हमें चाहने वाले मित्र

11 जून 2018

देखो, बाहर बारिश हो रही है

Husband)पति: देखो, बाहर बारिश हो रही है
(Wife)पत्नी: सोचना भी मत, घर में बेसन नहीं है… प्याज़ बहुत महंगे है और आज बाई भी नहीं आयी है… इसलिए सारे बर्तन जूठे पड़े हैं…और हाँ , अब ये मत कहना की दारु पीने के लिए आइस दो … अब बच्चे बडे हो गये है , ये सब अब घर में बिलकुल नहीं चलेगा..
.
.
.
.
.
.
पति को अपनी तरफ गौर से देखते हुए पत्नी थोडा रुक गयी… और बोली…

मेरी तरफ तो देखना भी मत,
मेरी कमर मे वैसे ही दर्द हो रहा है…
अब साला पति ये भी नही बोल सकता की बारिश हो रही है…

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...