हमें चाहने वाले मित्र

22 अगस्त 2015

महिलाओं के लिए नर्क से कम नहीं सऊदी, चार गवाह हों तो ही माना जाता है रेप

महिलाओं के लिए नर्क से कम नहीं सऊदी, चार गवाह हों तो ही माना जाता है रेप
इंटरनेशनल डेस्क। सऊदी अरब में जिंदगी आसान नहीं है, खासकर महिलाओं के लिए तो बिल्कुल भी नहीं। हालांकि, इस बार यहां की महिलाओं के लिए खुशी का मौका है, क्योंकि वो सऊदी के इतिहास में पहली बार वोट डालने जा रही हैं। पहली बार यहां वोटर लिस्ट में महिलाओं के नाम जोड़े गए हैं। वैसे यहां के अजीबोगरीब कानून और पाबंदियां महिलाओं के लिए हमेशा मुश्किलें खड़ी करते रहे हैं। यहां महिलाओं की ड्राइविंग पर रोक है और रेप जैसे अपराध में आरोपी को सजा तभी मिल सकती है, जब उसके चार चश्मदीद हों। हम यहां सऊदी अरब के ऐसे ही कुछ अजीबोगरीब नियमों और पाबंदियों के बारे में बता रहे हैं।
अकेले सफर करने पर पाबंदी
40 साल के ऊपर की फातिमा रियाद में रहती हैं। वह तब तक प्लेन में बैठ नहीं सकती, जब तक उनके पास अपने बेटे द्वारा लिखित अनुमति नहीं होगी। यहां कानूनी रूप से बालिग होने के बावजूद महिलाओं का कोई अस्तित्व नहीं है। सऊदी में हर महिला का पुरुष अभिभावक होना चाहिए। इसमें उसके पिता से लेकर अंकल, भाई, बेटे होते हैं। किसी भी सऊदी महिला को पढ़ाई, काम, यात्रा, शादी और यहां तक डॉक्टरी जांच के लिए भी घर के पुरुष सदस्य से लिखित अनुमति लेनी पड़ती है। वहीं, न्याय की बात तो भूल जाइए, बिना किसी भी पुरुष अभिभावक वो केस तक फाइल नहीं कर सकती।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...