हमें चाहने वाले मित्र

16 अगस्त 2015

ये है दुनिया की सबसे खूबसूरत मस्जिद, अंदर लगा है मकराना का मार्बल dainikbhaskar.com Aug 17, 2015, 07:10 AM IST Print Decrease Font Increase Font Email Google Plus Twitter Facebook COMMENTS 0 1 of 11 Next एम आबु धाबी की मशहूर शेख जायद मस्जिद एम आबु धाबी की मशहूर शेख जायद मस्जिद कोटा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की दो दिनों की यात्रा पर हैं। वो एम आबु धाबी की मशहूर शेख जायद मस्जिद पहुंचे। प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी पहली बार किसी मस्जिद में गए हैं। शीशे से जगमगाती इस मस्जिद को दुनिया में सबसे सुंदर मस्जिद माना जाता है। इस मस्जिद की सुंदरता में चार चांद लगाने में राजस्थान के मर्बल का भी अहम योगदान है। दरअसल, इसमें राजस्थान में पाया जाने वाला प्रसिद्ध मकराना का मार्बल लगवाया गया है। यही नहीं इसे बनाने वाले कारीगरों में मोरक्को, तुर्की, मलेशिया, चीन, ईरान, यूके, न्यूजीलैंड और ग्रीस के अलावा भारत के भी कारीगर शामिल थे। इस मस्जिद को बनाने में संगमरमर पत्थर, कोटा का मकराना, सोना, अर्द्ध कीमती पत्थरों, क्रिस्टल और चीनी मिट्टी की चीज़ों के अलावा प्राकृतिक सामग्री का भी प्रयोग किया गया है। ताज में भी लगा है राजस्थान का मकराना मकराना अपने संगमरमर की चमक के लिए पूरे विश्व में जाना जाता है। इनकी भव्यता का पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि इनका प्रयोग ताजमहल, हाजी अली दरगाह, सभी बिड़ला मंदिरों, विक्टोरिया मेमोरियल ऑफ कोलकाता, दिलवाड़ा का जैन मंदिर के निर्माण में किया है। भारत के ताजमहल में लगे इस संगमरमर की चमक से अभिभूत होकर विदेशी भी इसे भवन निर्माण में तेजी से अपनाने लगे हैं। यही कारण है कि खाड़ी देशों, सऊदी अरब, यूरोप, जर्मनी, फ्रांस, रूस, इटली तथा इंडोनेशिया आदि देशों में इसका निर्यात किया जाता है। इस मस्जिद के निर्माण से जुड़े कुछ तथ्य > अबु धाबी की शेख जायद मस्जिद दुनिया की 10 बड़ी मस्जिदों में शुमार है। > इसे दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी मस्जिद कहा जाता है। > इसे बनने में बारह साल लगे। > दुनिया की 10 सबसे बड़ी मस्जिदों में शुमार शेख जायद ग्रैंड मस्जिद में 40000 लोग एक साथ नमाज अता कर सकते हैं। > यहां के सबसे बड़े हाल में एक बार में 7000 लोग एक साथ नमाज़ पढ़ते हैं जबकि महिलाओं के लिए अलग इंतज़ाम है। > सउदी अरब की मक्का और मदीना मस्जिदों के बाद यह दुनिया की सबसे विशाल मस्जिद है। > इसका नाम यूएई के संस्थापक और पहले राष्ट्रपति दिवंगत जायेद बिन सुल्तान अल नाह्यान पर किया गया है। > मस्जिद पूरी तरह वातानुकूलित है।

एम आबु धाबी की मशहूर शेख जायद मस्जिद
एम आबु धाबी की मशहूर शेख जायद मस्जिद
कोटा. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की दो दिनों की यात्रा पर हैं। वो एम आबु धाबी की मशहूर शेख जायद मस्जिद पहुंचे। प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी पहली बार किसी मस्जिद में गए हैं। शीशे से जगमगाती इस मस्जिद को दुनिया में सबसे सुंदर मस्जिद माना जाता है। इस मस्जिद की सुंदरता में चार चांद लगाने में राजस्थान के मर्बल का भी अहम योगदान है। दरअसल, इसमें राजस्थान में पाया जाने वाला प्रसिद्ध मकराना का मार्बल लगवाया गया है। यही नहीं इसे बनाने वाले कारीगरों में मोरक्को, तुर्की, मलेशिया, चीन, ईरान, यूके, न्यूजीलैंड और ग्रीस के अलावा भारत के भी कारीगर शामिल थे। इस मस्जिद को बनाने में संगमरमर पत्थर, कोटा का मकराना, सोना, अर्द्ध कीमती पत्थरों, क्रिस्टल और चीनी मिट्टी की चीज़ों के अलावा प्राकृतिक सामग्री का भी प्रयोग किया गया है।
ताज में भी लगा है राजस्थान का मकराना
मकराना अपने संगमरमर की चमक के लिए पूरे विश्व में जाना जाता है। इनकी भव्यता का पता इसी बात से लगाया जा सकता है कि इनका प्रयोग ताजमहल, हाजी अली दरगाह, सभी बिड़ला मंदिरों, विक्टोरिया मेमोरियल ऑफ कोलकाता, दिलवाड़ा का जैन मंदिर के निर्माण में किया है। भारत के ताजमहल में लगे इस संगमरमर की चमक से अभिभूत होकर विदेशी भी इसे भवन निर्माण में तेजी से अपनाने लगे हैं। यही कारण है कि खाड़ी देशों, सऊदी अरब, यूरोप, जर्मनी, फ्रांस, रूस, इटली तथा इंडोनेशिया आदि देशों में इसका निर्यात किया जाता है।
इस मस्जिद के निर्माण से जुड़े कुछ तथ्य
> अबु धाबी की शेख जायद मस्जिद दुनिया की 10 बड़ी मस्जिदों में शुमार है।
> इसे दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी मस्जिद कहा जाता है।
> इसे बनने में बारह साल लगे।
> दुनिया की 10 सबसे बड़ी मस्जिदों में शुमार शेख जायद ग्रैंड मस्जिद में 40000 लोग एक साथ नमाज अता कर सकते हैं।
> यहां के सबसे बड़े हाल में एक बार में 7000 लोग एक साथ नमाज़ पढ़ते हैं जबकि महिलाओं के लिए अलग इंतज़ाम है।
> सउदी अरब की मक्का और मदीना मस्जिदों के बाद यह दुनिया की सबसे विशाल मस्जिद है।
> इसका नाम यूएई के संस्थापक और पहले राष्ट्रपति दिवंगत जायेद बिन सुल्तान अल नाह्यान पर किया गया है।
> मस्जिद पूरी तरह वातानुकूलित है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...