हमें चाहने वाले मित्र

30 जून 2017

सिर्फ और सिर्फ सड़को पर निहत्थों की मारकाट ,,दफ्तरों में भ्रष्टाचार ,,और जंगलराज है ,,

दोस्तों यह खुली फ़िज़ा ,,यह आज़ादी ,,यह मनमानी हमे कब रास आयी है ,,हर आज़ादी का हमारे यहां ,,हमने दुरूपयोग कर ,,आज़ादी को बदनाम ही किया है ,,संविधान बना ,,आज़ादी मिली ,लेकिन देख लो कोई क़ानून नहीं सिर्फ और सिर्फ सड़को पर निहत्थों की मारकाट ,,दफ्तरों में भ्रष्टाचार ,,और जंगलराज है ,,अख़बार ,,मीडिया ,,आज़ाद है ,देश की सच्ची नंगी तस्वीर दिखाते ही नहीं ,हाँ ऐसे सच को छुपाने के लिए बढे बढे महंगे दामों के विज्ञापन अख़बारों में ,मिडिया में ज़रूर होते ,है ,सोशल मीडिया मिला ,,देख लो बेहूदा अल्फ़ाज़ों ,,गाली गलोच ,मज़हबो में नफरत फैलाने की साज़िश इस आज़ादी का दुरूपयोग है ,,,चमचागिरी इस आज़ादी को गारतगिरी की तरफ ले जा रही है ,,आपात स्थिति लगी ,,लगाम कसी ,,भ्रस्टाचार खत्म ,,सड़को पर गुंडागर्दी नहीं ,,नफरत फैलाने वाली ,,बकवासबाजी नहीं ,,अख़बारों की नाक में नकेल ,फिर आज़ादी मिली ,,आपात स्थिति की आर्थिक बचत को दोनों हाथो से लूटा ,,लुटाया ,,एक नई आज़ादी की गेंग बन गयी और ,,,खुद ने खुद के लिए हज़ारो हज़ार रूपये की पेंशन ,,कई सम्मान ,,कई सुविधाएं लेकर ,,इस आज़ादी को तनखैया बना दिया ,,जो लोग सत्ता के लिए कसमसा रहे थे ,उनका सपना पूरा हुआ ,,उन्हे सत्ता में रहने की आज़ादी मिली ,,लेकिन नतीजा ,सड़के लहूलुहान ,,क़ानून का कोई राज नहीं ,,एक आज़ाद भारत का एक प्रधानमंत्री जिसका लोहा विदेश मान रहा है ,वोह अपने ही देश में बेबस ,,लाचार ,,बार बार सड़को पर खून बहाने से रोकने की अपील ,लेकिन कभी दलित ,,रोज़ रोज़ मुस्लिम ,,कभी ब्राह्मण ,,कभी राजपूत ,,कभी यादव ,,न जाने कोन कोन आज़ादी के दीवानो के राक्षसी व्यवहार के शिकार हो रहे ,है ,क़ानून बेबस ,,पुलिस लाचार ,प्रधानमंत्री दो बार मंच से आंसू बहाकर अपील करते ,है लेकिन डंके की चोट पर रोज़ सड़के निहत्थे ,,बेबस ,लाचार लोगो के खून से रंगी है ,,अपराधियों का कुछ नहीं वोह आज़ाद है ,जिस देश का राजा ,,जिस देश का प्रधानमंत्री इतना बेबस ,,इतना लाचार हो के वोह ,,अपील करे ,,रोये ,,आंसू बहाये ,,आदेश दे ,,लेकिन कोई परवाह नहीं आज़ादी जो है ,,अब जी एस टी का खेल शुरू हुआ ,,,आधी रात में देश में आर्थिक आज़ादी आएगी ,,लूट ही लूट की आज़ादी आएगी ,बेईमानी भ्रष्टाचार की आज़ादी आएगी ,,पेट्रोल में लूट की आज़ादी ,गैस में लूट की आज़ादी ,,रेलवे ,,एयरवेज़ में लूट की आज़ादी ,,अब यह रोज़मर्रा की ज़िंदगी में आर्थिक आज़ादी के नाम पर आम आदमी को टेक्स वसूली के नाम अपर सड़को पर दोढा दोढा कर मारने की आज़ादी ,,,उफ्फ्फ ,,अललाह खेर करे ,,ईश्वर ,,भगवान ,वाहे गुरु ,,जैजिनेंद्र ,,जिसस जो भी जहाँ भी हो इस देश की आज़ादी को ओरिजनल आज़ादी ,,ओरिजनल रामराज ,,इन्साफ ,की राह पर चलने वाला देश बनाकर बतादे ,,काश देश और देश के लोग ,,बेईमानी ,,भ्रष्टाचार ,लूट खसोट ,,नाइंसाफी ,,निरक्षरता ,बेरोज़गारी ,भुखमरी ,,गरीबी ,,नफरत ,,हत्या ,,बलात्कार ,,डर और खौफ के माहौल से आज़ाद हो जाए ,,काश मेरा देश आज़ाद हो जाए ,काश मेरे देश का प्रधानमंत्री कुछ कहे उस पर अमल करने की जगह उसका उल्न्न्घन हो तो ऐसे लोगो को तुरंत ,आजीवन कारावास की सज़ा में भेज दिया जाए ,,काश ऐसा हो जाए ,,काश आर्थिक आज़ादी कामयाब हो ,जाए,, ,अख्तर खान अकेला कोटा राज

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...