हमें चाहने वाले मित्र

26 अगस्त 2015

ज़रा तौलिया देना ।

पति बाथरूम में घुसा
और नहाने के बाद :-
अरे सुनो ,
ज़रा तौलिया देना ।
पत्नी (चिल्ला के ) :-
हमेशा बिना तौलिये के नहाने जाते हो ।
अब मैं चाय बनाऊँ या तौलिया दूं ।
बनियान भी धो के नल पे टांग देते हो
वो भी मैं उठाऊं ।
नहाने के बाद वाइपर भी नहीं चलाते ।
कल लाइट भी खुली छोड़ दी थी तुमने ।
गीले गीले बाहर निकलोगे तो
पूरे घर में गीले पैरों के निशान बना दोगे ।
फिर उस पे मिटटी पड़ेगी तो
सब जगह गन्दी हो जाएगी ।
एक बार नौकरानी उसपे फिसल गयी थी ।
फिर ३ दिन तक नहीं आई ।
मेरा क्या हाल हुआ था काम कर कर के ।
पति (मन में सोचते हुए ) :-
साला ,
नहा के गलती कर दी
या शादी करके की
यह सोचने की भी ताकत नहीं रही ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...