हमें चाहने वाले मित्र

14 मई 2021

ऐ अल्लाह , तू हमारी पुकार , हमारी दुआएं सुन ले

 ऐ अल्लाह , तू हमारी पुकार , हमारी दुआएं सुन ले , यह क़यामत सा माहौल बर्पा है , इस माहौल को फिर से तू , जन्नत के माहौल में , हमारी दुआओं से तब्दील कर दे ,, ऐ अल्लाह , हम गुनाहगारों को , फिर से तू सीना चोढा कर खुशियों के साथ , गंगा जमुना संस्कृति में ,, ईद मुबारक , ईद मुबारक , कहकर , एक दूसरे से गले मिलने , एक दूसरे को सिवईयां खिलाकर , प्यार मोहब्बत का पैगाम देने की तौफ़ीक़ अता फरमा दे , फिर से बाज़ारों की रौनक , खुशिया ,, ज़िंदगियाँ , तंदरुस्ती , रोज़ी रोटी , लोटा दे ,, ऐ अल्लाह तू हमारे गुनाहों को माफ़ कर ,हमे फिर से ईद को ईद कहने , और ईद को ईद की तरह से मनाने की तौफ़ीक़ अता कर दे ,, अख्तर

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...