हमें चाहने वाले मित्र

11 दिसंबर 2015

अफगानिस्तानः काबुल में स्पैनिश एंबेसी के पास धमाका, चार दिन में तीसरा हमला

हमले में एक शख्स के मरने की खबर है।
हमले में एक शख्स के मरने की खबर है।
काबुल. अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में शुक्रवार शाम स्पेन एंबेसी के पास ब्लास्ट हुआ। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, धमाका काबुल सिटी के शिरपुर इलाके में एक कार में हुआ। अफगान तालिबान ने धमाकों की जिम्मेदारी ली है। हमलावर और सिक्युरिटी फोर्सेस के बीच फायरिंग भी हुई। एक शख्स के मारे जाने की खबर है। दस से ज्यादा घायल हैं। चार दिन में यह तीसरा हमला है।
अपडेट्स
-अफगान तालिबान ने हमले की जिम्मेदारी लेते हुए कहा, 'हमने कार को बम से उड़ाया, हमारे सात लड़ाके अब भी अफगान पुलिस पर गोलियां दाग रहे थे'।
- सेंट्रल काबुल में स्पेन की एंबेसी के बाहर गेस्टहाउस को निशाना बनाकर एक कार में बम ब्लास्ट किया गया। कुछ देर बाद वहां रॉकेट हमले की जानकारी मिली। अफगानिस्तान मीडिया ने भी इस बात की पुष्टि की है।
- काबुल के इस इलाके में जब हमला हुआ तो वहां भारी भीड़ थी। सिक्युरिटी फोर्सेस के मुताबिक, इस दौरान फायरिंग भी की गई।
- अफगान सीआईडी के चीफ फरीदुन औबैदी ने बताया कि हम हमले की जांच कर रहे हैं। अभी पक्के तौर पर नहीं कहा जा सकता कि कितना नुकसान हुआ है।
- आतंरिक मामलों के मंत्रालय के प्रवक्ता सादिक सिद्दीकी ने बताया कि सुरक्षा बल आतंकियों की तलाश में जुटे हुए हैं।
- शिरपुर में कई NGO'S के ऑफिस और कई सरकारी अफसरों के आवास हैं।
दो दिन पहले कंधार एयरपोर्ट को बनाया था निशाना
- अफगानिस्तान में दो दिन पहले कंधार एयरपोर्ट को हमलावरों ने निशाना बनाया था। उस दौरान सिक्युरिटी फोर्सेस और तालिबान आतंकियों के बीच हुए एनकाउंटर में 10 आतंकी मारे गए थे।
- मंगलवार को हमले में आतंकियों ने पास के एक स्कूल बिल्डिंग में पर कब्जा कर लिया था।
काबुल में हर दिन नाकाम होते हैं 10 हमले
- अफगानिस्तान में मौजूद नाटो के जनरल जॉन कैंबेल ने पिछले दिनों एक रिपोर्ट में कहा था कि काबुल में हालात ऐसे हो गए हैं कि हर दिन 10 आतंकी हमले नाकाम किए जा रहे हैं। आतंकी अब हाई प्रोफाइल हमलों को अंजाम दे रहे हैं।
- अफगानिस्तान की डिफेंस मिनिस्ट्री के मुताबिक, पूरे देश में आतंकी हमलों के कारण सिक्युरिटी फोर्सेस के जवानों की मौतों के आंकड़े में 75 फीसदी का इजाफा हुआ है।
- 2014 में 4634 अफगान जवान आतंकी हमलों में शहीद हुए थे।
काम नहीं आ रही अफगान बलों की ट्रेनिंग
- अमेरिका और नाटो देशों ने अफगान बलों को आतंकवाद विरोधी अभियानों की ट्रेनिंग देने के लिए 60 अरब डॉलर खर्च किए हैं।
- लेकिन अफगानिस्तान की सिक्युरिटी फोर्सेस के पास अमेरिकी बलों जैसी काबिलियत और एडवांस्ड वेपन्स नहीं हैं।
- ये बल काबुल के अंदर ही हमले नहीं रोक पा रहे हैं। पिछले दिनों काबुल एयरपोर्ट पर तीन बार हुए हमले इसका उदाहरण हैं।
अफगानिस्तान में भारतीय कितने महफूज?
- काबुल में इसी साल 13 मई को कोलोला पुश्ता इलाके स्थित गेस्ट हाउस पार्क पैलेस पर आतंकी हमला हुआ था। इसमें 4 भारतीयों सहित 14 लोगों की मौत हुई थी।
- यहां अफगानिस्तान स्थित भारतीय राजदूत अमर सिन्हा जाने वाले थे। इसलिए गेस्ट हाउस को टारगेट बनाया गया था।
- फरवरी में हेलमंद प्रांत में तालिबान ने फादर अलेक्सिस प्रेमकुमार एंटनीसामी का अपहरण कर लिया था। लेकिन भारतीय खुफिया एजेंसियों के अभियान के बाद फादर को मुक्त करा लिया गया।
- 2014 में अफगानिस्तान में भारतीयों के खिलाफ 14 आतंकी वारदात हुई।
- 2013 में जलालाबाद स्थित इंडियन कॉन्स्यूलेट पर हमले सहित भारत के खिलाफ 3 आतंकी घटनाएं हुई थीं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...