हमें चाहने वाले मित्र

10 दिसंबर 2015

दोस्तों सोशल मिडिया ,,,सोशल सिस्टम को एन्जॉय करने ,, एक दूसरे की,,, सामाजिक जानकारियां ,,,आदान प्रदान करने ,,हंसने ,,,हंसाने के लिए,,, बना है

दोस्तों सोशल मिडिया ,,,सोशल सिस्टम को एन्जॉय करने ,, एक दूसरे की,,, सामाजिक जानकारियां ,,,आदान प्रदान करने ,,हंसने ,,,हंसाने के लिए,,, बना है ,,एक दूसरे पर छीटा कशी करने ,,धर्म मज़हब का विवाद पैदा करने या फिर अपनी शक्ति प्रदर्शन करने के लिए नहीं ,,,यह सभी समझदार लोग जानते है ,,और जो लोग सोशल मिडिया से जुड़े है उसमे से कुछेक को निकाल दो तो अधिकतम बुद्धिजीवी ,,समझदार ,,राष्ट्रप्रेमी है ,,कुछेक भटके भटके हुए लोग है ,,,उन्हें लिखने और अल्फ़ाज़ों के इस्तेमाल का सलीक़ा नहीं ,,जो बात मीठे अल्फ़ाज़ों में सहज तरीके से कही जा सकती है उसे भड़काऊ और दूसरे के अपमान करने के हिसाब से यह लोग कहते है ,,धर्म मज़हब के नाम पर गंदगी फैलाते है ,,,इनकी बातो पर मत जाओ ,,,इन्हे समझाओ ,,,न समझे तो फिर क़ानून के हवाले कर डालो ,,,जब यह लोग जेल में होंगे ,,,,तो इनकी अक़्ल खुद ब खुद ,,,ठिकाने आ जायेगी ,,,दोस्तों ,,अभी कुछ लोग ,,,हिन्दू देवी देवताओ का अपमान करते है ,,तो कुछ लोग मुस्लिम पैगम्बरों को बदनाम कर भड़काऊ बाते करते है ,,यह लोग इंसान नहीं है यह लोग दो पेरो पर चलने वाले जानवर है ,,,इन्हे नहीं पता के यह इनके देश को तोड़ रहे है ,,इन्हे नहीं पता के इनकी इन हरकतों से यह कौरव के वंशज कहला रहे है ,,,इनकी इन हरकतों से इनकी परवरिश और इनके माता पिता का आचरण संदिग्ध हो रहा है ,,,दोस्तों अभी पैगम्बर मोहमद स अ व की शान में गुस्ताखी हुई ,,इस गुस्ताखी की सज़ा जेल है ,,सरकार को खुद आगे रहकर ऐसे लोगों को जेल में डालना चाहिए ,,लेकिन अफ़सोस सरकार ने ऐसे मामलो में ख़ामोशी इख़्तियार की है ,,क्या फायदा ऐसी सरकार का जो लोगों के साथ इंसाफ न कर सके ,,क्या फायदा ऐसे करोडो करोड़ रूपये साइबर क्राइम रोकथाम पर खर्च करने से जो अराजकता फैलाने वालों को पहचान कर जेल ना पहुंचाया जा सके ,,,,दोस्तों ऐसे लोगों से अगर हम भड़के ,,हमने कोई भड़काऊ कार्यवाही की तो ज़रा सोचो इनमे और हम लोगों में क्या फ़र्क़ रह जाएगा ,,एक आदमी आपका दुश्मन हो सकता है ,,एक आदमी गलत हो सकता है लेकिन दोस्तों पूरा समाज किसी का दुश्मन नहीं होता ,,,हर समाज में अच्छे लोग ज़्यादा होते है ,,,अच्छे लोगों को गले लगाओ ,,बुरे लोगों के बारे में उन्हें समझाओ यक़ीन मानिये यह अच्छे लोग अपने समाज में पल रहे ऐसे कोढ़ ,,ऐसी खाज का खुद ही इलाज कर देंगे ,,नफरत फैलाने वाला किसी को पसदं नहीं ,,ना इन्हे ,,न हमे ,,,फिर क़ानून की लाठी अच्छो अच्छो को ठीक कर देती है ,,,राजस्थान में अशोक गेहलोत ने प्रवीण तोगड़िया साहब को आर्म्स एक्ट में जेल भेजा था ,,जेल की कोठरी और जेल के मच्छरों ने ऐसा सबक सिखाया के फिर दुबारा राजस्थान में बकवास करने की हिम्मत न हो सकी ,,तो दोस्तों क़ानून पर भरोसा रखो ,,सभी धर्मों और सभी धर्म मानने वालों पर भरोसा रखो ,,अच्छे लोगों पर भरोसा रखो ,,,अच्छे लोग बनों ,,,,ऐसे मामलों को फैलाने की जगह तुरत्न इसकी सुचना अपने नज़दीकी थानों में देकर मुक़दमा दर्ज करवाओ ,,रिएक्शन में कोई बकवास का जवाब बकवास की तरह ना दो ,,प्लीज़ इस सोशल मीडीया को सोशल रहने दो ,,नफरत का बाज़ार मत बनाओ ,,प्लीज़ मत बनाओ ,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...