हमें चाहने वाले मित्र

07 मार्च 2021

ऐसे ही ख़यालों में मैं

ऐसे ही ख़यालों में मैं
अक़्सर लौट जाता हूँ
उस गुलमोहर के पास वाले मोड़ पर
जिसकी शीतल छाँव में
स्कूल से आते जाते ठहर जाता था मैं
उसके फूलों को देखता
मन ही मन मुस्काता था,
सड़क पर छितराये हुए
उसके फूलों की पत्तियों को
अपनी किताबों में रख देता था अक़्सर,
उसकी पत्तियों से
छनकर आती सूरज की किरणों को
हथेलियों में भर लेता था अक़्सर,
गर्मियों की दोपहर में
उसकी हल्की मगर ठंडी छाँव में
कुछ पल यूँहीं रुका रहता था अक़्सर,
आज भी कहीं जब
कोई गुलमोहर नज़र आता है तो
मैं उसकी छाँव में
ख़ुद को ही ढूँढा करता हूँ अक़्सर,
दोनों हाथ फैलाकर
सूरज की किरणों को समेटने लग जाता हूँ मैं
मगर निराशा हाथ लगती है जब
ख़ुद को ही नज़र नहीं आता हूँ मैं
ये दिखने छिपने का खेल नहीं समझ पाता हूँ मैं
ख़ुद को बहुत ही याद आता हूँ मैं
'नाशाद' ख़ुद को ही बहुत याद आता हूँ मैं।

 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...