हमें चाहने वाले मित्र

11 अगस्त 2015

शिक्षा से जुड़े कुछ कर्मचारी मुख्यमंत्री के आगमन के पहले लोगों को भड़काकर उनके कार्यक्रम को बिगाड़ने के जतन में जुटे है

कोटा के जिला शिक्षा अधिकारी और शिक्षा से जुड़े कुछ कर्मचारी मुख्यमंत्री के आगमन के पहले लोगों को भड़काकर उनके कार्यक्रम को बिगाड़ने के जतन में जुटे है वोह लोग शिक्षा निदेशक और ज़िम्मेदार अधिकारीयों को गुमराह कर गलत सूचनाये देकर फ़र्ज़ी आदेश करवा रहे है जिससे कोटा के आम लोगों ,,कोटा के भाजपा कार्यकर्ताओें और निर्वाचित विधायक ,,सांसद सहित दूसरे प्रतिनिधियों में गंभीर रोष व्याप्त है ,,,,,,,,,
पिछले दिनों स्टाफिंग पैटर्न के नाम पर जिला शिक्षा अधिकारी और संबंधित कर्मचारियों द्वारा सरकार को भेजी गई कालपनिक मनमानी सुचना के आधार पर फ़र्ज़ी स्टाफिंग पैटर्न हुआ और कोटा सहित पुरे राजस्थान में इस व्यवस्था का विरोध हुआ ,,हाहाकार मचा ,,शिक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री के पुतले जले उनके खिलाफ माहोल बनाया गया ,,,,,,लोग जागरूक हुए ,,मंत्री ,,मुख्यमंत्री ,,अधिकारीयों को ज्ञापन दिए गए ,,नतीजन कोटा में शिक्षा निदेशक सुआलाल के आगमन के बाद ख़ास तोर पर उर्दू विषय के स्कूल के छात्र छात्राओं की संख्या मांगी गई ,,,जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक और ,,उपनिदेशक सहित शिक्षा कर्मियों ने घर बैठे ही मनमानी सुचना तैयार की और सरकार ,,सरकार के अधिकारीयों ,,शिक्षा निदेशक को एक बार फिर अपनी गति छुपाने के लिए काल्पनिक सुचना भेज दी ,,,,,,,कोटा से जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा भेजी गई सुचना मनघडंत आधारों पर तैयार की गई ,,स्थिति यह रही के काफी स्कूलों में उर्दू विषय पढ़ने वाले छात्र छात्राओं की सुचना गलत और बहुत कम भेजी गई ,,,,,,,कोटा में छोटी महारानी ,,,बढ़ी महारानी रामपुरा के स्कूलों में काफी बच्चे है लेकिन सुचना गिनती की भेजी गई इसी तरह राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय टिपटा में छात्राओं की सुचना आधी से भी बहुत कम बनाकर भेजी है ,,इस स्कूल में वर्ष टिपटा वर्ष दो हज़ार चोवदाह में नवी में छियालीस दसवीं में अड़तालीस छात्राएं थी जबकि वर्ष दो हज़ार पन्द्राह में कक्षा नवीं में अठ्ठावन और दसवीं में छत्तीस छात्राएं है लेकिन शिक्षा विभाग ने जानबूझकर सरकार को गुमराह कर फ़र्ज़ी आदेश जारी करने के लिए गलत आंकड़े दिए है ताकि मुख्यमंत्री के कोटा आगमन पर आम जनता का रोष हो और क़ानून व्यवस्था बिगड़ने से मुख्यमंत्री विरोधी अधिकारीयों को ठंडक मिल सके ,,ऐसे सरकार को गुमराह कर फ़र्ज़ी स्टाफिंग पैटर्न करने वाले अधिकारीयों द्वारा भेजे गए सभी राजस्थान के आंकड़ों को दुबारा से सत्यापित करवाये और जिन अधिकारीयों ने गलत सूचनाये दी है उन अधिकारीयों को निलंबित कर मुख्यमंत्री ,,शिक्षा मंत्री ,,सरकार के खिलाफ माहोल तैयार कर लोगों को उकसाने के मामले में दंडित भी किया जाए ,,,,,,,,,,विदित रहे कोटा में तहरीक ऐ उर्दू राजस्थान ने अपने सर्वे की रिपोर्ट भी दी है और उर्दू के गलत आंकड़ों के कारण जो अराजकता का माहोल हुआ है उस मामले में उर्दू के हमदर्द सरकार के कोटा आगमन पर बढ़ा प्रदर्शन करने की पूरी तैयारियां कर चुके है ,,इसके पहले सरकार और वरिष्ठ अधिकारी इस मामले को सही आंकड़े लेकर क़ानूनी रूप से अपनी भूल सुधारना चाहते है लेकिन कोटा जिला शिक्षा अधिकारी ओर संबंधित स्टाफ शायद मुख्यमंत्री के खिलाफ खेमे के है जो किसी के बहकावे में आकर मुख्यमंत्री की कोटा यात्रा को विवादित बनाने के लिए टारगेट बनाकर गलत सूचनाये दे रहे है ,,,,,,देखना है ऐसे गलत सुचना देकर सरकार को गुमराह कर फ़र्ज़ी आदेश जारी करवाने वाले अधिकारीयों के खिलाफ सरकार क्या कार्यवाही करती है ,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...