हमें चाहने वाले मित्र

20 अक्तूबर 2015

मेरे खिलाफ,,,,,,

मेरे खिलाफ मेरे दोस्त जब साज़िशें रचते है ,,मेरे अपने मेरे खिलाफ बोलते है ,,मुझे धोखा देते है ,,मेरे पीछे से मेरे खिलाफ मेरे अपने ,मेरे अपनों को भड़काते है ,,बहकाते है ,,,चुगली करते है ,,,,,,मेरा अपमान करते है ,,लेकिन अल्लाह जब कुछ हालत बनाकर उन्हें जब मेरे सामने उनकी उन घिनोनी हरकतों को भुलाकर मेरे पास मदद के लिए भेजता है ,,तो में उनसे नाराज़ नहीं होता ,,उनसे उनकी हरकतों की शिकायते नहीं करता ,,मेरी हैसियत में जो भी है वोह में उनके लिए करने से इंकार नही करता ,,में उन्हें माफ़ कर देता हूँ ,,सच जब यह लोग मेरी बुराई करते है ,,मेरे अपने इनकी आवाज़े टेप कर मुझे सुनाते है ,,,इनकी हरकते बताते है तब भी मुझे गुस्सा नहीं आता ,,तरस आता है और मेरे मुंह से सिर्फ यही निकलता है ,,अल्लाह इन्हे माफ़ करना ,,और जब यह मेरे सामने मदद को आते है ,,,तो में इन्हे माफ़ कर इनकी मदद बिना किसी लालच के करता हूँ ,,तो यक़ीनन मेरे कई दोस्त मेरी बुराई करने वालो के साथ मेरे इस माफ़ी के व्यवहार पर नाराज़ होकर मुझे बेवक़ूफ़ समझते है ,,मुझे उलाहना देते है ,,लेकिन सच और कड़वा सच यह है मेरे दोस्तों के माफ़ी की इस तहज़ीब से अल्लाह मुझे सुकून देता है ,,ऐसा सुकून जो शायद किसी को जन्नत में भी ना मिलता होगा ,,माफ़ कर देने के इस सुकून से मेरा सीना फूल जाता है ,,दिमाग में ठंडक होती है ,,चेहरे पर मुस्कान होती है और मिजाज़ में सुकून ही सुकून होता है ,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...