हमें चाहने वाले मित्र

17 सितंबर 2015

शीना मर्डर: पुलिस इंस्पेक्टर का दावा- बॉडी मिलने पर एसपी ने FIR दर्ज करने से रोका

फाइल फोटो: कोर्ट में पेशी के बाद पुलिस कस्टडी में इंद्राणी मुखर्जी।
फाइल फोटो: कोर्ट में पेशी के बाद पुलिस कस्टडी में इंद्राणी मुखर्जी।
मुंबई: शीना बोरा मर्डर केस में नया टि्वस्ट आया है। एक पुलिस इंस्पेक्टर ने दावा किया है कि तीन साल पहले मुंबई के करीब रायगढ़ के जंगलों से शीना की डेड बॉडी मिलने के बाद उसके सीनियर ने मामला दर्ज करने से रोका था। इस खुलासे से यह सवाल उठने लगा है कि क्या शीना बोरा के मर्डर के मामले को दबाने की कोशिश की गई थी?
सूत्रों के मुताबिक, पुलिस इंस्पेक्टर सुभाष मिर्गे ने दावा किया है कि तत्कालीन रायगढ़ एसपी आरडी शिंदे ने उन्हें एफआईआर दर्ज करने से मना किया था। मर्डर केस की जांच के दौरान इंस्पेक्टर ने अपना यह बयान दर्ज करवाया है। उस वक्त रायगढ़ में तैनात मिर्गे फिलहाल पुणे में हैं।
क्या है इंस्पेक्टर का बयान?
एक अंग्रेजी अखबार की रिपोर्ट के मुताबिक, मिर्गे ने कहा, ''लाश मिलने के बाद मैंने पंचनामा भरना शुरू किया। मैं मर्डर का केस फाइल करना चाहता था। एसपी शिंदे ने कहा कि मैं एफआईआर या एक्सीडेंटल डेथ रिपोर्ट (एडीआर) भी फाइल न करूं। इसके बाद, मैंने स्टेशन डायरी में एंट्री की थी।'' मिर्गे के मुताबिक, बॉडी के अवशेष को वहीं दफना दिया गया, जहां से उसे बरामद किया गया था।
क्या कहना है एसपी का?
फिलहाल मुंबई में एडिशनल कमिश्नर के तौर पर तैनात शिंदे ने मिर्गे के बयान पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, '' मैं सिर्फ इतना कह सकता हूं कि मैंने इस मामले में पूरा पेपरवर्क किया था। जल्द ही अपना यह बयान संबंधित अधिकारियों के सामने दर्ज कराऊंगा।''
क्या हुआ था?
24 साल की शीना का कथित तौर पर उसकी मां इंद्राणी, सौतेले पिता संजीव खन्ना और एक ड्राइवर ने 24 अप्रैल 2012 को मुंबई में एक कार में हत्या कर दी। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, मर्डर के बाद शीना के शव को इंद्राणी के पति और स्टार टीवी के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी के घर पर ले जाया गया। बाद में बॉडी को रायगढ़ के जंगलों में जलाकर ठिकाने लगाने की कोशिश की गई। एक महीने बाद शव के अवशेष मिलने के बाद गांववालों ने पुलिस को जानकारी दी थी। उस वक्त पुलिस ने कहा था कि शव की पहचान नहीं हो पाई।
क्या जांच कर रही पुलिस?
शीना की बॉडी मिलने के बाद पुलिस की ओर से की गई चूक की आशंकाओं के मद्देनजर यह जांच की गई है। मुंबई पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि क्या शव मिलने के बाद सही तरीके से फोरेंसिक टेस्ट नहीं किए गए? क्या उन सबूतों का पीछा नहीं किया गया, जिनकी मदद से इस मर्डर का खुलासा काफी पहले हो सकता था? मामले की रिपोर्ट मुंबई पुलिस ने डीजी संजीव दयाल के पास सब्मिट कर दी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...