हमें चाहने वाले मित्र

07 अगस्त 2020

ऐ अल्लाह अब तो रहम कर दे

 ऐ अल्लाह अब तो रहम कर दे , अब तो करम कर दे , हमारे गुनाहों को माफ कर दे , हमे तेरी पनाह में तेरी हिफाज़त में ले , अब तो तेरे हुकम से सभी लोगों की आस्थाये खुश है , अब तो इस कोरोना जैसी जान लेवा बिमारी , बेरोजगारी , झूँठ , फरेब , ना इंसाफी , फेंका फांकी , आर्थिक अराजकता , ना इंसाफी , ज़ुल्म ज़्यादती , बेटियों , बहनों की इज़्ज़त , अस्मत की खराबी , फरेब , धोखेबाज़ी , नफरत , खून खराबे , दुश्मन ताकतों के सीमाओं पर बेईमानी , बुरी नज़र से हमे महफूज़ कर दे , जो आमीन कहना चाहे कह सकता है ,, अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...