हमें चाहने वाले मित्र

10 जुलाई 2015

खूबसूरत शायरी में गीता सार -:


👍 यह जिस्म तो किराये का घर है; एक दिन खाली करना पड़ेगा:!!👌
👍 सांसे हो जाएँगी जब हमारी पूरी यहाँ; रूह को तन से अलविदा कहना पड़ेगा:!!👌
👍 वक्त नही है तो बच जायेगा गोली से भी; समय आने पर ठोकर से मरना पड़ेगा:!!👌
👍 मौत कोई रिश्वत लेती नही कभी; सारी दौलत को छोंड़ के जाना पड़ेगा:!!👌
👍 ना डर यूँ धूल के जरा से एहसास से तू; एक दिन सबको मिट्टी में मिलना पड़ेगा:!!👌
👍 सब याद करे दुनिया से जाने के बाद; दूसरों के लिए भी थोडा जीना पड़ेगा:!!👌
👍 मत कर गुरुर किसी भी बात का ए दोस्त:! तेरा क्या है..? क्या साथ लेके जाना पड़ेगा...!!👌
👍 इन हाथो से करोड़ो कमा ले भले तू यहाँ... खाली हाथ आया खाली हाथ जाना पड़ेगा:!!👌
👍 ना भर यूँ जेबें अपनी बेईमानी की दौलत से... कफ़न को बगैर जेब के ही ओढ़ना पड़ेगा..!!👌
👍 यह ना सोच तेरे बगैर कुछ नहीं होगा यहाँ; रोज़ यहाँ किसी को 'आना' तो किसी को 'जाना' पड़ेगा...!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...