हमें चाहने वाले मित्र

08 सितंबर 2015

अपंग लड़की से हुआ केयर टेकर को प्यार, शादी के बाद ऐसे बदली जिंदगी

सुष्मिता को कृत्रिम पैर पहनने में मदद करते दिनेश।
सुष्मिता को कृत्रिम पैर पहनने में मदद करते दिनेश।
खंडवा/इंदौर। यह कहानी है दिनेश और सुष्मिता की। दिनेश मेघवाल (24) निवासी उदयपुर ग्राम लकड़वास और सुष्मिता बागरी (22) निवासी सतना की पहली मुलाकात 2013 में अस्पताल में हुई। दिनेश वहां केयर टेकर थे।
सुष्मिता बचपन से एक बीमारी से पीड़ित थी। जिसका इलाज कराने पहुंची थी। जन्म के समय पीठ पर हुआ फोड़ा उसके जीवन की टीस बन गया। इंफेक्शन पैरों तक पहुंच गया। डॉक्टरों ने गलत पैर का ऑपरेशन कर दिया। वह दोनों पैरों से अपंग हो गई। कभी अपने पैरों पर खड़ी नहीं हो सकी। उसे ऐसी बीमार है जिसका डॉक्टर आज तक नाम भी नहीं बता पाए। यह सब जानने के बावजूद दिनेश ने उसे जीवनसाथी बनाने की ठान ली।
सुष्मिता के माता-पिता ने मना किया लेकिन वह नहीं माना। मई 2014 में शादी कर ली। सुष्मिता के परिजन ने उसे जान से मारने की कोशिश की। दोनों ने हिम्मत नहीं हारी। दिनेश ने नौकरी खोजी। इंदौर, भोपाल, जबलपुर नौकरी तलाशने निकल पड़ा। काफी भटकने के बाद खंडवा में निजी कंपनी में नौकरी मिल गई। यहां रहने लगे। दिनेश ने सुष्मिता को हिम्मत दी। दिनरात देखभाल की। कृत्रिम पैर लगाए। अब सुष्मिता कुछ मिनट अपने पैरों से खड़े होकर चलने लगी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...