हमें चाहने वाले मित्र

14 दिसंबर 2015

कोसोवो : सरकार का विरोध करने के लिए अपोजिशन ने संसद के अंदर छोड़ी आंसू गैस

कोसोवो में सोमवार को अपोजिशन मेंबर्स ने पार्लियामेंट के अंदर ही अांसू गैस के सिलेंडर खोल दिए।
कोसोवो में सोमवार को अपोजिशन मेंबर्स ने पार्लियामेंट के अंदर ही अांसू गैस के सिलेंडर खोल दिए।
प्रिस्टीना (कोसोवो). कोसोवो में सोमवार को अपोजिशन मेंबर्स ने पार्लियामेंट के अंदर ही अांसू गैस के सिलेंडर खोल दिए। इससे संसद में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। यही नहीं, गैस से परेशान मेंबर्स को बाहर जाने से भी रोका गया। संसद के अंदर आंसू गैस छोड़े जाने की यह घटना अक्टूबर के बाद से तीसरी बार हुई।
कोसोवो में क्यों हो रहा है हंगामा?
- कोसोवा की सरकार ने हाल ही में दो समझौते किए हैं।
- एक समझौते के तहत कोसोवो में सर्बियाई मूल के लोगों को अब ज्यादा अधिकार मिलेंगे।
- दूसरे समझौते के तहत पड़ोसी देश मॉन्टेनेग्रो से सटी बॉर्डर तय कर दी गई है।
- इन्हीं समझौतों का अपोजिशन पार्टी ‘अलायंस फॉर कासोवो फ्यूचर’ विरोध कर रही है।
- विरोध इतना तेज हो रहा है कि अक्टूबर से अपोजिशन मेंबर्स आंसू गैस, पेपर स्प्रे और बोतलें लेकर संसद में आ रहे हैं।
- सरकार के मेंबर्स जब कुछ बोलने कीे कोशिश करते हैं तो अपोजिशन आंसू गैस छोड़ता है या फिर सीटियां बजाकर विरोध करता है।
- विवाद इतना बढ़ चुका है कि दो महीने पहले ही यहां अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी बातचीत में दखल देने आए थे।
संसद में क्या हुआ?
- सोमवार को पार्लियामेंट सेशन शुरू होते ही ही अपोजिशन मेंबर्स ने टियर गैस के दो सिलेंडर लेकर घुसने की कोशिश की।
- सुरक्षाकर्मी इन्हें नहीं रोक पाए। अंदर सरकार के मेंबर्स स्पीच दे रहे थे। तभी अपोजिशन मेंबर्स ने टियर गैस के सिलेंडर खोल दिए गए।
- पार्लियामेंट में चारों तरफ आंसू गैस भर गई। वहां मौजूद ज्यादातर मेंबर्स हॉल छोड़कर बाहर जाने लगे।
- इस दौरान सरकार के मेंबर्स को अपोजिशन मेंबर्स ने बाहर निकलने से रोक दिया।
- संसद के बाहर भी जमकर हंगामा हुआ। बिल्डिंग के शीशे तोड़ दिए गए।
अपोजिशन की नए इलेक्शन कराने की मांग
- विपक्षी सदस्यों की मांग है कि पार्लियामेंट सेशन को तब तक टाल दिया जाए जब तक सरकार नए समझौतों को रद्द न कर दे।
- अपोजिशन का आरोप है कि इस समझौते से कोसोवो में रहने वाले सर्बिया मूल के लोग ज्यादा ताकतवर हो जाएंगे।
- अपोजिशन ने सरकार को नए सिरे से चुनाव कराने का भी सुझाव दिया है।
- इस मामले में अपोजिशन ने सरकार, राष्ट्रपति और इंटरनेशनल कम्युनिटी से बातचीत की पेशकश को भी ठुकरा दिया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...