हमें चाहने वाले मित्र

20 जून 2017

मृतका के मामले में सूक्ष्म परीक्षण को लेकर मानवाधिकार आयोग गंभीर

एक इमरान जिसे किशोरपुरा कोटा पुलिस ने चोरी के एक मामले में नाजायज़ हिरासत में रखा ,,पत्नी को प्रताड़ित किया ,, पत्नी रेहाना की मोत हुई ,,इमरान को छोड़ा गया ,,फिर इमरान की तरफ से उसकी पत्नी की हत्या का मुक़दमा दर्ज हुआ ,,मुक़दमे में जाँच हुई ,,बयान हुए ,,अदालत के आदेश से शव निकाल कर फिर पोस्टमार्टम करवाया गया ,,लेकिन अब तक पुलिस महकमे की पत्रावलियों में इमरान के साथ हुई ना इंसाफ़ी पर खामोशी है ,,समाजसेवी संस्थाए ,,उसके हमदर्द बने लोग खामोश है ,,लेकिन राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग ने ह्यूमन रिलीफ सोसायटी के महासचिव एडवोकेट अख्तर खान अकेला की शिकायत पर प्रसंज्ञान लिया ,,पहले रिपोर्ट मंगाई और बीस जून सोमवार को सुनवाई के दौरान ,,प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुए ,,किशोरपुरा थाने में दर्ज प्रथम सुचना रिपोर्ट 289/2016 के अनुसंधान के बारे में कोटा पुलिस ने मानवाधिकार आयोग को भेजी अपनी रिपोर्ट में कहा था जिसका सारांश और मानवाधिकार आयोग का आदेश मूल अंग्रेजी में इस तरह से है ,,,The Commission has received a complaint from Shri Akhtar Khan Akela, a resident of Kota, Rajasthan alleging that one person Imran was illegally arrested and beaten up by police in illegal custody. He was later released after intervention by the family members. The wife of the victim was also severely beaten up by the police, who succumbed to injuries at home. After death of his wife the victim was released from the custody by the police. The Commission vide its proceedings dated 21.11.2016, called for a report from the Senior Superintendent of Police, Kota which has been received vide a communication dated 29.12.2016 stating that statement of complainant Imran, Smt. Sahibnoor, Shri Abrar and Smt. Sania were recorded by the police u/s 161 Cr. P.C. The victim Rehana was admitted in MBSH, Kota for treatment. The husband of the deceased requested before the court for post mortem of her dead body. The body of the deceased was exhumed and post mortem was conducted by a medical board on 19.11.2016. The Viscera samples have been sent for forensic examination. The investigation of the case is underway. The Commission has perused and considered the report. The Superintendent of Police, Kota is directed to submit the present status/outcome of the investigation of case Crime No. 289/2016. The response is expected within four weeks., , उक्त प्रकरण में आदेश की एक प्रति शिकायतकर्ता अख्तर खान अकेला को भी ज़रिये मेल सूचनार्थ भेजी है ,,अब मृतका के मामले में सूक्ष्म परीक्षण को लेकर मानवाधिकार आयोग गंभीर है और उसने ,,कोटा पुलिस से संबंधित सभी विशेषज्ञ रिपोर्ट चार सप्ताह में तलब की है ,,,विदित रहे कि कोटा किशोरपुरा थाना क्षेत्र में,,, पिछले दिनों ,, थाना परिसर में स्थित ,,थानाधिकारी के घर में ,,ज़ेवर एवम नकदी ,,चोरी हो जाने के बाद ,,इमरान एवम उसके परिजनों को ,,नाजायज़ हिरासत में रखकर बेरहमी से पिटाई ,,फिर इमरान की पत्नी की मोत के मामले में ,,राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग ने ,,गम्भीर क़दम उठाते हुए ,,प्रसंज्ञान लेकर ,,कोटा पुलिस अधीक्षक से,, इस सम्बन्ध में नोटीस प्राप्ती के चार सप्ताह में जवाब तलब किया है ,,,विदित रहे के नवम्बर माह में किशोपुरा थाना क्षेत्र में इमरान नामक एक शख्स को पुलिस ने नाजायज़ हिरासत में रखकर थर्ड डिग्री टॉर्चर किया था ,,फिर उसकी पत्नी की भी पुलिस प्रताड़ना के बाद आकस्मिक म्रत्यु हो गयी थी ,,इस मामले को कोंग्रेस अल्पसंख्यक विभाग कोटा समभाग के पदाधिकारियो ने उठाया था ,,पुलिस ने मुक़दमा भी दर्ज किया था और थानाधिकारी सहित पुलिसकर्मियों को लाइन हाज़िर किया गया था ,,ह्यूमन रिलीफ सोसायटी के महासचिव ऐडवोकेट अख्तर खान अकेला ने इस मामले में राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग को लिखित में शिकायत दर्ज करा कर इमरान को इंसाफ देने की गुहार लगाई थी ,,राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग ने इस शिकायत को गम्भीरता से लिया ,,2715/2016 नम्बर पर शिकायत दर्ज की और आयोग के समक्ष 21 नवम्बर को सुनवाई हुई ,,जिसमे घटना की गम्भीरता को देखते हुए ,,कार्यवाही के पूर्व पुलिस अधीक्षक कोटा नगर को आदेशित करते हुए कहा के ,, शिकायत पर तुरन्त कार्यवाही करे और चार सप्ताह में की गयी कार्यवाही से अवगत भी कराये ,,,विदित रहे इस मामले में इमरान की शिकायत पर कोटा पुलिस अधीक्षक के हस्तक्षेप के बाद ,,प्रथम सुचना रिपोर्ट दर्ज कर जांच भी हुई है ,,लेकिन अभी गिरफ्तारी किसी की भी नहीं हुई ,,उलटे इमरान को अचानक ,,किशोरपुरा पुलिस ने नाटकीय ढंग से गिरफ्तार कर ,,कथित बरामदगी बताते हुए ,,अदालत में पेश कर जेल भेज दिया ,,अजीब बात थी ,,इमरान जो कई दिनों तक नाजायज़ हिरासत में रहकर भी नहीं टूटा ,,गम्भीर पिटाई के बाद नहीं टुटा ,,पत्नी की म्रत्यु के बाद नहीं टुटा ,,जिस इमरान की शिकायत पर प्रताड़ना की एफ आई आर दर्ज है ,,उस इमरान को अचानक इस तरह से गिरफ्तारी और फिर बरामदगी हास्यास्पद थी ,,लिहाज़ा ,,अल्सपंख्यक विभाग कोटा सम्भाग के सोशल मिडिया प्रभारी रशीद क़ादरी ने फिर पुलिस अधीक्षक को विस्तृत जानकारी दी ,,पुलिस अधीक्षक ने इसे गम्भीरता से लिया और ,,पुलिस सहायक निरीक्षक जांच अधिकारी को निलम्बित कर दिया ,,किशोरपुरा थानाधिकारी के विरुद्ध अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है ,,इमरान को प्रताड़ित करने वाले गिरफ्तार नहीं हुए है ,,जाँच अचानक ठंडे बस्ते में बंद है ,,,समाजसेवी ,,सियासी पार्टियां खामोश है ,,लेकिन राष्ट्रिय मानवाधिकार आयोग ने अब जवाब तलब कर लिया है ,,देखते है जवाब के बाद इमरान को राष्ट्रिय मानवाधिकर आयोग किस तरह का इंसाफ दिलवाता है ,,इमरान को प्रताड़ित करने वाले ,,झूंठे मुकदमो में गिरफ्तार करने वालो के खिलाफ क्या कार्यवाही होती है ,,कोन गिरफ्तार होता है ,,और एकग्रेसिया के रूप में इमरान को आर्थिक मुआवज़े के लिए क्या निर्देश आते है ,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...