हमें चाहने वाले मित्र

07 अगस्त 2019

श्री राम मंदिर प्रबन्ध समिति, कोटा जंक्शन

श्री राम मंदिर प्रबन्ध समिति, कोटा जंक्शन
  बुधवार श्रीराम मंदिर प्रबन्ध समिति श्रीराम मंदिर, कोटा जं. द्वारा माधव सत्संग भवन में हजारों श्रृद्वालुओं के बीच तुलसी जयन्ती समारोह धूम धाम से मनाया गया। इस समारोह में गत सप्ताह हुई श्रीराम चरित मानस ज्ञान प्रतियोगिता के विजय प्रतियोगियों को पुरूस्कार वितरण किया गया। संस्था के अध्यक्ष ऋषि कुमार शर्मा ने बताया कि इस ज्ञान परीक्षा में भीममण्डी क्षेत्र के 50 सरकारी और निजी विद्यालयों के लगभग 1500 विद्यार्थियों ने भाग लिया था। इनमें से 200 विद्यार्थी अल्पसंख्यक वर्ग से थे। संस्था के महामंत्री कन्हैयालाल मेवाडा ने अपने उद्भोदन में बताया कि श्रीराम मंदिर, कोटा जं. का निर्माण लगभग 85 वर्ष पूर्व दिनांक 25-01-1934 को हुआ था। उसके पश्चात् निरन्तर यह मंदिर सामाजिक धार्मिक क्षेत्र में उत्तरोत्तर प्रगति कर रहा है। मंदिर में वर्ष भर धार्मिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक गतिविधियां आयोजित की जाती है। राष्ट्रीय सन्दर्भ में शिला पूजन, गंगा पूजन, गौरक्षा आन्दोलन एवं कार सेवा के विशाल कार्यक्रम इस मंदिर द्वारा संचालित किये गये है। संस्था के चिकित्सा मंत्री राकेश चावला ने अपने उद्भोदन में कहा कि गोस्वामी तुलसीदास के प्रेरणा पद ’’दया धर्म का मूल है, पाप मूल अभिमान। तुलसी दया न छोडिये जब तक घट में प्राण’’।। को अपना प्रेरणा वाक्य मानकर यह मंदिर और इसके सभी कार्यकर्ता जी जान से जन सेवा और समाज उत्थान के कार्य में लगे रहते है। आज श्रीराम मंदिर द्वारा संचालित श्रीराम धर्मार्थ चिकित्सालय प्रतिमाह हजारों रोगियों को न्यूनतम दारों पर एलोपैथिक आयुर्वेदिक, होम्योपैथिक, फिजियोथेेरेपी, गायनी, आॅर्थोपेडिक, नैत्र चिकित्सा, दन्त चिकित्सा, सोनोग्राफी, एक्सरे एवं पैथोलोजी, सेवाऐ उपलब्ध करवा रहा है। संस्था के वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रकाशचंद सिंह (मुन्ना जी) एवं परमानन्द शर्मा ने बताया कि हमारी संस्था चैत्र शुक्ल प्रतिपदा पर श्रीराम चरित मानस का नवाहमन पारायण व्यास पीठ द्वारा सामुहिक रूप से करवाया जाता है जिसमें सेकडो पुलिस व महिलाऐं भाग लेते है एंव नवमी के दिन 108 कुण्ड यज्ञ का आयोजन किया जाता है। प्रत्येक माह की अमावस्या को लगभग 1000 असहाय निर्धन लोगों के लिये भण्डारा आयोजित किया जाता है, संस्था द्वारा श्रीराम ज्योति धार्मिक पत्रिका का भी त्रैमासिक प्रकाशन किया जाता है। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री मुकेश गालव महामंत्री वेस्ट सेन्ट्रल रेलवे एम्प्लाईज युनियन, कोटा, विशिष्ठ अतिथि, डाॅ0 रमाकान्त लवानियां संयुक्त निदेशक चिकित्सा विभाग, कोटा, विशिष्ठ अतिथि श्री श्री 1008, श्री महामण्डलेश्वर स्वामी मैत्रयी गिरी जी हरिद्वार थी। कार्यक्रम में मुख्य वक्ता श्री श्री 1008 सुश्री हेमानन्द सरस्वती,
..2..
महामण्डलेश्वर मौजी बाबा ट्रस्ट कोटा थी। कार्यक्रम क अध्यक्षता संत श्री सनातनपुरी जी महाराज थेकडा आश्रम, कोटा ने की। मुख्य अतिथि श्र मुकेश गालव ने अपने सम्बोधन में कहा कि आज के परिपेक्ष में श्रीराम चरित मानस ज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन समाज में संस्कार और जागृति के लिये प्रशंसनीय प्रयास है। आज का युवा अगर भारतीय संस्कृति और मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम के बताये मार्ग पर चलेगा तो वह आर्दश नागरिक बन सकेगा और आने वाले समय में श्रेष्ठ भारत के निर्माण में सहयोगी बने सकेगा। मुख्य वक्ता श्री श्री 1008 सुश्री हेमानन्द सरस्वती ने अपने सार गर्भित आर्शिवचन में कहा कि श्रीराम मंदिर, कोटा जं0 की धार्मिक सामाजिक और सांस्कृति गतिविधियों से मैं कई दशाकों से परिचित हूं। इस संस्था द्वारा आयोजित किये जाने वाले सभी कार्यक्रम समाज को सही दिशा में जाने का मार्ग प्रशस्त करते है। आज का कार्यक्रम तुलसी जयन्ती समारोह इसलिये भी प्रेरणास्पद है कि गोस्वामी तुलसीदास जी ने आमजन की भाषा में श्रीराम चरितमानस का लेखन किया। जो सभी भारतीयों को मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम के जीवन से प्रेरणा लेकर दया और समर्पण भाव से शोषित पीडित मानवता की सेवा का मार्ग प्रशस्त करता है। श्रीराम मंदिर के सभी पदाधिकारी व कार्यकर्ता इस महान कार्य के लिये साधुवाद के पात्र है। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए संत श्री सनातनपुुरी महाराज ने अपने आर्शिवचन में कहा कि भौतिक वादी युग में हिन्दू समाज को संस्कारित और संगठित करने का महान कार्य आपकी संस्था द्वारा किया जा रहा है, उन्होने कहा कि आज भगवान श्रीराम की कृतित्व व व्यक्तित्व से प्रेरणा लेकर अपने जीवन की राह निर्माण करने की आवश्यकता है। समाज की सभी संस्थायें यदि श्रीराम मंदिर की भांति देश और समाज तथा व्यक्ति निर्माण का प्रयास करे तो वह दिन दूर नही जब देश पुनः विश्वगुरू बन जायेगा।
कार्यक्रम में श्रीराम चरित मानस ज्ञान प्रतियोगिता में छात्र वर्ग में अभिषेक सिंह को प्रथम, मनीष शर्मा को द्वितीय, अंकित केवट को तृतीय पुरूस्कार दिया गया। छात्रा वर्ग में नेहल गुप्ता को प्रथम, अंजली कुमारी को द्वितीय व प्रयांशी कुमारी को तृतीय पुरूस्कार प्रदान किया गया। अल्पसंख्यक वर्ग में सोहेल अहमद को प्रथम, निदा खान को द्वितीय व रूमान खान को तृतीय पुरूस्कार से सम्मानित किया गया। इसके अतिरिक्त 15 अन्य प्रतियोगियों को सांत्वना पुरूस्कार दिये गये।
कार्यक्रम के अंत में संस्था के सभापति जीवनदास खत्री ने सभी का धन्यवाद ज्ञापित किया और सभी आगन्तुकों को सहभोज के लिये भी आमंत्रित किया।
ऋषि कुमार शर्मा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...