हमें चाहने वाले मित्र

03 दिसंबर 2015

प्लेन गिराने वाले तुर्की से पुतिन बोले-अल्लाह ने फैसला कर लिया है, पछताना पड़ेगा

रूस की संसद में स्पीच देते हुए प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन।
रूस की संसद में स्पीच देते हुए प्रेसिडेंट व्लादिमीर पुतिन।
मॉस्को. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने एक बार फिर तुर्की को चेतावनी दी। गुरुवार को रूस की संसद में उन्होंने कहा, ''हमारे फाइटर प्लेन को गिराने वाले तुर्की को हम नहीं भूलेंगे। उसे पछताना ही पड़ेगा । अल्लाह ने फैसला कर लिया है।'' बता दें कि 24 नवंबर को तुर्की ने रूस का फाइटर प्लेन मार गिराया था।
गुरुवार को पुतिन ने क्या कहा?
- गुरुवार को पुतिन ने देश के सांसदों को ऐड्रेस करते हुए कहा- तुर्की में प्लेन गिराने वालों को यह पता चलना चाहिए कि हम उन्हें सबक सिखाएंगे।
- हम उन्हें याद दिलाएंगे जो उन्होंने किया है, इसके लिए उन्हें पछताना तो पड़ेगा।
- वे (तुर्की) क्या कर रहे हैं अल्लाह ही जाने। लेकिन उन्होंने जो किया है उसके लिए अल्लाह ने उन्हें सजा देने का फैसला कर लिया है।
- पुतिन ने कहा- यदि कोई सोच रहा है कि रूस का रिएक्शन सिर्फ ट्रेड सैंक्शंस (आर्थिक पाबंदी) तक रहेगा तो वे बहुत बड़ी गलती कर रहे हैं।
- पुतिन ने सीरिया में मार गिराए गए Su-24 के पायलट की विधवा के साहस की तारीफ की। इस दौरान क्रेमलिन में ऑडियंस के बीच मारे गए पायलट की पत्नी बैठी थी।

रूस की संसद में क्या हुआ?
- इस मौके पर पिछले महीने मिस्र में गिराए गए रूसी प्लेन में मारे गए लोगों के लिए भी शोक सभा की गई।
- बता दें कि अक्टूबर में मिस्र में रूसी एयरलाइनर गिराया गया था। इसमें 224 लोगों की मौत हो गई थी। बाद में पता चला था कि आईएसआईएस ने प्लेन में बम रखा था।
- पारंपरिक तौर पर ऐसी स्पीच में देश का राष्ट्रपति घरेलू मुद्दों पर फोकस रखता है।
- पार्लियामेंट में पुतिन ने अपनी स्पीच में सबसे ज्यादा फोकस आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई पर दिया।
- रशियन टेलीविजन पर इस स्पीच का लाइव टेलिकास्ट हुआ।

पुतिन ने क्यों दिया ऐसा बयान?

- 24 नवंबर को रूस के फाइटर प्लेन को तुर्की की मिलिट्री ने निशाना बनाया था।
- इस हमले में एक रूसी पायलट की मौत हो गई थी। दूसरा किसी तरह बच कर सीरिया पहुंचा था।
- व्लादिमीर पुतिन ने कहा था कि रूस का फाइटर प्लेन गिराना पीठ में छुरा मारने जैसा है। यह 'आतंकवादियों के साथियों' ने किया है। पुतिन ने कहा कि इस घटना का रूस और तुर्की के रिश्तों पर गंभीर असर पड़ेगा।
तुर्की ने क्या दी थी दलील?

- तुर्की ने दावा किया था कि रूस का फाइटर प्लेन हैते सूबे के एयरस्पेस में घुस आया था।
- तुर्की मिलिट्री का कहना था कि प्लेन टारगेट करने से पहले पांच मिनट में हमने 10 बार चेतावनी दी थी। जिसके बाद एक्शन लेना पड़ा।
- 11 अक्टूबर को भी तुर्की की आर्मी ने एक रूसी फाइटर प्लेन मार गिराया था।
रूस-तुर्की में क्या है विवाद?
> रूस और तुर्की में सीरिया को लेकर विवाद चल रहा है।
> तुर्की, अमेरिका और फ्रांस साथ हैं। वहीं, रूस खुद आईएसआईएस पर हमले कर रहा है, लेकिन वह सीरिया के राष्ट्रपति असद का साथ दे रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...