हमें चाहने वाले मित्र

16 अक्तूबर 2016

दावा- शरीफ सरकार के दिन अब गिने-चुने; PAK आर्मी ने कहा- 5 दिन में पता लगाओ कि किसने मीडिया में लीक की थी मीटिंग की खबर



  • 14 अक्टूबर को हुई कॉर्प्स कमांडर्स की मीटिंग में शरीफ सरकार को लेकर आर्मी में नाराजगी साफ तौर पर दिखाई दी है। - फाइल
नई दिल्ली. पाकिस्तान की आर्मी ने नवाज शरीफ के लिए वॉर्निंग बेल बजा दी है। आर्मी ने शरीफ सरकार को उस सोर्स का पता लगाने के लिए 5 दिन का वक्त दिया है, जिसने डॉन के जर्नलिस्ट सिरिल अलमिदा तक 3 अक्टूबर को हुई अहम मीटिंग की इन्फॉर्मेशन पहुंचाई। इसके बाद माना जा रहा है कि पीएम शरीफ के दिन अब गिने-चुने रह गए हैं। पाक आर्मी ने क्या कहा...
- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, 14 अक्टूबर को हुई कॉर्प्स कमांडर्स की मीटिंग में पाकिस्तान के पीएम और उनकी टीम को लेकर आर्मी में नाराजगी साफ तौर पर दिखाई दी।
- इस मीटिंग के बाद जारी हुए बयान में कहा गया है- 'डॉन में पब्लिश रिपोर्ट के लिए आर्मी पीएमओ को जिम्मेदार मानती है। यह रिपोर्ट राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है और सिरिल अलमिदा की इन्फॉर्मेशन झूठी और मनगढ़ंत है।'
- हालांकि बयान में यह क्लियर नहीं है कि एक झूठी और मनगढ़ंत स्टोरी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा कैसे बन सकती है?
- बता दें कि 3 अक्टूबर की जिस मीटिंग की बातें लीक होने पर विवाद हुआ, वो पीओके में इंडियन आर्मी के सर्जिकल स्ट्राइक के फौरन बाद नवाज शरीफ के घर पर हुई थी।
डॉन की रिपोर्ट में ऐसा क्या था, जिससे भड़की आर्मी?
- डॉन में पब्लिश सिरिल अलमिदा की रिपोर्ट में 3 अक्टूबर को पाक सरकार और आर्मी ऑफिसर्स के बीच हुई मीटिंग का डिटेल था।
- इसमें आर्मी और सरकार के बीच मतभेदों की जानकारी दी गई थी। साथ ही मीटिंग की मिनट्स का ब्योरा भी था। जिस पर विवाद हो गया।
- डॉन के एडिटर ने सिरिल अलमिदा का बचाव करते हुए कहा था- 'रिपोर्ट के फैक्ट्स को एक बार चेक करने के बाद रीचेक भी किया गया था।'
क्या ये एक प्लान्टेड स्टोरी थी?
- कहा जा रहा है कि डॉन की रिपोर्ट एक प्लान्टेड स्टोरी थी जिसमें नवाज शरीफ और उनके भाई पंजाब प्रोविंस के सीएम शाहबाज शरीफ की इमेज को बेहतर बनाने की कोशिश की गई थी।
- इसमें कहा गया था कि ये दोनों आतंकवादियों को सलाखों के पीछे पहुंचाना चाहते हैं, लेकिन आर्मी उन्हें बचा रही है।
- 3 अक्टूबर की मीटिंग में नवाज ने कहा था-'आर्मी आतंकियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे, अगर ऐसा नहीं होता तो पाकिस्तान दुनिया में अलग-थलग पड़ जाएगा।"
- रिपोर्ट में इस बात का भी जिक्र था कि मीटिंग में शाहबाज शरीफ ने कहा कि आर्मी उन आतंकियों को बचाने की कोशिश कर रही है जिनके खिलाफ वो और नवाज कार्रवाई करना चाहते हैं।
शरीफ सरकार ने क्या किया?
- आर्मी की तरफ से मिली 5 दिनों की डेडलाइन के बाद शरीफ सरकार ने सबसे पहले तो एक सफाई जारी की, जिसमें मतभेद का खंडन किया गया।
- फिर पीएमओ ने सिरिल अलमिदा के देश छोड़कर जाने पर रोक लगा दी, हालांकि बाद में रोक वापस ले ली।
- इसके बाद सरकार ने आंतरिक मंत्री चौधरी निसार को पक्ष रखने के लिए कहा।
- दरअसल, इस मामले में इंटरनेशनल लेवेल पर सरकार पर दबाव पड़ा। लोगों ने जर्नलिस्ट सिरिल अलमिदा का फेवर किया और प्रेस की आजादी की मांग की।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...