हमें चाहने वाले मित्र

30 अप्रैल 2017

,सभी ने एक दूसरे को गाली नहीं देने की क़सम खाई

घंटाघर पर ,सभी ने एक दूसरे को गाली नहीं देने की क़सम खाई ,,पप्पू ,, कल्लू को परेशान कर रहा था ,,गाली बक नहीं सकते थे ,,कल्लू ने ,,पप्पू से ,,गुस्से में ,,आज का इलेक्ट्रॉनिक मिडिया ,,,कह दिया ,बस ,बवाल मच गया ,,झगड़े शुरू ,,,बीच बचाव हुआ ,,पंचायत बैठी ,,,कल्लू ने पप्पू की शिकायत की ,,इसने मुझे गाली बकी ,,पप्पू ने क़सम खायी ,,मेने गाली नहीं बकी ,,कल्लू से पंचो ने पूंछा ,,कोनसी गाली बकी ,,कल्लू ने बताया ,,मेने तो इसे ,,इलेक्ट्रॉनिक मिडिया,, कहा है ,,,बस फिर झगड़ा शुरू ,,देखो मुझे फिर गाली बक दी ,,पंच परेशान ,,यह कोनसी गाली हुई ,,,,कल्लू ने ,,पंचो से कहा टी वी भी देखते हो ,,पंचो ने कहा ,,टी वी पर तो ,,बिकाऊ लोग बैठे है ,,देश ,,समाज ,,देश की समस्या से उन्हें कोई लेना देना नहीं बस झूंठ को सच दिखाकर साबित करने में लगे है ,,भूख ,,गरीबी ,,रोटी ,,रोज़गार ,,सीमाओं पर हमले ,,शहीदों की शहादत को छुपाने के लिए ज़मीर बेचकर ,,ट्रिपल तलाक़ ,,ट्रिपल तलाक़ कर रहे है ,तवायफ और भड़वागिरी कर रहे है ,,इसलिए हम तो देखते नहीं ,,बस कल्लू ने कहा ,,इसीलिए तो यह मुझे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया कहकर ,,भद्दी गाली बक रहा है ,,दूसरी गालियां बक लेता ,,में सह लेता ,,लेकिन यह तो देश और समाज के साथ गद्दारी ,,तवायफ से भी बदतर व्यवसायिकता में मुझे मिला रहा है ,मुझे गाली पर गाली बका जा रहा है ,,अब पंचो के समझ में आ गया था ,,इलेक्ट्रॉनिक मिडिया कहने पर ,गाली प्रतिबंधित क्षेत्र में ,,कल्लू इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को गाली से भी बढ़ी गाली ,,क्यों चिल्ला रहा है ,,अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...