हमें चाहने वाले मित्र

04 अक्तूबर 2015

कांग्रेस में छुपे कमल के समर्थक चड्डी छाप ,,,,,,,,,,,,,,,

दोस्तों कांग्रेस को पिछले दिनों एक साज़िश के तहत कांग्रेस संगठन और जिन राज्यों में कांग्रेस सरकार थी वहा एक साज़िश के तहत कांग्रेस में छुपे कमल के समर्थक चड्डी छाप लोगों ने एक सुनियोजित षड्यंत्र के तहत कांग्रेस के कैडर वोटर ,,अल्पसंख्यक ,,दलित ,,वोटर्स को कांग्रेस से अलग करने के लिए कुछ चड्डी छाप भाजपा के एजेंट कोंग्रेसियो ने हाईकमान और कुछ नेताओ को भड़काया ,,इतना ही नहीं कहीं गोलिआ चलवाई तो अल्पसंख्यको के आंसू इसलिए नहीं पोंछे गए के इससे बहुसंख्यक नाराज़ हो जाएंगे ,,,,यह प्रचार किया गया के हम अल्पसंख्यक और दलितों की बात करते है इसलिए दूसरे वोटर हमसे नाराज़ है ,,खेर कांग्रेस हाईकमान को चड्डी कांग्रेस भाजपा एजेंटो ने अपने नियंत्रण में रखते हुए कांग्रेस को उसके कैडर वोटर्स उससे अलग कर भाजपा की ताजपोशी करवाने में कामयाबी हांसिल कर ली ,,,आज भी कांग्रेस में भाजपा के एजेंट बखूबी कांग्रेस के वोटर्स को कांग्रेस से दूर करने और हाईकमान ,,वरिष्ठ नेताओ को भड़का कर इन्हे दूर करने की साज़िशों में जुटे है ,,कांग्रेस के प्रति लोगों में फिर उत्साह बढ़ा है लेकिन कांग्रेस संगठन में आज भी कुछ ऐसे लोगों की पहचान की गई है जो गुपचुप तरीके से भाजपा के एजेंट के रूप में कांग्रेस कैडर वोटर्स के खिलाफ सोची समझी साज़िश के तहत उन्हें कांग्रेस के खिलाफ भड़का कर और कांग्रेस के हाईकमान को यह कहकर भड़काकर के अल्पसंख्यक तो वार्ड में ,,पंचायत में ,,,विधानसभा में ,,लोकसभा में हार जाएगा इसलिए वोट मत दो ,,बस इनकी बात हाईकमान मानता है और अल्पसंख्यक दलित वोटर्स कांग्रेस से फिर दूर चले जाते है नतीजन कांग्रेस जीती हुई बाज़ी हारती है और भाजपा कांग्रेस में बैठे चड्ड छाप एजेंटो की वजह से हारी हुई बाज़ी जीत कर जश्न मनाती है ,,,कांग्रेस के चड्डी छाप लोग हाईकमान को कांग्रेस संगठन में अनुपातिक आधार पर अल्पसंख्यक और दलितों को प्रतिनिधित्व भी नहीं देने दते है ,,पिछले दिनों राजस्थान में बीस प्रदेश कांग्रेस कमेटी के नए पदाधिकारी बनाये गए एक पदाधिकारी भी कांग्रेस में शामिल नहीं हुआ ,,,अभी हाल ही में कांग्रेस के चड्डी छाप भाजपा के एजेंट एक तरफ तो प्रस्तावित विस्तार की जाने वाली कांग्रेस कार्यकारिणी में अल्पसंख्यक ,,दलितों को पदाधिकारी नहीं बनाये जाने की वकालत कर रहे है दूसरी तरफ यही लोग अल्पसंख्यकों को कांग्रेस की वेबसाइट पर ऐ आई सी सी ,,डब्ल्यू सी सी ,,दूसरे संगठन ,,विभाग ,,अग्रिम संगठन ,,सेवादल ,,,युथ कांग्रेस वगेरा के बारे में समझाते है के देख लोग कहीं कोई अल्पसंख्यक पदाधिकारी नहीं बनाया गया है ,,सिर्फ गिनती के लोग ही इसमें शामिल है वोह भी पुरानी घिसी पिटी फिल्मे है ,,इतना ही नहीं चड्डी छाप कोंग्रेसियो के एक शगूफा और है के राजस्थान में सह प्रभारी मिर्ज़ा इरशाद बेग है लेकिन कांग्रेस की वेबसाइट में गुरुदास कामत प्रभारी के साथ उनका नाम और फोटु भी अपलोड जानभूझ कर नहीं किया गया है ,,,,,,,,,,,,,,,दोस्तों यह चड्डी छाप कोंग्रेसी एक तरफ तो कांग्रेस के हाईकमान को अल्पसंख्यक दलितों से दूर रहकर कटटर वोटरो को अपने साथ जोड़ने की सलाह देकर कांग्रेस की सत्ता भाजपा के हाथो में दिलवा चुके है ,,आब यह चड्डी छाप कोंग्रेसी कांग्रेस के संगठन विभागों में सेंध लगा रहे है ,,कांग्रेस के एक दर्जन से भी ज़्यादा विभाग है जिनकी जानकारी भी आम कोंग्रेसी को नहीं है उनका विस्तार तो राज्य और जिला स्तर पर इनकी नालायकी से नहीं हो पाया है ,,लेकिन यह लोग अब एक षड्यंत्र के तहत कांग्रेस की ताक़त को बांटने के लिए सो कोल्ड कांग्रेस विचारक संगठन बनाने लगे है ,,बिना किसी विधान ,,बिना किसी संविधान के इन लोगों ने युथ कांग्रेस हो चाहे मूल कांग्रेस हो कथित रूस से राजीव गांधी ,,राहुल गांधी ,,सोनिया गांधी ,,,कांग्रेस विचार ,,,सहित कई दर्जन संगठन बना लिए है जो सोशल मीडया सहित आम वोटर्स के बीच कांग्रेस के प्रति भ्रम फैला रहे है ,,पद बांटे जा रहे है ,,बधाइयां दी जा रही है ,,विज्ञापन लगाये जा रहे है लेकिन कांग्रेस का वोट बैंक बढ़ाने और नाराज़ वोटर्स को फिर से कांग्रेस के साथ जोड़ने की दिशा में इनकी कोई सोच कोई विचार नहीं है ,,,यह सारी गुस्ताखियाँ हाई कमान की जानकारी में है ,,लेकिन हाईकमान से जुड़े लोग भी इस गुस्ताखी में शामिल होने से इनके खिलाफ कोई कार्यवाही सम्भवं नहीं लग रही है ,,,कांग्रेस हाईकमान को एक बार फिर से चड्डी छाप कोंग्रेसियो ,,भाजपा के भेदिये एजेंटो की पहचान कर अपने कैडर वोटर्स दलित और अल्सपंखयको को अपने साथ जोड़ने के लिए कोई फार्मूला तय कर इन्हे विश्वास में लेना होगा वरना वही कहावत ,,पूरी के चक्कर में आधी भी गई सही साबित होगी ,,इसलिए कांग्रेस को ज़िंदाबाद करने के लिए कांग्रेस के वेबसाइट पर संतुलित अनुपातिक पदाधिकारियों के नाम नज़र आये ,,राजस्थान में अगर सहप्रभारी मिर्ज़ा इरशाद बैग है तो उनका नाम भी राजस्थान सह प्रभारी के रूप में अपलोड करवाया जाए ,,,,,,,,,,,,,,अग्रिम संगठन ,,,विचार मंच ,,दूसरे सहयोगी संगठन जो एप्रूव्ड है उनकी पहचान राज्य स्तर और जिला स्तर तक बनाई जाए ,,,बिना किसी विधान ,,बिना किसी विधि नियम के तहत कोंग्रेस के नाम पर जो फ़र्ज़ी संगठन बनाकर सोशल मिडिया और वोटर्स को भ्रमित कर रहे है जिसमे कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता भी शामिल है जो राष्ट्रिय ,,राजय और जिला स्तर के सर्टीफिकेट बांटकर वाह वाही लूट रहे है ऐसे लोगों को भी रोका जाए यह लोग अपनी ताक़त अपना प्रचार मूल कांग्रेस को ज़िंदाबाद करने में लगाये और कांग्रेस सिर्फ कांग्रेस को कोंग्रेस के विधिक विभागों ,,अग्रिम संगठनो के साथ मिलकर करे तो निश्चित तोर पर चड्डी छाप कमल कोंग्रेसियो की जो भाजपा के एजेंट बनकर कांग्रेस में रहकर कांग्रेस के हाईकमान को भड़काकर कांग्रेस को नुकसान पहुंचा रहे है उनकी साज़िशें नाकामयाब होनी ,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...