हमें चाहने वाले मित्र

08 सितंबर 2015

,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान की सोच है के उर्दू जुबां किसी मज़हब की जुबां नहीं

तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान अब शिक्षको से स्कूलों में बेहतर शिक्षा प्रदर्शन सहित अपनी ड्यूटी ज़िम्मेदारी से निर्वहन करने की अपील के साथ साथ तहरीक से जुड़े कार्यकर्ताओ से घर घर उर्दू पढ़ाने का अभियान चलाने का पैगाम भी देगी ,,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान की सोच है के उर्दू जुबां किसी मज़हब की जुबां नहीं ,,यह हिंदुस्तान की जुबां है ,,,तहज़ीब की जुबां है और इस जुबां पर सभी भारतीयों का हक़ और इसके फरोग के लिए उनका फ़र्ज़ भी है ,,वर्तमान में उर्दू को बचाने के लिए संघर्ष में तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान के आंदोलन के सभी उर्दू के हमदर्द समर्थको को धन्यवाद उनका शुक्रिया ,,,,हाल ही कोटा संभाग में इक्यासी उर्दू टीचर की सूचि में एक दर्जन से भी अधिक दूसरे समाज के शिक्षक भी शामिल है जो सिर्फ और सिर्फ उर्दू में बी एड कर उर्दू पढ़ा रहे है ,,,,,,,,,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान अब मोहल्ले के हिसाब से सभी स्कूलों में उर्दू विषय पढ़ाने ,,छात्र छात्राओ द्वारा उर्दू विषय आवेदन करने वक़्त पढ़ने के लिए भरने ,,,,अभिभावकों द्वारा अपने बच्चो को उर्दू पढ़ाने ,,स्कूलों में शिक्षक उर्दू पढ़ा रहे है या नहीं इस पर निगरानी रखने ,,,,सभी स्कूलों में छात्र छात्राओ को उनकी इच्छानुसार उर्दू विषय पढ़ाया जा रहा है या नहीं इसका सर्वे करने सहित कई मुद्दो पर निगरानी रहेगी ,,,हर क्षेत्र में उर्दू के जानकार महिला ,,बच्चो ,,नौजवान ,,बुज़ुर्गो को उनकी इच्छानुसार उर्दू पढ़ना और लिखना सिखाएंगे इसमें धर्म मज़हब का कोई बंधन नहीं जो भी उर्दू का जानकार हो वोह पढ़ाये और जो भी उर्दू पढ़ना चाहे वोह उर्दू पढ़े ऐसी व्यवस्था होगी ,,,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान अब अगला अभियान केंद्रीय शिक्षा बोर्ड द्वारा संचालित इंग्लिश मीडियम ,,मिशिनरी स्कूलों में भी केंद्रीय शिक्षा बोर्ड नियमो के तहत राजस्थान के सभी स्कूलों में छात्रों की इच्छा और संख्या के अनुरूप उर्दू पढ़ाने की बाध्यता करवाई जायेगी ,,,इस मामले में यदि आवश्यक हुआ तो तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान अपनी तरफ से स्व वित्त पोषण योजना के तहत उर्दू के अस्थाई अस्थाई अध्यापक नियुक्त कर उनकी सेवाएं दिलवाएगी ,,,,,,,,,,,,,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान के को कन्वीनर एडवोकेट अख्तर खान अकेला ने कहा के तहरीक के सरपरस्त कोटा शहर क़ाज़ी अनवार अहमद ने साफ़ किया है के अभी राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा चयनित अध्यापको को नियुक्ति देने ,,व्यवस्थार्थ लगाये गए शिक्षको को स्थाई तोर पर पदस्थापित करने ,,जिन स्कूलों में शिक्षक नहीं होने से छात्रों ने उर्दू के आलावा दूसरा विषय इच्छा के खिलाफ भरा है उसे फिर से उर्दू भरवाने के अभियान पर भी निगरानी रहेगी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...