हमें चाहने वाले मित्र

13 नवंबर 2017

एक तरफ देश में जहाँ रानी पद्मावती पर फिल्म निर्माण को लेकर विवाद गहरा रहा है ,,वही राजस्थान के ,अजमेर में सैलानियों में और आकर्षण पैदा करने के लिए ,,अकबर फोर्ट अजमेर ,,अजमेर के क़िले को दुरुस्त कर खूबसूरत संग्राहलय बनाया है

एक तरफ देश में जहाँ रानी पद्मावती पर फिल्म निर्माण को लेकर विवाद गहरा रहा है ,,वही राजस्थान के ,अजमेर में सैलानियों में और आकर्षण पैदा करने के लिए ,,अकबर फोर्ट अजमेर ,,अजमेर के क़िले को दुरुस्त कर खूबसूरत संग्राहलय बनाया है ,1570 में बादशाह अकबर द्वारा निर्मित यह क़िला बेकार जर्जर पढ़ा था ,इसे ऐतिहासिक रूप से उपयोगी बनाने के लिए ,,कोटा के इंटीरिटयर डेकोरेटर ,सोनू एन्टरप्राइजेज के हाजी मुनव्वर खान और उनकी दिल्ली आर्किटेक्ट टीम ने इस अकबरी फोर्ट में ,,मुग़ल काल में अंग्रेज़ो की आमद से लेकर ,,अकबर ,,महाराणा प्रताप के हल्दीघाटी युद्ध ,,पृथ्वीराज चौहान की बहादुरी के क़िस्से जीवंत कर दिए है ,,,,विश्व के सैलानियों को अब ,,अजमेर में ,सूफी संत सुलतान ऐ हिन्द ,,ख्वाजा गरीब नवाज़ की चमत्कारिक दरगाह ,,,,,तारागढ़ दरगाह ,,,ढाई दिन का झोंपड़ा ,,पुष्कर के ऐतिहासिक ब्रहम्मा मंदिर के अलावा अब यह मुग़ल अकबर फोर्ट ,,आकर्षक केंद्र बन गया है ,,,इस फोर्ट में सामान्य संग्राहलय की तरह हथियारो का ज़खीरा ,पुरानी मुद्राये ,,पुराने सामानो की सजावट तो ,,सोनू एन्टरप्राइजेज के हाजी मुनव्वर खान ने की ही है ,लेकिन राजस्थान सरकार को अपने निजी सुझाव से कन्विंस कर ,,इस संग्राहलय में ,,अकबर ,,,महाराणा प्रताप ,,मानसिंघ ,,पृथ्वीराज चौहान ,,जहांगीर द्वारा अंग्रेज़ो के ईस्ट इण्डिया एजेंट को प्रथम पट्टा सौंपते वक़्त का दृश्य ,,ऐतीहासिक परिधानों के साथ ,,पुतलो के ज़रिये इसे और जीवंत कर दिया ,,म्यूज़ियम में हल्दी घाटी युद्ध के वक़्त अकबर ,,मानसिंघ के बीच हो रही कार्य योजना ,,महाराना प्रताप की बहादुरी का मुक़ाबला ,,पृथ्वीराज चौहान ,और उनके कवि जिनकी कविता पर पृथ्वीराज ने अंधा होने पर भी ,,आवाज़ ,और दिशा सूचना पर ,,शस्त्र फेंकने की कला से दुश्मन का वध किया था ,उसे जीवंत कर दिखाया है ,,,,देश के ही नहीं विश्व भर के अजमेर आने वाले सैलानियों के लिए राजस्थान सरकार द्वारा शुरू किये गए इस संग्रहालय को सोनू कंस्ट्रक्शन के ,,हाजी मुनव्वर खान और उनकी टीम ने समय सीमा के चार माह पूर्व ही पूरा कर दिखाया है ,,,लगभग डेढ़ करोड़ रूपये की लागत से बने इस संग्राहलय के तैयार होने की समय सीमा सोनू कंस्ट्रक्शन को जनवरी 2018 दी गयी थी ,,लेकिन पर्यटकों के लिए उपयोगी होने से इस संग्रहालय को मुनव्वर खान ने चार माह पूर्व 16 सितम्बर 2017 को ही पूरा कर दिखाया ,,सोनू कंस्ट्रक्शन एन्टरप्राइजेज के हाजी मुनव्वर खान इसके पहले पहियों पर राजमहल ,,पर्यटन ट्रेन को भी समय से पूर्व खूबसूरत डेकोरेट कर केंद्र सरकार को अचम्भित कर चुके है ,,,गत कार्यकाल में राजस्थान के माउंट आबू में श्रीमती सोनिया गांधी द्वारा सभी कांग्रेस शासित राज्यों के राजस्थान ,,में मुख्यमंत्रियों की बैठक बुलाना चाहती थी ,वहां समय के एक दिन पूर्व एस पी जी सहित दूसरे सुरक्षा कारणों से इंटीरियर डेकोरेशन का काम पूरा नहीं हो सका ,,,सुरक्षा की दृष्टि से कुर्सियां व् दूसरा फर्नीचर ,बैठक के लिए राउंड टेबल नहीं थी ,,,अचानक चार दिन पूर्व ,,सोनू एन्टरप्राइजेज के मुनव्वर खान के पास संदेश आया ,वोह कोटा से अपने दल बल सहित माउंट आबू पहुंचे और निर्धारित समयावधि से पूर्व ,,एस पी जी ,,सुरक्षा नियमों के तहत ,,संबंधित फर्नीचर ,,इंटीरियर डेकोरेशन का काम पूरा कर दिखाया ,,उस वक़्त राजस्थान सरकार ने ,,इस अचम्भित कर देने वाले काम के लिए उन्हें शाबाशी भी दी थी ,,,,,,सोनू एन्टरप्राइजेज के हाजी मुनव्वर खान को उनकी कर्तव्यनिष्ठा ,,ईमानदारी ,,और कलाकारी के लिए बधाई , मुबारकबाद ,क्योंकि सोनू एन्टरप्राइजेज के हाजी मुनव्वर खान ,,काम लेने के बाद कैसे बेहतर काम ,,समय के पूर्व और न्यूनतम बजट से भी कम बजट में करे इस धुन में लग जाते है ,और अल्लाह इनका मददगार होता है ,,इनका हर काम ,,हर प्रोजेक्ट सफलतम और समय के पूर्व पूरा होता है ,,,इनके लिए कोई भी काम असम्भव नहीं है ,,,खुदा की रहमत इनके साथ है ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...