हमें चाहने वाले मित्र

08 सितंबर 2020

प्राथमिक, उच्च प्राथमिक क्षेत्र में राजस्थान के स्कूलो में उर्दू सहित तृतीय भाषा के पद ख़ारिज करने , और उक्त पदों के शिक्षकों को स्कूलों में अध्ययनरत लगाने के मामले में

 कोटा ,, प्राथमिक, उच्च प्राथमिक क्षेत्र में राजस्थान के स्कूलो में उर्दू सहित तृतीय भाषा के पद ख़ारिज करने , और उक्त पदों के शिक्षकों को स्कूलों में अध्ययनरत लगाने के मामले में स्टाफिंग पैटर्न की आढ़ लेकर ,टालमटोल करने की व्यवस्था के खिलाफ आज कोटा शहर क़ाज़ी अनवार अहमद के नेतृत्व में ,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान के पदाधिकारियों ने जिला कलेक्टर के ज़रिये , मुख्यमंत्री जनाब अशोक गहलोत राजस्थान सरकार को ज्ञापन देकर पंद्रह दिवस के भीतर भीतर ,,उक्त पदों को हर हाल में भरे जाकर नए पद सृजित करने की मांग की है ,, कोटा शहर क़ाज़ी अनवार अहमद तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान के सरपरस्त भी हैं ,उनके साथ ज्ञापन देने वालों में तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान के ,, नायब क़ाज़ी जुबेर अहमद , को कन्वीनर एडवोकट अख्तर खान अकेला , इंजिनियर ज़ाकिर हुसैन , , हैदर अली ,, सहित कई पदाधिकारी शामिल थे ,, मुख्यमंत्री को भेजे गए ज्ञापन में कहा गया है कि भाजपा शासन में स्टफिंग पैटर्न के नाम पर वर्ष 2016 में उर्दू के साथ भेदभाव जब किया गया , तब कांग्रेस सहित सभी धर्मनिरपेक्ष लोगों ने ,तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान के आंदोलन को समर्थन किया था ,,तहरीक के नेतृत्व में कोटा सहित राजस्थान के हर ज़िले में लाखों ने जुलुस निकल कर प्रदर्शन किये ,नतीजा भाजपा शासन में फिर से उर्दू के पद यथावत हुए , लेकिन कांग्रेस शासन के बाद ,2019 की स्टाफिंग पैटर्न में फिर से उर्दू सहित तृतीय भाषा के साथ विश्वासघात शुरू हुआ है ,,स्टाफिंग पैटर्न के बिंदु 5 के उप बिंदु 3 ,,9 तथा 10 की भूल भुलय्या में गुजराल कमेटी सहित सरकार के पूर्व परिपत्रों के आधार पर जो जिला स्तर पर अध्यापको की व्यवस्था की थी उसे प्रत्याहृत कर दिया गया है , यानी जो पद स्कूलों में व्यवस्तार्थ थे उन्हें ख़ारिज कर दिया गया है ,, अजीब बात यह है के , आदेश में लिखा है ,उर्दू पढ़ने से किसी को नहीं रोकेंगे ,उर्दू सहित अन्य तृतीय भसह में एडमिशन से किसी को नहीं रोकेंगे , लेकिन जब स्कूलों में अध्यापक ही नहीं होगा तो कोई भी अभिभावक ,ऐसे स्कूल में अपने बच्चे को उर्दू कैसे दिला पायेगा ,,अगर ऐसा हुआ तो प्रारम्भिक ,प्राथमिक शिक्षा में ही उर्दू खत्म अगर हुई तो फिर सेकेंडरी ,हायर सेकेंडरी ,कॉलेज स्तर पर तो कुछ समय बाद उर्दू खत्म ही हो जायेगी , ज्ञापन में कहा है के ,,आप मुक्खीमंत्री है ,,सिर्फ 24 घंटे अधिकतम सभी परिपत्रों को संशोधित कर सकते है ,सभी तरह की बाधाये उर्दू संचालन की दूर कर सकते है ,ज्ञापन में कहा गया है के तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान और उर्दू से मोहब्बत रखने वाले सभी धर्म मज़हब के लोगों का अब इस मामले में धैर्य , संयम ख़त्म हो चूका है ,इसलिए जो काम आप 24 घंटे में आसानी से करने में सक्षम है ,उसके लिए 15 दिवस तक तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान इन्तिज़ार कर रही है ,,,ज्ञापन में माननीय मुख्यमंत्री महोदय से अपेक्षा की गयी है के इस मामले को गभीरता से लेकर अधीनस्थ मंत्री ,अधिकारीयों ,,ज़िम्मेदारों से तुरतं सी इस मामले में , सभी प्राइमरी स्कूलों ,मिडिल स्कूलों सहित उच्च स्तर पर तुरंत यथाशीघ्र बिना किसी नौकरशाही बाधा के करवाने के आदेश प्रदान कर अनुग्रहित करें ,,,

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...