हमें चाहने वाले मित्र

19 जुलाई 2020

#जुम्मन_मियाँ को रोमांटिक मुङ

#जुम्मन_मियाँ को रोमांटिक मुङ में देखकर #उनकी #बेगम बोली
"एक बात सुनिए, आप मेरे लिए क्या कर सकते हो..??"
मियाँ~
"जो तुम कहो, बेगम.."
☺️☺️

बेगम~
"क्या #चाँद ला सकते हो..??"
😊😊
मियाँ कमरे मे गए, कुछ चीज़ छिपा कर लाये, और बेगम से कहा~
"आँखे बंद करो.."
और वो #चीज़ बेगम के हाथों में रख दी। फिर आँखें खोलने को कहा।
#बेगम_की_आँखों_में_आंसू_थे, #क्योंकि_उनके_हाथों #में_एक_आईना_था, #जिसमे_बेगम_का_चेहरा_नज़र #आ_रहा_था
बेगम~
"या ख़ुदा, आप #मुझे_चाँद_सा_समझते_हो..!!?
मियाँ बोले~
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
"नहीं, मैं तो आपको #सिर्फ_ये_समझा रहा था के #जिस मुँह से #चाँद_मांग_रही_हो, #वो_सूरत_कभी_आईने_में #भी_देख_लिया_करो.."
😳😳
फ़िलहाल जुम्मन चाचा की याददाश़्त चली गयी है..
अब कैसे गई क्या यह भी बताना पड़ेगा...??😃🤔🤫
😇😇🤥🤐

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...