हमें चाहने वाले मित्र

24 अगस्त 2015

रघुवीर सिंह कौशल अब हमारे बीच नहीं रहे है

पूर्व सांसद और राजस्थान सरकार में लोकर्पिय मंत्री ,,भाजपा के राजस्थान के सुप्रीमो रहे आदरणीय रघुवीर सिंह कौशल अब हमारे बीच नहीं रहे है ,,वोह पक्षाघात से पीड़ित थे आज उनका निधन हो जाने से भाजपा ,,राजस्थान सरकार और कोटा के सभी लोग शोकाकुल है ,,,रघुवीर सिंह के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार उनके पैतृक गाँव भोज्याखेड़ी अन्ता में  सुबह दस बजे क्या जाएगा ,,,उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित करने कोटा अभिभाषक परिषद में बुधवार छब्बीस अगस्त को शोक सभा आयोजित की जायेगी ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,भारतीय जनसंघ से ,,आर एस एस का ,,,जनता पार्टी और फिर भारतीय जनता पार्टी में रहकर कार्यकर्ताओें की सुनवाई ,,पार्टी का ईमानदारी से काम ,,सर्वोच्च पदों पर रहने के बाद भी ईमानदारी की मिसाल ,,,बेईमान ,,अकर्मण्य कार्यकर्ताओं के लिए कोपभाजन की मिसाल रहे आदरणीय रघुवीर सिंह कौशल कोटा भाजपा की नाक रहे है ,,,,,,,,,,,,,,,,,बाईस फरवरी उन्नीस सो तेतीस में कोटा ज़िले के ग्राम भोज्याखेड़ी में कन्हय्या लाल कौशल के घर में श्रीमती सोमवती देवी ने इस प्रतीभा को जन्म दिया ,,,,कोटा में ही पढ़ाई विधि स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के बाद भी गाँव से लगाव के कारण यह गाँव में कृषि व्यवसाय से जुड़े रहे और कृषि तकनीक में कई विधाओ को विकसित किया ,,,अंता कृषि उपज सोसाइटी से जुड़कर किसानो की राजनीति शुरू की ,,आर एस एस के सजग सतर्क सिपाही रहे ,,,भारतीय जनसंघ के पदाधिकारी रहे ,,,,कोटा कॉपरेटिव बैंक के पदाधिकारी रहे ,,चेयरमेन रहे ,,अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के फाउंडर सक्रिय कार्यकर्ता रहे ,,भारतीय किसान संघ ,,सहकारी संघ ,,,कृषक संघ से जुड़े रहने के बाद रघुवीर सिंह कौशल राष्ट्रिय सेवक संघ के संभागीय अध्यक्ष रहे ,,,रघुवीर सिंह कौशल राजस्थान में कोटा ज़िले से चार बार विधायक रहे ,,दो बार केबीनेट मंत्री रहे ,,पर्यावरण ,,वन ,,बिजली जैसे महत्वपूर्ण विभाग इनकी ज़िम्मेदारी थे ,,,,बाद में संगठन को दिशा देने के लिए रघुवीर सिंह कौशल को राजस्थान भाजपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया ,,रघुवीर सिंह कौशल दो बार लोकसभा सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए ,,,जहां एक दर्जन से भी ज़्यादा प्रमुख समितियों में सदस्य रहकर सलाह मशवरा देते रहे ,,,रघुवीर सिंह कौशल साफ गोई के लिए प्रसिद्ध थे ,,उनके कार्यकर्ता अगर लॉग लपेट या फिर फेंका फेंकी करते है तो उन्हें पसंद नहीं वोह ज़मीन से जुड़े नेता होने से ज़मीन से जुड़े कार्यकर्ताओें को ही पसंद करते थे ,,आसमान में उड़ने वाले कार्यकर्ता ,,नेता उन्हें पसंद नहीं थे ,,वोह मंत्री पद पर रहे या न रहे लेकिन उनकी अधिकारीयों पर पकड़ मज़बूत रहती थी ,,उनके निजी सम्बन्ध मज़बूत थे ,,वोह कांग्रेस भाजपा के कार्यकर्ता नहीं देखते सिर्फ पीड़ा देखते थे अगर पीड़ित किसी भी धर्म मज़हब समाज का हो तो उसकी पीड़ा हरना ही उनका राजनितिक धर्म था ,,,,,,,,आपात काल में मीसा क़ानून के तहत बंदी बनाये जाने के बाद भी आप निर्भीकता से प्रशासन के शोषण उत्पीड़न का मुखर होकर मुक़ाबला करते ,,,,,एक मुस्लिम चिकित्स्क किसी झूंठे मामले में फंसाये गए ,,कांग्रेस का शासन ,,इन चिकित्स्क महोदय ने कांग्रेस के सभी नेताओं से पूर्लिस के आला अधिकारीयों को सिफारिश करवाई ,,लेकिन काम उलटा हुआ ,,पुलिस इन्हे गिरफ्तार करने घर पहुंच गयी ,,तब यह चिकित्स्क परेशान से मेरे पास आये ,,पूरा मुक़दमा झूंठा ,,भूमाफियाओं का नंगा खेल ,,,,पुलिस और भूमाफियाओं की मिली भगत ,,मेने इन्हे वरिष्ठ कोंग्रेसियों और सत्ता में बैठे मंत्रियों से मिलने की सलाह दी सभी से यह मिल चुके लेकिन नतीजा सिफर रहा ,,,मुझे ध्यान आया तो मेने इन चिकित्स्क महोदय से रघुवीरसिंघ कौशल से संबंधो के बारे में पूंछा ,,कौशल से इन चिकित्स्क महोदय के बेहतर सम्बन्ध थे ,,लेकिन मुझ से इन चिकित्स्क महोदय ने कहा के में परेशानी में हूँ सरकार कांग्रेस की है और आप भाजपा के नेता से सिफारिश की सलाह दे रहे है उलटा काम कैसे होगा ,,मेने जब उनसे कहा के अगर काम करवाना है ,,न्याय प्राप्त करना है तो वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के पास उन्हें ही ले जाना होगा ,,खेर मरता क्या नहीं करता ,, चिकित्स्क महोदय उठे और रघुवीर सिंह कौशल को अपना दुखड़ा सुनाया ,,कौशल जी ने कहा में चलता हूँ लेकिन तुम्हारी बात समझाने के लिए अख्तर को बुला लो ,,में भी साथ गया ,,,,अधिकारी ने कौशल के पाँव छुए ,,कोफ़ी का पूंछा फिर कैसे आना हुआ कहा तब कौशल साहब ने अधिकारी से कहा के यह डॉक्टर मेरा पारिवारिक मित्र है ,,ईमानदार है ,,,,परेशान है ,,,इसके खिलाफ फ़र्ज़ी कार्यवाही है ,,,अगर यह डॉक्टर अपराधी है तो में भी अपराधी हूँ ,,इसलिए इसे इंसाफ दो ,,,उन्होंने मेरी तरफ इशारा किया कहा आप मामला समझाओ ,,पुलिस अधिकारी ने फ़ाइल मंगाई और ताज्जुब जताया के फ़र्ज़ी मामले में यह कार्यवाही कैसे हुई ,,बस उस दिन से आज तक पुलिस ने इन चिकित्स्क महोदय के मामले में दूध का दूध पानी का पानी कर दिखाया और प्रकरण बंद हो गया ,,,,आज भी अपने कमरे में बैठे रघुवीर सिंह कौशल राजस्थान सरकार हो या फिर भारत सरकार इसके किसी भी विभाग में इन्साफ के लिए कोई भी काम करवाने की क्षमता रखते थे ,,,भारतीय जनसंघ से ,,आर एस एस का मार्च ,,,जनता पार्टी और फिर भारतीय जनता पार्टी में रहकर कार्यकर्ताओें की सुनवाई ,,पार्टी का ईमानदारी से काम ,,सर्वोच्च पदों पर रहने के बाद भी ईमानदारी की मिसाल ,,,बेईमान ,,अकर्मण्य कार्यकर्ताओं के लिए कोपभाजन की मिसाल रहे आदरणीय रघुवीर सिंह कौशल कोटा भाजपा की नाक थे ,आज रघुवीर सिंह कौशल के सिर्र्फ क़िस्से और यादे शेष बची है ,,उनके आदर्श ,,उनके संदेश ,,उनकी जीवनशैली एक प्रेरणा ,,आएक मार्दर्शक ,,एक यादगार है उनको श्रद्दा सुमन ,,श्रद्धांजलि ,,ईश्वर उनकी आत्मा को शांति और दुखी परिवार ,,भाजपा परिवार को इस संकट की घडी में हिम्मत और सब्र प्रदान करे ,,,,अखतर खान अकेला कोटा राजस्थान ,,,,,,,,,,,,,,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...