हमें चाहने वाले मित्र

22 अप्रैल 2021

एक आम आदमी , प्रतिदिन ,, 550 लीटर ऑक्सीजन लेता है

 एक आम आदमी , प्रतिदिन ,, 550 लीटर ऑक्सीजन लेता है , एक अख़बार में विशेषज्ञ के हवाले से खबर है , इसी तरह से अस्पताल में , ऐसे आम व्यक्ति के मरीज़ बन जाने पर , उसे 1150 किलो लीटर ऑक्सीजन की ज़रूरत होती है , सही हो सकती है यह बात , लेकिन प्लीज़ कोई भी विशेषज्ञ हो , चिकित्सक हो , तो यह बताने का कष्ट करे , के अगर आम आदमी चौबीस घंटे में से , कमसे कम दस घंटे , बाहर की हवा के वक़्त , अगर मास्क लगाकर उस ऑक्सीजन को रोक देगा , तो फिर उसे प्रति दिन , 550 लीटर में से कितनी ऑक्सीजन मिलेगी , क्या नियमित ऑक्सीजन में कमी से उसे शारीरिक रूप से नुकसान नहीं होगा , फिर ऑक्सीजन की कमी की बीमारियां उसके शरीर में जन्म नहीं ,लेंगी उसके फेफड़े खुद ब खुद खराब नहीं होंगे , कोई भी वैज्ञानिक , मीडिया विशेषज्ञ , चिकित्सक , जो भी हो प्लीज़ , इस मामले में , मेडिकल साइंस की विशेषग्यता के हिसाब से जानकारी देकर अनुग्रहित करे , ताकि फिर , यह बिमारी हम खुद पैदा नहीं कर रहे , कम ऑक्सीजन होने से , इस पर भी खुलासा हो जाए , और लोग नीडर होकर , मास्क लगाने लगें , ,अख्तर

कांग्रेस राष्ट्रिय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी के निर्देशों पर , राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा , द्वारा , प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में ,, कोविड हेल्प सेंटर कहो , या फिर कंट्रोल रूम कहो , स्थापना की गयी है , यह कंट्रोल रूम कितना कारगर है , सार्थक है , इसके लिए पीड़ित लोगों को यहाँ भी मदद की गुहार करना चाहिए ,

 कांग्रेस राष्ट्रिय अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गाँधी के निर्देशों पर , राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा , द्वारा , प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में ,, कोविड हेल्प सेंटर कहो , या फिर कंट्रोल रूम कहो , स्थापना की गयी है , यह कंट्रोल रूम कितना कारगर है , सार्थक है , इसके लिए पीड़ित लोगों को यहाँ भी मदद की गुहार करना चाहिए ,, लेकिन कुछ शिकायतों के मामले में यह कंट्रोल , रूम , कंट्रोल रूम में बैठे ज़िम्मेदार , सजग और सतर्क साबित हुए है , उन्होंने कुछ मामलों में व्यवस्थाएं भी करवाई है ,, प्रदेश कांग्रेस कमेटी कंट्रोल रूम की शिकायतों का निस्तारण त्वरित हो इस संबंध में , मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भी सख्त निर्देश है ,, प्रदेश कांग्रेस कमेटी कन्ट्रोल रूम के 01412361355 पर चौबीस घंटे अलग अलग पारी में ,, कंट्रोल रूम इंचार्ज ,सहयोगी मौजूद रहते है ,, जयपुर स्थित ,, झोटवाड़ा खातीपुरा , मरुधरा हॉस्पिटल में आज अचानक ऑक्सीजन खत्म होने से हड़बड़ाहट हो गयी ,, मरीज़ , उनके तीमारदार , चीख पुकारने लगे , , अस्पताल प्रबंधक के हाथ पाँव फूल गए , व्यवस्था के तहत , उन्होंने बगरू , सहित दूसरी जगह से , ऑक्सीजन सिलेंडर मंगवाने की पहल की , लेकिन हालात बिगड़े हुए था ,, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के निजी मोबाइल 9829054019 के स्विच ऑफ़ रहने की स्वीकारैत शिकायत है , जिसकी पुष्टि आज मेरे द्वारा मोबाइल पर फोन करने पर भी हुई ,, मेने कंट्रोल रूम में शिकायत दर्ज कराई , मरुधरा हॉस्पिटल जयपुर झोटवाड़ा खातीपुरा , में ऑक्सीजन तुरंत सप्लाई करवाने की शिकायत दर्ज करवाई , फिर चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा के सहयोगी प्रबंधक , राकेश शर्मा को उनके मोबाइल से सपर्क करने का प्रयास किया लेकिन नो रेप्लाइ आना ही था ,, इसी बीच , प्रदेश कांग्रेस कमेटी कंट्रोल रूम ने ,, मुझे फिर चिकित्सा मंत्री के लेंड लाइन नंबर भेजे , 01412222248 पर मेने सम्पर्क किया तो , राकेश शर्मा इस व्यवस्था को देख रहे थे , उन्हें मेने फिर अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई तुरंत करने की शिकायत दर्ज कराई ,, राकेश शर्मा ने तुरंत प्रयास कर ,, सार्थक परिणाम का भरोसा दिलाया , और इसी दौरान , शिकायत के बाद , तुरत फुरत व्यवस्था कहो , अस्पताल प्रबंधकों की भी त्वरति कार्यवाही कहो , सब कुछ मिलाकर , अस्पताल में ऑक्सीजन का इंतिज़ाम हो गया , और जो मरीज़ ऑक्सीजन खत्म हो जाने से , घबराहट में थे , जिनकी ज़िंदगियाँ खतरे में थी ,, उनकी ज़िंदगियाँ फिर से चलने लगी , अल्लाह सभी अस्पतालों में ,व्यवस्थाएं ठीक करे , इस बिमारी से सभी की हिफाज़त करे , सरकारों ,, सरकारों के ज़िम्मेदारों को नेक हिदायत दे के वोह , हर तरह की ईमानदाराना , मुफ्त व्यवस्थाएं मरीज़ों को उपलब्ध कराये , अल्लाह इस बिमारी से हमेशा के लिए हमे , आपको , पुरे देश वासियों को बचाये , तंदरुस्ती दे , लम्बी उम्र दे , खुशहाली दे , हमे खुद को भी अपनी हिफ़ाज़त करने , अपने स्वास्थ्य की हिफाज़त करने , ऐसी बिमारी से बचने के लिए आवश्यक हिदायतों की पालना करवाए ,, फिर से खुशियां लौटें , बाज़ार आबाद हों ,, हम तुम फिर मिले , त्योहार हों , मंदिरों की घंटियां बजे , भजन हों आरती हो , मस्जिदों में अज़ान हो , ,नमाज़ हो , गुरुद्वारों की रौनक लोटे ,, व्यापार में बढ़ोतरी हो , सुख समृद्धि बढे , आमीन कह सको तो कहना ज़रूर ,, लेकिन राजस्थान के किसी भी कोने में , अगर ऐसी कोई भी परेशानी , दिक़्क़त आये , तो प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कन्ट्रोल रूम में शिकायत दर्ज ज़रूर कराना , आज़माना ज़रूर , हो सकता है ,, किसी की मदद हो जाए , हो सकता है , कुछ अवव्यस्थाओं में ,तुरतं बदलाव हो जाए , आप भी जानिये के प्रदेश कंग्रेस कमेटी का कन्ट्रोल रूम किस तरह से लोगों के प्रति जवाबदार है , संवेदनशील है ,, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निर्देशों पर ,, प्रदेश अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा के सहयोग से , इस कन्ट्रोल रूम की सार्थकता , लोगों की ज़िंदगिया बचाने के लिए है , लोगों को तुरंत इलाज उपलब्ध कराने ,, चिकित्सा अव्यवस्थाओं की शिकायतें , निवारण करने की है , आज़माएँ ज़रूर , बेहतर कार्य हो ,तो शुक्रिया अदा करे , अगर आपको लगे के मदद नहीं हो पा रही है ,तो खुलकर आलोचना भी करे , लेकिन एक बार आज़माने के बाद , गैर सियासी दिमाग से , जो भी करे , वोह करना ज़रूर ,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

लोकडाउन में सख्ती , वाहन चेकिंग , वाहन ज़ब्ती ,,टारगेट टास्क में पुलिस अफसरों के तो ,, लोकडाउन गाइड लाइन के हिसाब से तलाशी के आदेश हुए , और ज़रूरतमंदों के गिड़गिड़ाने के बाद भी पुलिस ने , टारगेट टास्क , में गिनती पूरी करने के लिए , लोकडाउन शिथिलता में वाहनों की छूट होने पर ,भी , उनके वाहन ज़ब्त कर , उनके कार्यक्रमों में , परेशानियां पैदा कर दीं ,

 

लोकडाउन में सख्ती , वाहन चेकिंग , वाहन ज़ब्ती ,,टारगेट टास्क में पुलिस अफसरों के तो ,, लोकडाउन गाइड लाइन के हिसाब से तलाशी के आदेश हुए , और ज़रूरतमंदों के गिड़गिड़ाने के बाद भी पुलिस ने , टारगेट टास्क , में गिनती पूरी करने के लिए , लोकडाउन शिथिलता में वाहनों की छूट होने पर ,भी , उनके वाहन ज़ब्त कर , उनके कार्यक्रमों में , परेशानियां पैदा कर दीं ,, राजस्थान में तो ना जाने कितनी जगह इस तरह के मामले हो रहे होंगे , ,लेकिन कोटा में ,दो ऐसे मामले जानकारी में आये है , जिनमे टास्क गिनती पूरी करने के नाम पर ,, ज़रूरतमंदों को लोकडाउन में शिथिलता के सभी दस्तावेज होने पर भी उन्हें ,, प्रताड़ित किया गया ,, उनके वाहन ज़ब्त किये गए , वाहन में बैठे लोगों को परेशानी का सामना करना पढ़ा , और वाहन मालिकों सहित कार्यक्रमों से जुड़े लोगों को परेशान होना ,पढ़ा , , रेडक्रॉस सोसाइटी के मानद सचिव ,, समाजसेवक ,रिछपाल पारीक के छोटे भाई ,, महेश पारीक की छोटी पुत्र ऋतू का विवाह 25 अप्रेल को तय है , 18 अप्रेल को , महेश पारीक के संबंधी यानी , दूल्हे के पिता रमेश पारीक जयपुर सुपरफास्ट ट्रेन से कोटा आये , लड़की वालों ने उनके ठहरने की व्यवस्था , गुमानपुरा ,भारत होटल में की थी , खुद महेश पारीक जिनकी लड़की की शादी है , वोह कोरोना पोजेटिव होने से , स्टेशन नहीं जा सके ,,, और उनके पुत्र दीपक को , कार से स्टेशन लेने पहुंचा दिया ,, बस टास्क थी ,, पुलिस जाँच वाले श्री बाबू लाल जी थे , उन्होंने ,कार रोकी , जांच की , दीपक ने ,, शादी में आने की मेहमानों की ज़रूरत बताई , 25 तारीख बिनानी सभागार छावनी में शादी का कार्ड दिखाया , टिकिट दिखाए , भारत होटल में ठहराने की व्यवस्था की बात कही ,, लेकिन सभी सुबूत , जाएँ भाड़ में , उन्हें तो बस , ,गिनती टारगेट टास्क पूरा कर के अफसरों को बताना है , फिर मस्त होकर मटरगश्ती करना ,, यह सही है के ऐसी जांच टीमों में कुछ मानवीय दृष्टि से सोचने वाले लोग भी होते है , ऐसे पुलिस कर्मी इस टीम में भी थे , जो सभी सुबूतों के बाद कहते रहे साहब जाने दो , शादी का मामला है , गैर ज़रूरी बाहर नहीं निकला , कोरोना गाइड लाइन में भी छूट है ,, लेकिन सुने कोन गिनती टारगेट टास्क जो पूरा करना था , बस ठोक दिया चालान , खेर , गाडी तो छूट गयी , लेकिन अब , मेहश पारीक के पुत्र दीपक ख़ौफ़ज़दा है , वोह शादी की दूसरी व्यवस्थाओं से डरे हुए है , और उनकी आवाजाही थमी हुई है ,, इधर टोंक से एक कार में ,, कोटा स्टेशन पर उत्तरी सवारी को ,,लोग लेने आये ,, वोह सवारी को लेकर , निकल रहे थे ,, ड्राइवर का रोज़ा था ,, कार में बैठी सवारी के पास रेल के टिकिट , कार के कागज़ात पुरे कम्प्लीट ,, कार में महिला सवारी बच्चे भी टोंक जाने के लिए बैठे थे ,, लेकिन साहब की टास्क का एक जाट साहब , गिनती पूरी करने के जोश में थे , कार रोकी , ड्राइवर के , कार के सभी दस्तावेज देखे , टिकिट देखे , सवारी का टोंक रात्रि में जाने की बेबसी लाचारी की परवाह किये बगैर , जो गाड़ी नहीं चला रहा था , कार के कागज़ात नहीं होने का चालान बना कर ,कार ज़ब्त , अब जो सवारी कार में टोंक जाना चाहती थी , कल्पना करो उसके पास सभी टिकिट , सबूत होने के बाद भी ,,उसे कोटा से टोंक अपने परिवार के साथ जाने में कितनी परेशानी उठानी पढ़ी होगी , कार तो फिर छूट गयी , लेकिन इस मामले में , जाट साहब को सब ने समझाया , सवारी की परेशानी को समझाया , तब तो वोह नहीं समझे , लेकिन सुनते है , बाद में , उन्होंने जब खुद आत्मचिंतन किया , तो वोह खुद , इस 10 चालान टारगेट टास्क , की पूर्ति के लिए इस अन्याय , इस ज़्यादती के लिए , पश्चाताप में रहे , उन्होंने खुद ने , अपने आंतरिक स्तर पर ,अपनी यह गलती का अहसास किया , तो जनाब , लोकडाउन की पालना सख्ती से ज़रूरी है , लकिन जो लोग , मजबूरी में , अपने कागज़ात ,, सुबूतों के साथ ज़रूरत के लिए निकले है , उन्हें न सताया जाये ,, उनकी परिशानी का कारण ना बना जाए , बस इतना तो मानवीय दृष्टिकोण का चेहरा इस , भागम भाग , बीमारी के डर खौफ के माहौल में हमे दिखाना ही होगा ,,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

*आवश्यक सेवाओं के प्रतिष्ठान दोपहर एक बजे तक ही खुले रह सकेंगे*

 

*आवश्यक सेवाओं के प्रतिष्ठान दोपहर एक बजे तक ही खुले रह सकेंगे*
*कोरोना संक्रमण को देखते हुए जिला कलक्टर ने किए आदेश जारी*
कोटा 21 अप्रेल। जिला कलक्टर उज्ज्वल राठौड़ ने कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव के मद्देनजर आवश्यक सेवाओं की आपूर्ति के लिए दोपहर 1 बजे तक का समय निर्धारित किया है।
जिला कलक्टर द्वारा जारी आदेशानुसार कोरोना के संक्रमण को देखते हुए
खाद्य पदार्थ एवं किराना का सामान, मंडिया, फल/ सब्जियां, डेयरी, दूध, पशु चारा से संबंधित खुदरा और थोक दुकानें प्रातः 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक खोली जा सकेंगी, ताकि 1 से 2 बजे तक दुकानदार अपना प्रतिष्ठान बंद कर घर जा सके। जहां तक संभव हो इनके द्वारा होम डिलीवरी की व्यवस्था की जाएगी।
आदेश के अनुसार दूध आपूर्तिकर्ता प्रातः 6 बजे से दोपहर 1 बजे तक तथा साँय 5 से रात्रि 8 बजे तक घर घर दूध की आपूर्ति कर सकेंगे।
इसी प्रकार शराब की दुकान है प्रातः 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक खोली जा सकेंगी।
उन्होंने बताया कि सब्जियां एवं फलों के ठेले, साइकिल, रिक्शा ऑटो, रिक्शा, मोबाइल वैन द्वारा प्रातः 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक विक्रय किया जा सकेगा। ताकि 2 बजे तक अपने घर जा सके।
आदेश के अनुसार ऐसे विभाग किनके कार्यालय अति आवश्यक सेवाएं मानकर खोले गए है उनके जिला स्तरीय अधिकारी *जन अनुशासन पखवाड़े* के दौरान वर्तमान में लगाए गए स्टाफ के पहचान कार्ड अपने स्तर से जारी करेंगे। संबंधित कार्मिक को निर्देशित भी करेंगे की कार्ड को डिस्प्ले करते हुए रखें ताकि पुलिस को पहचान में समस्या नहीं हो एवं अन्य व्यक्ति फालतू नहीं घूम सकें।
इन निर्देशों का उल्लंघन करने पर आईपीसी की धारा 188 के तहत कानूनी प्रावधान एवं राजस्थान महामारी अधिनियम 2020 के अनुसार कार्रवाई की जाएगी।
उन्होंने बताया कि फेस मास्क पहनना आवश्यक निवारक उपाय है इस आवश्यकता को लागू करने के लिए सार्वजनिक कार्य स्थल पर चेहरे पर मास्क नहीं पहनने वाले व्यक्तियों एवं बिना मास्क मूमेंट करने वाले व्यक्तियों पर नियमानुसार जुर्माना लगाने की कार्रवाई की जाएगी।

ऐ अल्लाह बहुत हुई , हमारे गुनाहों की सज़ा

 ऐ अल्लाह बहुत हुई , हमारे गुनाहों की सज़ा ,, तुझ से तोबा है , गुनाहों की तोबा है , तू अब हमे बख्श दे , हमे इस वबा , इस ज़ालिम बिमारी से नजात दिला दे , तू हमे तेरी हिफाज़त में ले , सभी को हर बिमारी , हर परेशानी से आज़ाद कर फिर से , खिलखिलाहट , मुस्कुराहट , मोहब्बत , प्यार के जज़्बे से , तेरी बनाई हुई इस सरज़मीं पे , तेरी इस गुनाहगार मख्लूक़ को ,, आबाद रख , तू हमे इस बिमारी , परेशानी से आज़ाद कर , अख्तर

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...