हमें चाहने वाले मित्र

12 जनवरी 2016

केजरी बोले- एक लाख वोटों से हारने वाले जेटली का मान ही नहीं है तो अपमान कैसा?

अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)
अरविंद केजरीवाल (फाइल फोटो)
नई दिल्ली. सीएम अरविंद केजरीवाल ने अरुण जेटली की ओर से किए गए डिफेमेशन केस में 2 हजार पेज का अपना जवाब फाइल करते हुए तीखा कमेंट किया है। उन्होंने कहा कि इंडियन डेमोक्रेसी ने कभी जेटली के पब्लिक ऑनर को स्वीकार नहीं किया है।
केजरीवाल बोले- झूठा है जेटली का दावा...
- फाइनेंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने डीडीसीए घोटाला मामले में केजरीवाल सहित 5 लोगों पर 10 करोड़ का सिविल डेफेमेशन केस फाइल किया था।
- मंगलवार को केजरीवाल ने इस मामले में अपना जवाब दिल्ली हाईकोर्ट में रजिस्टर्ड कराया है।
- केजरीवाल ने जेटली को निशाना बनाते हुए कहा है- जब आपका कोई मान ही नहीं, तो इसकी हानि कैसे हुई?
- केजरीवाल ने कहा, जेटली ने अपनी छवि को बढ़ा-चढ़ा कर पेश किया है।
- केजरीवाल के मुताबिक जेटली का दावा कि आम लोगों के बीच उनकी छवि एक सम्मानित व्यक्ति की है, इसकी कोई बुनियाद नहीं है।
- 2014 के चुनाव में जेटली एक लाख से ज्यादा वोटों से हार गए थे। भारतीय लोकतंत्र ने कभी उनके सार्वजनिक सम्मान के दावे को स्वीकार नहीं किया।
- केजरीवाल ने कहा है कि यह केस इस बुनियाद पर फाइल किया गया है कि हमने उनके पब्लिक ऑनर को चोट पहुंचाई। इस बात पर नहीं कि उनके पर्सनल ऑनर को चोट पहुंची।
कोर्ट को सौंपा 2000 पेज का जवाब
- डिफेमेशन केस का जवाब देते हुए 'आप' नेताओं की तरफ से मंगलवार को 2,000 पेज का जवाब रजिस्टर्ड कराया गया।
- आप की तरफ से कोर्ट को राघव चड्ढ़ा ने ये दस्तावेज और 3 सीडी कोर्ट में जमा की है।
- चड्ढा ने कहा कि आनेवाले समय में हम और डाक्यूमेंट कोर्ट में फाइल करेंगे।
जेटली ने लगाया था इमेज खराब करने का आरोप
- केजरीवाल के अलावा जेटली ने आप नेता कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह, राघव चड्ढा और दीपक वाजपेयी के खिलाफ भी केस फाइल कराया है।
- जेटली का कहना है कि आप नेताओं के गलत बयानों से उनकी इमेज खराब हुई है।
- इसे सामले में जेटली ने 5 जनवरी को कोर्ट में अपना बयान दर्ज कराया था।
- जेटली ने अपने बयान में कहा था कि सभी 6 आप नेता एक दूसरे के कॉन्टेक्ट में थे।
- इन लोगों ने एक सोची समझी स्ट्रेटेजी के तहत मेरे खिलाफ आरोप लगाए जो पूरी तरह झूठे हैं और मेरी और मेरे परिवार की छवि को नुकसान पहुंचाने वाले हैं।
- मुझे ट्वीटर और फेसबुक पर भी बदनाम किया गया। मेरे खिलाफ भद्दी टिप्पणियां की गईं जिससे मेरी छवि खराब हुई।
-केस आईपीसी धारा 499 (मानहानि), 500 (मानहानि के लिए सजा), 501 (मानहानि करने वाली जानकारी और सूचना का प्रकाशन), 502 (ऐसी सामान की बिक्री), 34 ( ज्वाइंट कॉन्सप्रेसी ) और 35 (एेसे काम को क्राइम करने की मंशा के साथ अंजाम देना) के तहत दर्ज कराया गया है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...