हमें चाहने वाले मित्र

26 दिसंबर 2015

नदी का वोह किनारा

नदी में उठती वोह लहरे
नदी का वोह किनारा
मुझ से तुम्हारी वफ़ा को लेकर
सवाल करते है
चहचहाती वोह चिड़िये
मुझ से तुम्हारी वफ़ा को लेकर
सवाल करते है
गुलाब से निकलती हर महक
मुझ से तुम्हारी वफ़ा को लेकर
सवाल करते है
नदी में उछलती वोह मछलिया
मुझ से तुम्हारी वफ़ा को लेकर
सवाल करते है
उनको सबको मेरा एक ही जवाब
मेरा सनम लाजवाब ,,लाजवाब
मेरा सनम वफादार वफादार
बस इतना कहता हूँ और मेरी
आँख खुल जाती है
सपना टूट जाता है ,,
सच अब तो तुम्हारी वफ़ा भी
लाजवाब हाँ ला जवाब है ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...