हमें चाहने वाले मित्र

11 अगस्त 2015

नौकरशाहों की सरपरस्त और जन्पर्तीिनिधियों की दुश्मन बनी भाजपा से कोटा की जनता का सीधा सवाल

नौकरशाहों की सरपरस्त और जन्पर्तीिनिधियों की दुश्मन बनी भाजपा से कोटा की जनता का सीधा सवाल है ,,आखिर कोटा उत्तर के मतदाताओं का क्या क़ुसूर है ,,,भाजपा हाईकमान से कोटा उत्तर की जनता का सवाल है के एक जन्पर्तीिनिधि जिसे विकट परिस्थितियों में कोटा की जनता ने कोटा के विकास ,,कोटा की समस्याओं के समाधान के लिए चुना ,,उस जन प्रतीनिधी को कार्यकर्ता का शोषण करने वाले नौकरशाह के खिलाफ बोलने पर पार्टी से निष्कासित का दंड दिया गया ,,एक नौकर शाह जिसने जनता और पार्टी के नेताओं को गुमराह किया ,,,एक नौकर शाह जो पार्टी से ऊपर खुद को साबित करने में जुटा है वोह नौकर शाह कोटा उत्तर की जनता पर सिर्फ इसलिए भारी है क्योंकि भाजपा हाईकमान से उसके रिश्ते है ,,पूरा एक साल ना कोटा उत्तर को मंत्री पद मिला ,,ना कोटा को कोई विकास ,,,,सिर्फ एक विधायक के नाते ,,एक जागरूक जन प्रतीनिधी के नाते निर्वाचित विधायक प्रह्लाद गुंजल जो कर सके किया ,,लेकिन भाजपा ने ऐसे जागरूक विधायक से पार्टी की सदस्य्ता का हक़ भी छीन लिया ,,एक साल से भी ज़्यादा वक़्त होने के बाद भी आज तक ना जाने क्यों ,,,ना जाने किस दबाव में ,,,न जाने किस सियासत में ,,,न जाने कोटा उत्तर के वोटर्स से भाजपा के किस बदले के भाव की वजह से भाजपा हाईकमान ने आज तक कोटा उत्तर के विधायक को फिर से पार्टी की ज़िम्मेदारी सौंप कर अपने क्षत्र की जनता के लिए कोई सरकार में अहमियत वाला पद देकर कोई ज़िम्मेदारी नहीं दी है ,,भाजपा हाईकमान की यह नौकरशाह के प्रति सम्मान और जन प्रतीनिधी के प्रति अपमान का भाव कोटा उत्तर के वोटर्स को पसंद नहीं आ रहा है ,,वैसे भी हाईकमान जानता है के प्रह्लाद गुंजल कागजो में चाहे कथित रूप से भाजपा से निष्कासित हो लेकिन भाजपा कार्यकर्ताओें के दिलों पर आज भी उनका ही राज है ,,और इसीलिए भाजपा कार्यकता आज भी प्रह्लाद गुंजल को ज़िंदाबाद कहते है ,,,,,कोटा उत्तर के कार्यकताओं की अब तो यही पुकार है भाजपा हाईकमान अब तो सुधरो ,,,,कार्यकर्ताओं का सम्मान करने वाले ,,,कार्यकर्ताओं को उनका हक़ दिलवाने वाले जन प्रतीनिधी प्रह्लाद गुंजल को पार्टी में बहाल कर सरकार की ज़िम्मेदारी भी दे ताके कोटा में विकास कार्यों की शुरुआत हो सके ,,नौकरशाहों की नाक में नकेल डाली जा सके और जनता को इन्साफ और विकास दोनों एक साथ मिल सके ,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...