हमें चाहने वाले मित्र

17 दिसंबर 2015

इंडिया गेट पर बच्चों को क्रिकेट खेलता देख खुद को नहीं रोक पाए गूगल CEO

गुरुवार को दिल्ली के इंडिया गेट पर गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई।
गुरुवार को दिल्ली के इंडिया गेट पर गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई।
नई दिल्ली. गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई से गुरुवार दोपहर जानेमाने क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले ने उनके ड्रीम के बारे में पूछा था। पिचाई ने कहा था कि वे क्रिकेटर बनना चाहते थे। शाम को जब पिचाई इंडिया गेट से गुजरे तो उन्हें एक ग्रुप वहां क्रिकेट खेलते दिखा। पिचाई खुद को रोक नहीं पाए और बैट हाथ में ले लिया।
कब इंडिया गेट पहुंचे पिचाई?
- पिचाई दिल्ली यूनिवर्सिटी के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में #AskSundar सेशन से लौट रहे थे।
- वहां से लौटते वक्त वे इंडिया गेट से गुजरे।
- तभी उन्हें वहां एक ग्रुप क्रिकेट खेलते दिखा।
- पिचाई भी उनके बीच पहुंचे। वे खुद को क्रिकेट खेलने से रोक नहीं पाए।
- वहां मौजूद ग्रुप से पिचाई ने बैट लिया। ईंटों को स्टम्प्स बनाया और कुछ शॉट्स लगाए।
- बाद में इस ग्रुप के साथ फोटो भी खिंचवाए।
- बता दें कि सालाना 310 करोड़ रुपए का सैलरी पैकेज लेने वाले गूगल के सीईओ पिचाई भारत दौरे पर हैं।
- उन्होंने गुरुवार को प्रेसिडेंट प्रणब मुखर्जी और पीएम नरेंद्र मोदी से भी मुलाकात की।
एसआरसीसी में ड्रीम के बारे में पिचाई ने क्या कहा था?
हर्षा : कई लोग कल के बारे में सपने देखते हैं। आप क्या कल के बारे में सोचते थे?
पिचाई : औरों की तरह मैंने भी सपने देखे। क्रिकेटर बनना चाहता था। सुनील गावसकर का बहुत बड़ा फैन था। बाद में जब सचिन तेंडुलकर खेलने लगे, तब भी वह मेरा ड्रीम था। लेकिन मैं हमेशा टेक्नोलॉजी से प्यार करता था। यही मुझे इस प्रोफेशन में खींच लाया। मैं बार्सिलोना फुटबॉल टीम का फैन हूं। जब मैं यंग था तो मैं आधी रात को उठकर फुटबॉल मैच देखता था। मैं मेसी का भी फैन हूं।
पिचाई से रैपिड फायर राउंड में हर्षा भोगले ने क्या किए सवाल?
#1. आपने कब पहला फोन खरीदा?
पिचाईः मोटोरोला 1995-96 में, मैंने तो उसे ही स्मार्टफोन समझा था। और पहला स्मार्ट फोन 2006 में खरीदा था।
#2. कितने स्मार्ट फोन घर में हैं?
पिचाईः मैं कबूल करूंगा कि मेरे घर में 20-30 स्मार्टफोन हैं।

#3. कोडिंग क्या सबके लिए जरूरी है?
पिचाईः नहीं, पर इसे मजबूती से बढ़ावा देना चाहिए।

#4. 12वीं में कितने नंबर लाए थे?
पिचाईः इतने नहीं मिले थे कि श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में एडमिशन मिल सके। आईआईटी में 12वीं के नंबर्स के बेस पर एडमिशन नहीं मिला था।
#5. 12वीं के नंबर्स कितने जरूरी हैं?
पिचाईः कई सारे टीचर्स यहां बैठे हैं, इसलिए इसका जवाब देना ठीक नहीं होगा।

#6. 30 साल में गूगल कहां होगा?
पिचाईः बड़ा सवाल है। 30 साल में हम उन दिक्क्तों पर काम करते रहेंगे जो लोगों की जिंदगी से जुड़ी हैं या उन पर असर डालती हैं। जो इंसानियत से जुड़ी हैं। यही हमारा कोर पार्ट होगा। ऐसे किसी प्रोडक्ट पर काम करना जो सब लोगों तक किसी न किसी दिन पहुंचे। जो लोगों की जिंदगी को बदले। सभी तक पहुंचाना यह हमारे काम का फाउंडेशन है।

#7. गगन कायरा ने सोशल मीडिया से पूछा- इंडियंस के लिए स्पेशल एजुकेशन स्टारवार कार्डबोर्ड क्यों नहीं है?
पिचाईः हमें इसका सॉल्यूशन निकालना होगा। पिछले हफ्ते इस बारे में बात हुई है।
कौन हैं सुंदर पिचाई?
- सुंदर पिचाई चेन्नई में 1972 में जन्मे।
- उनका मूल नाम पिचाई सुंदराजन है, लेकिन उन्हें सुंदर पिचाई के नाम से जाना जाता है।
- पिचाई ने अपनी बैचलर डिग्री आईआईटी, खड़गपुर से ली है। उन्होंने अपने बैच में सिल्वर मेडल हासिल किया था।
- यूएस में सुंदर ने एमएस की पढ़ाई स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी से की और व्हार्टन यूनिवर्सिटी से एमबीए किया।
- वे 11 साल से गूगल में हैं। उन्होंने 2004 में गूगल ज्वाइन किया था। उस समय वे प्रोडक्ट और इनोवेशन अफसर थे।
- सुंदर सीनियर वाइस प्रेसिडेंट (एंड्रॉयड, क्रोम और ऐप्स डिविजन) रह चुके हैं।
- पिछले साल अक्टूबर में उन्हें गूगल का सीनियर वीपी (प्रोडक्ट चीफ) बनाया गया था।
- एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम के डेवलपमेंट और 2008 में लॉन्च हुए गूगल क्रोम में उनकी बड़ी भूमिका रही है।
- जब पिचाई अपनी आगे की पढ़ाई के लिए चेन्नई से यूएस जाना चाहते थे तो उनके पिता को एयर टिकट के लिए कर्ज लेना पड़ा था।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...