हमें चाहने वाले मित्र

05 दिसंबर 2019

, वीरों की धरती राजस्थान को ईर्ष्यालु स्वभाव सर्वेक्षण के चलते ,,सबसे भ्रस्ट राज्य घोषित करने का प्रयास किया

अभी हाल ही में ,एक कथित सर्वे में , वीरों की धरती राजस्थान को ईर्ष्यालु स्वभाव सर्वेक्षण के चलते ,,सबसे भ्रस्ट राज्य घोषित करने का प्रयास किया ,सर्वेक्षण के आधार क्या रहे ,कोनसा सर्वेक्षण स्टिंग हुआ ,इसका कोई खुलासा नहीं है ,ताज्जुब कहो या फिर अफ़सोस इस बात का ,है के राजस्थान के वीर बांकुरों का इस फ़र्ज़ी सर्वेक्षण पर खून भी नहीं खोला ,,,सरकार के जनसपर्क नुमाइंदों ने इस मामले में कोई चूं तक नहीं की ,दोस्तों यह राजस्थान के मान ,सम्मान ,स्वाभिमान का विषय था ,इस पर सभी दलों को एक जुट होना चाहिए था ,,खुलासा करना चाहिए था ,यह सही नहीं के राजस्थान भ्रष्टाचार में अव्वल है ,बल्कि कड़वा सच यह है ,के और राज्यों की तरह राजस्थान में भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं ,और राज्यों की तरह से राजस्थान में भ्रष्टाचार के मामले में सरकार की चुप्पी नहीं ,,हमे गर्व है हमारे इस राजस्थान पर , हमे गर्व है हमारी इस राजस्थान की सरकार पर ,हमे गर्व है ,हमारे राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ,उप मुख्यमंत्री सचिन पायलेट पर ,जिन्होंने राजस्थान में भ्रष्टाचार निरोधक पुलिस को फ्री हेंड किया ,आम जनता में भ्रष्टाचार के खिलाफ जागरूकता पैदा की ,और हमारी आम जनता भ्रष्ट कर्मचारी ,अधिकारीयों से सांठगांठ नहीं कर रही ,बल्कि उन्हें रंगे हाथों पकड़वाकर अपना ,आदर्श नागरिक होने का धर्म निभा रही ,है ,सर्वे में राजस्थान की आम जनता की भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहीम ,राजस्थान सरकार के मुख्यमंत्री का भ्रष्टाचार के खिलाफ पक्षपात रहित कड़ा क़दम ,भ्रष्टाचार निरोधक पुलिस की तत्काल कार्यवाही की प्रशंसा कर , भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान में राजस्थान को अव्वल कहकर यहां के मुख्यमंत्री की भ्रष्टाचार के खिलाफ जागरूकता , फ्री हेंड की तारीफ़ कर पुरस्कृत करना चाहिए था , उल्टे राजस्थान में लगातार भ्रष्टाचार के खिलाफ मुहीम ,में दीमक बनकर चाट रहे भ्रष्ट कर्मचारी ,अधिकारीयों की धरपकड़ से ,,अफरातफरी का माहौल है , भ्रष्टाचारी बखशे नहीं जा रहे है ,यह रिपोर्ट होना चाहिये थी , लेकिन जब सर्वे सिर्फ राजस्थान के वीर बांकुरों जवानों की संस्कृति को बदनाम करने की साज़िश के तहत सर्वे हो तो ,सर शर्मसार हो जाता है ,के ऐसी संस्थाए ,ऐसे लोग कैसे कैसे सर्वे कर सियासी रंजिश निकालने के लिए पुरे राज्य को ही बदनाम करने की साज़िश रच लेते है ,और इस साज़िश में विपक्ष के लोग चुप्पी साधकर राजस्थान के नमक का हक़ अदा करने में कोताही बरतते है ,राजस्थान से गद्दारी करते है ,एक मर्दानी फिल्म जिसकी शूटिंग में एक बलात्कार ,जो हर शहर ,हर राज्य में हो रहे है उस घटना से ख़ौफ़ज़दा कोटा वासी आंदोलनरत है ,वोह चाहते है इसमें से कोटा का नाम हटाया जाए ,कोटा वासी के कुछ लोग कहते है ,इससे कोटा बलात्कार से जोड़ा जाकर बदनाम होगा ,सही कहते ,है ,,पद्मावती पर आंदोलन होता ,है लेकिन राजस्थान को जब राजनितिक साज़िश के तहत फ़र्ज़ी तरीके से ,फ़र्ज़ी सर्वेक्षण के आधार पर , महाभ्रष्ट होने का ख़िताब देकर शर्मिंदा किया जाता है ,,अपमानित किया जाता है ,बदनाम किया जाता ,है तो राजस्थान के इन वीर बांकुरों का राजस्थान के प्रति अपना धर्म निभाने के लिए खून नहीं खोलता ,इस फ़र्ज़ी रिपोर्ट को तैयार करने वालों से सवाल नहीं किये जाते ,इस साज़िश को बेनक़ाब नहीं की जाती ,शायद इसलिए के इन्हे राजस्थान की वीर धरती का अहसास नहीं रहा ,राजस्थान के स्वाभिमान की सुरक्षा अब इनके बूते की बात नहीं रही ,या फिर सियासत के घनचक्कर माहौल में यह नौजवान इस साज़िश के शिकार हो गए है और राजस्थान को गाली देने का अधिकार हर किसी को मिल गया है ,,लेकिन एक बाद समझ लेना ,फ़र्ज़ी सर्वे में राजस्थान को भ्र्ष्टाचार में अव्वल बताकर ,पुरे राजस्थानियों को महाभ्रष्ट कहकर अपमानित किया गया ,है ,जबकि देश जानता है पुरे देश में मारवाड़ियों ,राजस्थानियों , जयपुरियों का व्यापार ,व्यवसाय ,उद्योगों में दखल है ,,,तो फिर राजस्थान ,राजस्थानियों को अपमानित करने वालों के खिलाफ आप क्या कर रहे है ,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...