हमें चाहने वाले मित्र

29 जुलाई 2015

यहां हिंदुओं के साथ मुसलमान भी पढ़ते हैं हनुमान चालीसा


वडोदरा।
कहते हैं कि मजहब किसी को दुश्मनी नहीं सिखाता। उसका मकसद तो नेकी और अमन का पैगाम देना है। यह इन्सान की गलती है कि वह धर्म और मजहब पर भी हिंसा का आवरण चढ़ा देता है। गुजरात का एक हनुमान मंदिर न केवल भक्ति बल्कि सांप्रदायिक सद्भाव की मिसाल भी है। यहां शनिवार को बड़ी तादाद में लोग हनुमान चालीसा पढ़ने आते हैं। इसमें हिंदुओं के अलावा मुसलमान भी शामिल होते हैं।

वडोदरा के तरसाली स्थित यह हनुमान मंदिर रामभक्त हनुमान के अलावा उन लोगों से भी जाना जाता है जो हनुमानजी के भक्त हैं और उनके लिए धर्म कभी बाधक नहीं बना।
hanuman
यहां आने से पहले मुसलमान पास ही स्थित एक मस्जिद में नमाज पढ़ते हैं और फिर वे अपने साथियों के साथ हनुमान मंदिर पहुंचते हैं। श्रद्धालुओं के मुताबिक, मुसलमान भक्त हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं तथा भजनों में भी शामिल होते हैं।

बात यहीं तक नहीं है। जब हनुमान जयंती आती है तो हिंदुओं के साथ मुसलमान भी धूमधाम से ये पर्व मनाते हैं। तरसाली के लोगों के लिए सांप्रदायिक सद्भाव जिंदगी का सबसे अहम हिस्सा है। इसलिए जब मुसलमान नमाज के बाद हनुमान चालीसा पढ़ते हैं तो किसी को इससे आपत्ति नहीं होती। यहां हनुमान मंदिर के द्वार सबके लिए खुले हैं।
hanuman
श्रद्धालुओं के मुताबिक हिंदुओं के साथ मुसलमानों को भी हनुमान चालीसा पढ़ते देखना दिल को सुकून देता है। यहां मुस्लिम भक्त हनुमानजी के भजन गाते हैं और लोग उनका साथ देते हैं। गौरतलब है कि करीब 8 साल पहले मंदिर का निर्माण शुरू हुआ और लोगों ने मारुति मंडल नाम से एक धार्मिक संस्था बनाई।
मंदिर के लिए न केवल हिंदुओं ने बल्कि मुसलमानों ने भी दिल खोलकर दान दिया। इस संस्था के करीब 500 सदस्य मुसलमान हैं।
hanuman
मुस्लिम श्रद्धालुओं के मुताबिक अल्लाह की इबादत के साथ हनुमानजी की वंदना करना उनके तन, मन और जीवन को नई ऊर्जा देता है। इससे वे खुद को ईश्वर के ज्यादा नजदीक महसूस करते हैं। यहां के हिंदू भी मुसलमानों के प्रार्थना स्थलों पर जाते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...