हमें चाहने वाले मित्र

09 मई 2021

आज अम्मी का दिन है , जिसे लोग मदर्स डे , मातृ दिवस भी कहते है , ,लेकिन हमारे यहाँ तो, रोज़ ही अम्मी का दिन होता है

 

आज अम्मी का दिन है , जिसे लोग मदर्स डे , मातृ दिवस भी कहते है , ,लेकिन हमारे यहाँ तो, रोज़ ही अम्मी का दिन होता है ,,, कोई अहसान नहीं , यह होना ही चाहिए , जो कुछ भी चलता है ,,अम्मी की डांट डपट ,,उनकी दुआओं से ही चलता है ,,,उनका हाथ सर पर है , तो दुनिया से टकराकर भी जीतने की हिम्मत है ,, इसलिए में एक दिन सिर्फ एक दिन अम्मी का दिन बनाने के पक्ष में नहीं हूँ ,, हर रोज़ अम्मी का दिन , हर पल अम्मी का है ,,हाँ भारत माँ ,,जो हमे पालती है ,, हमे स्वाभिमान देती है ,, सम्मान देती है , खुशहाली देती है , रोज़गार देती है , जो हम एक सो चालीस करोड़ लोगो की रक्षक है ,,उस माँ के साथ हमने झूंठ बोलकर कितना धोखा किया ,,कितनी लूट की ,,इस माँ के कितने हिस्से पर दुश्मनो के क्रूर क़दमों ,,इनकी क़ातिल निगाह होने पर भी हमने क्या कुछ बदले में किया ,,इस माँ की सुरक्षा के लिए ,,इस माँ की गोद में एक सो चालीस करोड़ लोगो की सुरक्षा के लिए ,,इस माँ के बच्चो से कितने झूंठे वायदे किये ,, कितना झूंठ बोले ,,कितने निर्दोषो का हमने सड़को पर निहत्थे लोगो का क़त्ल किया ,,इसके आत्मचिंतन का दिन ज़रूर हो सकता है ,,, आज इस भारत माँ के बेटे , बेटियां , ऑक्सीजन , इंजेक्शन , दवा , अस्पतालों में बेड , आई सी यू , वेंटिलेटर , व्यवस्थाओं के अभाव में बे मोत मर रहे हैं , क़ब्रिस्तान , शमशान में लाइनें लगी है , ओर यह ज़िम्मेदार , आरोप , प्रत्यारोप खेल रहे हैं, फ़र्ज़ी घोषणाएं , फ़र्ज़ी व्यवस्थाएं , अपनी नाकामयाबी छुपाने के लिये , नज़रबंदी का खेल , बेरोज़गारी , आर्थिक संकट सब तो है , इन सब पर कोई अफसोस , कोई आत्मचिंतन , ईमानदारी से ऐसे हालातों से निपटने की संयुक्त पहल , इन सियासी बेटों में , हरगिज़ हरगिज़ नहीं है , हमें इन सब पर आत्मचिंतन करना होगा ,, लेकिन मुझे नहीं लगता के शीर्ष पद पर बैठे साहिब , साहिब के भक्त , मेरे खुद के अपने चहेते लीडरान, इस मामले में कोई चिंतन कर ,,कुछ सुधार करेंगे ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...