हमें चाहने वाले मित्र

18 जुलाई 2015

ईद मनाते हे.

आओ एक ईद मनाते हे..
कुछ सेवेयां तुम ले आओ ..
कुछ उसमे दूध हम मिलाते हे..
आओ एक ईद मनाते हे..
एक दिया तुम रख दो मंदिर में ..
एक शमां हम मस्जिद में जलाते हे..
आओ एक ईद मनाते हे..
क्यों तेरा मेरा कर लड़ते रहे अब तक ..
शाहे शरीर हे.. बे- गेरत ये सब को बताते हे..
आओ एक मुक्कमल ईद मनाते हे..
बहुत हो चूका ..धर्म के नाम पर इंसानियत का बंटवारा..
अब एक हो कर सारी दुनियां को ताकत दिखाते हे .
आओ सब मिल कर एक ईद मनाते हे..
जो कहते थे कभी की हमारे दम से हे दुनियां..
आओ उन्हें हारा हुआ सिकंदर .. और कब्र में दफ़न अकबर महान दिखाते हे..
आओ सब मिल कर एक ईद मनाते हे..
सारी दीवारे ..तेरा मेरा की छोड़ कर दूध और सिवय्यें से एक हो जाते हे ..
आओ मिल कर एक ईद मनाते हे.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...