हमें चाहने वाले मित्र

04 नवंबर 2015

13 साल की लड़की रेप के बाद मां बनी, रिपोर्ट हुई तो समाज ने किया जाति से बाहर

डेमो फोटो
डेमो फोटो
रायपुर. शहर के आरंग के पास रीवां गांव में 13 साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म हुआ। खुलासा होने पर समाज के कुछ ठेकेदारों ने फैसला दिया कि पीड़िता दुष्कर्मी के साथ उसकी दूसरी पत्नी बनकर रहे। बच्ची बिन ब्याही पत्नी बनकर दुष्कर्मी के साथ रहने लगी। इस फैसले के बाद उस पीड़िता के साथ रोजाना दुष्कर्म होने लगा। इस बीच उसने एक बच्ची को जन्म दिया। पीड़िता का यह भी आरोप है कि इस बच्ची को दुष्कर्मी की पत्नी ने जमीन पर पटककर मारने की कोशिश की। पीड़िता ने रिपोर्ट लिखाई। समाज ने दबाव डाला कि रिपोर्ट वापस नहीं ली, तो जात से बाहर कर दिया जाएगा।
आरोपी का नाम गोवर्धन (25) है। उसने पीड़ित बच्ची को खेत में बहलाकर बुलाया और उसके साथ दुष्कर्म किया। जब गर्भ का पता चला, तो पीड़िता के घरवाले समाज के पास गए। समाज के तथाकथित प्रमुख लोगों ने फैसला दिया कि चूंकि बच्ची मां बनने वाली है, लिहाजा उसे दुष्कर्मी की पत्नी के रूप में उसके साथ रहना होगा। आरोपी गोवर्धन की शादी पहले ही हो चुकी है और उसके दो बच्चे भी हैं। अब गोवर्धन ने बच्ची को घर के बाहर कोठार में रहने की जगह दे दी। इसी में ही पीड़िता ने बच्ची को जन्म दिया।
पीड़िता कहती है कि दो माह के बच्चे को गोवर्धन की पत्नी ने गुस्से में आकर जमीन पर पटक दिया, जिससे बच्ची का पैर टूट गया। बच्ची ने अपने घरवालों को सारी बात बताई। घरवालों ने पुलिस में रिपोर्ट लिखाई और गोवर्धन को गिरफ्तार किया। अब समाज वालों ने पीड़िता के माता-पिता पर दबाव डालना शुरू कर दिया कि समाज का मामला है, रिपोर्ट वापस लो। ऐसा नहीं करने पर उनका हुक्कापानी बंद कर दिया गया और बहिष्कृत कर दिया गया। बाल आयोग की मदद से फिलहाल बच्ची बालिका गृह और उसकी 6 महीने की बेटी रायपुर के एक अडॉप्शन सेंटर में है। इस मामले में जब समाज के प्रमुखों से बात करने की कोशिश की, तो कोई सामने नहीं आया।
13 साल की पीड़िता का दर्द
मैं छेना लेकर जा रही थी, वह मुझे खेत में ले गया। मेरे साथ जबरदस्ती की। इसके बाद सब लोगों ने कहा कि अब मैं उसकी पत्नी बन गई हूं। मेरी शादी नहीं हुई, लेकिन मैं पत्नी बन गई। मेरी सौत मुझे मारती थी। मेरा पति गंदा आदमी है, मैं उसे पति नहीं बनाउंगी।
परिवार ने कहा हमें काम नहीं देते
जून 2014 में बच्ची से दुष्कर्म हुआ। रिपोर्ट लिखवाने के बाद परिवार का हुक्का पानी बंद कर दिया गया। समाजवाले कहते हैं कि जब तक समझौता नहीं होगा काम नहीं मिलेगा। पीड़िता की दो छोटी बहनों से भी दुष्कर्म करने की धमकी दी जा रही है।
शिकायत मिली तो हमने कार्रवाई की
परिवार ने हमें बताया कि समाज के लोग उसे धमकी दे रहे हैं कि रिपोर्ट वापस नहीं ली, तो पीड़ित बच्ची की दोनों छोटी बहनों के साथ भी ऐसा ही होगा। हमने कार्रवाई की और पीड़िता व उसकी बच्ची को सही जगह पहुंचाया।'' - शताब्दी पांडे, अध्यक्ष, बाल संरक्षण अधिकार आयोग
इलाहाबाद हाईकोर्ट की टिप्पणी
सरकार पीड़ित बच्ची की पढ़ाई से लेकर नौकरी तक की व्यवस्था करे। नवजात को गोद लेने में मदद करे। समाज ऐसे मामलों में अपनी भूमिका के बारे में सोचे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...