हमें चाहने वाले मित्र

15 जुलाई 2019

इंसानियत से कभी मत गिरना

यह मंदिर
यह मस्जिद
यह मदरसे
यह पाठशालाये
यह गुरुकुल
यह इबादत घर
यह गुरुद्वारे
यह चर्च
सभी तो
मोहब्बत सिखाते है
ईमानदारी से
प्यार से
मोहब्बत से
जीना सिखाते है
फिर तुम क्यों
इन इबादत घरों की इबादत से
इन पाठशालालों
इन मदरसों से
पढ़कर हैवान हो रहे
इंसान होकर भी
इंसान को काट रहे हो
हो सके तो
अपना धर्म
अपना मज़हब
एक बार फिर पढ़ लो
या तो तुम
हिन्दू हो जाओ
या तो मुस्लिम हो जाओ
जो चाहो वोह तुम हो जाओ
बस ध्यान रखना
इंसानियत से कभी मत गिरना
तुम मानोगे न
तुम बदलोगे न
तुम मोहब्बत के
तुम भाईचारा सद्भावना के
मॉडल बनोगे ना बनोगे ना ,,अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...