हमें चाहने वाले मित्र

20 नवंबर 2020

कुछ गैर ऐसे मिले,

 

कुछ गैर ऐसे मिले,*
*जो मुझे अपना बना गए।*
*कुछ अपने ऐसे निकले,*
*जो गैर का मतलब बता गए।*
*दोनो का शुक्रिया*
*दोनों जिंदगी जीना सीखा गए।*
*रिश्ते बनाना इतना आसान जैसे
*'मिट्टी' पर 'मिट्टी' से "मिट्टी" लिखना....!*
*लेकिन रिश्ते निभाना उतना ही मुश्किल जैसे-*
*'पानी' पर 'पानी' से "पानी" लिखना.....!!*

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...