सीलेंट गुड लाइट पॉल्यूटेड रियल पॉल्यूटेड हैवी पॉल्यूटेड सीवियर पॉल्यूटेड
0.50 51-100 101-150 151-200 201-300 300
- खास बात यह है कि जहां बीजिंग में 300pm/mg3 को खतरनाक माना जाता है वहीं, भारत के एयर क्वॉलिटी इंडेक्स में यह 500 है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...