हमें चाहने वाले मित्र

29 जून 2015

कांग्रेस संगठन से जुड़कर महिलाओं ,,,दलितों ,,पीड़ितों को उनका हक़ ,,,उनके ज़ुल्म के खिलाफ दिलवाने के लिए संघर्षरत जांबाज़ कांग्रेस सिपाही नूरी खान

कांग्रेस संगठन से जुड़कर महिलाओं ,,,दलितों ,,पीड़ितों को उनका हक़ ,,,उनके ज़ुल्म के खिलाफ दिलवाने के लिए संघर्षरत जांबाज़ कांग्रेस सिपाही नूरी खान महिला को अबला नहीं समझती वोह कहती है महिलाये कुशल प्रबंधक ओर पुरुषों की सम्पूर्ण पथप्रदर्शक है ,,,नूरी खान छात्र जीवन से ही कांग्रेस की सिपाही बनकर कांग्रेस को ज़िंदाबाद करती रही है ,,,,,एक ग़ज़ल के अशआर चाहे जितने खूबसूरत हो लेकिन अगर ग़ज़ल गुनगुनाने वाले की आवाज़ में मिठास ,,खूबसूरती न हो तो उस ग़ज़ल की मक़बूलियत ,,ग़ज़ल की अहमियत कोई मायने नहीं रखती ,,लेकिन दोस्तों बहन नूरी खान ,,एक खूबसूरत ग़ज़ल भी है ,,एक मिठास लहजे के साथ लोगों के लिए हमदर्द शख्सियत की धनी भी है तो कांग्रेस के पक्ष में ज़िम्मेदारी से कठोरता से संघर्ष करने वाली एक जंगजू सिपाही भी है ,,यह बोलती है तो फूल खिलते है ,,,नूरी खान जब बोलती है तो श्रोता इन्हे मंत्र मुग्ध होकर देखते भी है तो सुनते भी है ,,इनके निराले अंदाज़ ,,निराले वक्तव्य मध्यप्रदेश कांग्रेस में जान फूंकने की कामयाब कोशिश है ,,कोई भी कांग्रेस की बैठक ,,कोई भी महफील हो नूरी खान की साफ गोई ,,कांग्रेस संगठन के प्रति समर्पण का जज़्बा ,,इन्हे कांग्रेस हीरो बना देती है ,,,,,,,,,,,,जी हाँ दोस्तों चार फरवरी उन्नीस सो अस्सी में मध्यप्रदेश में जन्मी उज्जैन में पली बढ़ी ,,भोपाल में पढ़ी लिखी नूरी खान ने बी ऐ फिर एल एल बी की परीक्षा करने के बाद अपना हमसफ़र साथी पारिवारिक निर्देशो पर रेकीबुद्दीन को चुना जो कांग्रेस के ज़िम्मेदार पदाधिकारी है और वर्तमान में आसाम सरकार में मंत्री दर्जा संसदीय सचिव शिक्षा विभाग का कार्यभार बखूबी निभा रहे है ,,,सियासत से सियासत का मिलान बखूबी हुआ और इस मिलन ने कांग्रेस के प्रति समर्पण ,,ज़िम्मेदारी के जज़्बे को और मज़बूत किया इसीलिए नूरी खान आज मध्यप्रदेश कांग्रेस की रीढ़ की हड्डी बनी हुई है ,,छात्र जीवन से ही छात्र कांग्रेस में रहकर मुखरवक्ता के रूप में अपनी पहचान बनाने वाली श्रीमती नूरी खान ,,,छात्र कांग्रेस में लगातार ज़िम्मेदारी निभाने के बाद ,,युथ कांग्रेस की मज़बूती बनी और यूथ कांग्रेस में रहकर इनके मुखर वक्तव्यों ने कोंग्रस कार्यकर्ताओं को एक नई ताक़त ,,नयी रौशनी दिखाई ,,कांग्रेस के पक्ष में इनके शोधपूर्ण कार्यों के सभी क़ायल है ,,,नूरी खान ने युवाओं के लिए संघर्ष किया ,,महिलाओं को उनका हक़ दिलवाने के लिए जागरूकता कार्यक्रम चलाये ,,नूरी खान एक मुखर वक्ता के साथ साथ बहतरीन लेखिका ,,बेहतरीन शायरा ,,कवयित्री भी है ,,,इनकी बहुमुखी प्रतीभा को देखते हुए इन्हे छात्र कांग्रेस ,,यूथ कांग्रेस ,,,,महिला कांग्रेस का जिला स्तर से शीर्ष स्तर तक के पदो पर कार्य करने का अवसर मिला और हर पद की गरीमा को इन्होें बखूबी निभाया है आम जनता के हक़ संघर्ष के लिए इन्हे कई बार जेल भी जाना पढ़ा लेकिन इन्होने ना तो हिम्मत हारी ना ही यह पीछे हठी बस कांग्रेस ज़िंदाबाद करती रही इसीलिए नूरी खान लगातार आठ वर्षो से मध्यप्रदेश कांग्रेस के मुखर वक्ता के रूप में अपनी पहचान बना चुकी है ,,नूरी खान को की नेशनल मिडिया पेनलिस्ट के रूप में भी चुना गया है जबकि इन्हे अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में सदस्य के रूप में भी नामज़द किया गया है ,,,,,,,,,कांग्रेस का कोई भी आनदोलन हो ,,,कांग्रेस का कोई भी मंच हो ,,हज़ारों की भीड़ हो ,,नूरी खान को सभी कार्यकर्ता सुन्ना चाहते है और नूरी खान हमेशा कांग्रेस की रीती नीतियों से कार्यकर्ताओं को अपनी पुरकशिश आवाज़ ,,पूरकशिश अंदाज़ में अवगत कराने में कामयाब होती है ,,वोह हर वक़्त मज़दूरों ,,गरीबों ,,शोषितो ,,युवाओ ,, महिलाओं के हक़ संघर्ष के लिए तय्यार रहती है ,,उनकी इसी जीवन शैली ,,कांग्रेस के प्रति समर्पण ,,कांग्रेस के प्रति वफादारी ,,,,लाजवाब अदाज़ ने नूरी खान को कांग्रेस की ज़रूरत बना दिया है ,,,,,,,,,,,,इसीलिए उज्जैन ,,भोपाल सहित पुरे मध्यप्रदेश कांग्रेस में नूरी खान के जज़्बे को सभी सलाम करते है और इनके नेतृत्व को स्वीकार कर इनके बताये हुए सिद्धांतो के तहत कार्यकर्ता कांग्रेस को मज़बूती देने के लिए जूट जाते है ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...