हमें चाहने वाले मित्र

17 दिसंबर 2015

कीर्ति आजाद ने कहा-सच्चाई सामने लाऊंगा, जेटली का दावा-मिल चुकी है क्लीन चिट

बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद (फाइल फोटो)
बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद (फाइल फोटो)
नई दिल्ली. वित्त मंत्री अरुण जेटली का कहना है कि जब वे डीडीसीए में थे, तब कोई घोटाला नहीं हुआ। उन्हें यूपीए सरकार के वक्त ही क्लीन चिट मिल चुकी थी। इसके बावजूद सीएम अरविंद केजरीवाल पागलपन की हद छू लेने वाली भाषा बोल रहे हैं। वहीं, बीजेपी के ही सांसद कीर्ति आजाद ने कहा है कि वे करप्शन उजागर करने से पीछे नहीं हटेंगे और रविवार को बड़ा खुलासा करेंगे।
बीजेपी ने कीर्ति आजाद को तलब किया
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गुरुवार को बीजेपी महासचिव रामलाल ने सांसद कीर्ति आजाद को तलब किया। दोनों के बीच करीब आधा घंटा बातचीत हुई।
- बताया जा रहा है कि रामलाल ने आजाद को डीडीसीए के मसले पर बयानबाजी नहीं करने को कहा है।
- उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी उनकी तरफ से लगाए गए आरोपों को ही मुद्दा बना रही है।
- यह भी दावा किया जा रहा है कि रामलाल ने आजाद को अमित शाह के सामने पेश होने को कहा है।
- लेकिन गुरुवार को ही मीडिया से बात करते हुए कीर्ति ने कहा कि सच्चाई सामने आनी चाहिए। इससे पार्टी को कोई नुकसान नहीं होगा।
- कीर्ति ने कहा कि मैं रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरी बात बताऊंगा।
आजाद को बनाया जाए जांच कमेटी का प्रेसिडेंट
-कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने मांग की है बीजेपी सांसद कीर्ति आजाद को डीडीसीए के कथित घाटाले की जांच करने वाली कमेटी का प्रेसिडेंट बनाया जाए।
-उन्होंने कहा कि अगर हम डीडीसीए में जेटली की भूमिका की जांच करना चाहते हैं वो आजाद से बेहतर कोई नहीं बता सकता।
-वे लंबे समय से डीडीसीए में करप्शन के मामले उठाते रहे हैं। दिग्विजय ने यह बयान पार्लियामेंट के बाहर दिया।
-दिग्विजय ने इस मामले पर कांग्रेस की जेपीसी गठन की मांग को सही ठहराया है।
जेटली की सफाई पर केजरी ने किया पलटवार
जेटली के जवाब देने के कुछ देर बाद ही अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए पलटवार किया। उन्होंने 3 ट्वीट किए-
- अरुण जेटली पर लगे आरोप काफी गंभीर हैं। या तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए या फिर उन्हें हटा दिया जाना चाहिए ताकि इंडिपेंडेंट जांच हो सके।
- बगैर जांच के प्रेस के सामने आकर आरोपों का खंडन करने से जेटली पर लगे आरोप झूठे हो जाते हैं तो इस तरह तो 2G स्कैम के मामले में भी जांच नहीं होनी चाहिए थी।
- जेटली प्रेस के सामने आकर आरोपों से इनकार करते हैं। मुझ पर झूठ बोलने का आरोप लगा रहे हैं, लेकिन वे जांच से क्यों भाग रहे हैं?
जेटली ने क्या कहा?
- यूपीए की रिपोर्ट में, स्टेडियम निर्माण के प्रोसिजर में कुछ टेक्निकल गड़बड़ी का मामला सामने आया था, लेकिन उसमें मेरा नाम नहीं था।
- 2012 में यूपीए सरकार ने जांच बिठाई थी, जिसकी रिपोर्ट 21 मार्च 2013 में आई। इस रिपोर्ट में मेरे बारे में लिखा गया कि इनके खिलाफ कुछ नहीं है।
- दिल्ली में एक नया स्टेडियम 114 करोड़ में बन गया। वह भी किसी प्राइवेट कंपनी ने नहीं बनाया बल्कि पीएसयू ने बनाया।
- मेरा इस्तीफा मांगने वाली कांग्रेस बताए कि कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान नेहरू स्टेडियम के रिनोवेशन में ही 900 करोड़ खर्च कर दिए गए।
- ध्यानचंद स्टेडियम के रिनोवेशन में 600 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे।
ब्लॉग में किया केजरीवाल पर पलटवार
जेटली ने केजरीवाल पर अपने ब्लॉग के जरिए हमला बोला है।
- फ्री स्पीच देना सभी का फंडामेंटल राइट है। लेकिन दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल फ्री स्पीच के नाम पर झूठ बोलते हैं।
- वे मानहानि करने में विश्वास रखते हैं और अपनी बात को कहने के लिए जिस भाषा का इस्तेमाल करते हैं, वह पागलपन की हद छूने वाली (बॉर्डर ऑफ हिस्टीरिया) है।
- कुछ दिन पहले दिल्ली सरकार के एक अफसर को रिश्वत लेते पकड़ा गया। दिल्ली सरकार ने कार्रवाई का स्वागत किया। लेकिन 4 दिन पहले जब केजरीवाल के करीबी एक अफसर पर केजरीवाल के कार्यकाल से पहले लगाए गए आरोपों की जांच की गई तो वे भड़क गए।
- उन्होंने ऐसा करके संघीय ढांचे और संविधान को नुकसान पहुंचाया। यहां तक की पीएम के लिए भी जिस भाषा का इस्तेमाल किया है वह बेहद अपमानजनक और ऐसी भाषा फेडरलिज्म के लिए खतरनाक है।
- उनका बर्ताव स्वीकार किए जाने लायक नहीं है।
केजरीवाल ने दी अन्ना के आदर्शों को तिलांजलि
अरुण जेटली पर लगाए गए आप के आरोपों पर बीजेपी ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जवाब दिया। एचआरडी मिनिस्टर स्मृति ईरानी ने कहा-
- केजरीवाल अपने एक करप्ट अफसर को बचाने का काम कर रहे हैं।
- केजरीवाल ने भारतीय राजनीति में अपनी मेहनत से मुकाम हासिल करने वाले नेता पर आरोप लगाने का दुस्साहस किया है।
- हम पब्लिकली यह कहना चाहते हैं कि यूपीए सरकार ने 21 मार्च, 2013 में डीडीसीए से जुड़ी अपनी रिपोर्ट में कहा है कि डीडीसीए में जेटली के रहते हुए कोई धोखाधड़ी नहीं हुई है।
- आप के नेता जो रिपोर्ट दिखा रहे थे, वो आप की नहीं डीडीसीए की है। उस रिपोर्ट में भी जेटली का जिक्र नहीं है।
- एक भ्रष्ट अफसर को बचाने के लिए केजरीवाल का यह तरीका अन्ना के करप्शन के खिलाफ चलाए गए आंदोलन को तिलांजली है।
- कांग्रेस पॉलिटिकल हिप्पोक्रेसी कर रही है। जबकि कांग्रेस कि रिपोर्ट में ही जेटली पर लगे आरोपों का जवाब मिल गया था।
- विरोधी ये जान लें कि बीजेपी जेटली के साथ थी, है और रहेगी।
DDCA ने भी दी सफाई
गुरुवार को जेटली पर लगे आरोपों पर डीडीएस अधिकारियों ने भी सफाई दी। डीडीसीए उपाध्यक्ष और अधिकारियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर साफ किया कि आम आदमी पार्टी जो रिपोर्ट दिखा रही है वह आप की जांच नहीं है बल्कि डीडीसीए की ही रिपोर्ट है। डीडीसीए अधिकारियों ने कहा कि इस रिपोर्ट में जेटली जी का कोई जिक्र नहीं है।
- डीडीसीए ने आप के सभी आरोपों को बेबुनियाद करार दिया है।
- डीडीसीए के वाइस प्रेसिडेंट चेतन चौहान ने कहा हमारे पास छिपाने के लिए कुछ नहीं है।
- उन्होंने कहा कि पूरे स्टेडियम को बनाने में 114 करोड़ रुपए लगे हैं। स्टेडियम के ढांचे को बनाने में ही 57 करोड़ रुपए लगे हैं।
- चौहान ने कहा कि, हमने पैसा बहुत ही कंजूसी के साथ खर्च किया है। जबकि दिल्ली में दूसरे स्टेडियमों के रेनोवेशन पर ही 300 करोड़ से ज्यादा खर्च किया गया है।
- डीडीसीए को कॉरपोरेट बॉक्स से 34 करोड़ 96 लाख रुपए मिले हैं, बीसीसीआई से अलग-अलग सालों में 50 करोड़ रुपया मिला है।
- आईपीएल शुरू होने के बाद सालाना 8 करोड़ की कमाई हुई है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...