हमें चाहने वाले मित्र

13 मई 2021

एक सुबह होगी

 

एक सुबह होगी
जब लोगों के कंधों पर ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं दफ्तर का बैग होगा,
गली में एंबुलेंस नहीं स्कूल की वैन होगी,
और भीड़ दवाखानो पर नहीं चाय की दुकानों पर होगी,
एक सुबह होगी ,
जब पेपर के साथ पापा को काढ़ा नहीं चाय मिलेगी,
दादाजी बाहर निकल कर बेखौफ पार्क में गोते लगाएंगे,
और दादी टेरेस पर नहीं मंदिर में जल चढ़ाकर आएंगी,
दादा पढ़ेंगे मस्जिद में नमाज़
एक सुबह होगी ,,
जब हाथोंं में कैरम और लूडो नहीं बैट और बॉल होगा,
मैदानों में सन्नाटा नहीं शोर का भार होगा,
शहरों की सारी पाबंदियां हटेगी और फिर से त्यौहार होगा,
एक सुबह होगी ,,
जब जी भर के सबको गले लगाएंगे,
कड़वी यादों को दफन कर फिर से मुस्कुराएंगे,
और दुनिया को कह देंगे नजरे झुका लो हम फिर से वापस आए हैं
एक सुबह होगी ,

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...