हमें चाहने वाले मित्र

19 अप्रैल 2021

एक धर्म गुरु जो हमेशा धर्म की राह पर चलने के निर्देश देते हैं , लेकिन आज कलियुग कहो , या फिर मुसीबत का दौर वही धर्म गुरु , चाहे हिन्दू हों ,चाहे मुस्लिम हो , चाहे सिक्ख हों , चाहे , क्रिश्चियन हो , चाहे , जेन हों ,बौद्ध हों , जो भी हो , अपने मज़हब के लोगों को , धार्मिक स्थलों से दूर रहने की खुद हिदायतें दे रहे हैं

एक धर्म गुरु जो हमेशा धर्म की राह पर चलने के निर्देश देते हैं , लेकिन आज कलियुग कहो , या फिर मुसीबत का दौर वही धर्म गुरु , चाहे हिन्दू हों ,चाहे मुस्लिम हो , चाहे सिक्ख हों , चाहे , क्रिश्चियन हो , चाहे , जेन हों ,बौद्ध हों , जो भी हो , अपने मज़हब के लोगों को , धार्मिक स्थलों से दूर रहने की खुद हिदायतें दे रहे हैं , सोशल डिस्टेंसिंग , का पाठ पढ़ा रहे है ,,, यह सब ईश्वर , अल्लाह , वाहेगुरु , जिसस,,. श्री महावीरजी ,, जो भी जिसको मानते हों , उनका ही तो प्रकोप है , उनकी ही तो सज़ा है ,, और हमे सज़ा क्यों मिल रही है , क्यों , हमारे त्योहारों में ,हम बंदिशों में हो गए है , ,मंदिर , मस्जिद , गुरुद्वारे में जाने के लिए हमारे पैरों में बेड़ियाँ डाल दी गयी हैं ,, क्यों ,हमारी अज़ान , नमाज़ ,भजन , कीर्तन , उपदेश , धार्मिक सभाये , चतुर्मास ,, समेट दिए गये है , जिन धार्मिक स्थलों में हम अल्लाह , ईश्वर ,भगवान ,, को तलाश करते है , अपने संकट के वक़्त , खुद को संकट से मुक्त करने के लिए प्रार्थनाये करते हैं ,, लेकिन आज ,, हम सब अपने अपने , धार्मिक स्थलों के बाहर खड़े है , उनको कातर दृष्टि से देख रहे है , अपने धार्मिक स्थलों में , प्रार्थनाएं ,करना , इबादत करना ,, सब कुछ अपराध हो गया है ,, अपने धार्मिक स्थल पर ,, इबादत करना ,, जेल पहुंचाने के लिए अब काफी हो गया है , क्या कभी ऐसे बुरे दिन किसी ने देखे हैं ,, , हमारे अपने धर्म गुरु , जिनकी ज़िम्मेदारी धार्मिक स्थलों की हिफाज़त करना , वहां पूजा अर्चना ,,इबादत ,, करने के लिए , अपने अनुयाइयों के हक़ों के लिए संघर्ष करना होता है , आज वही धर्मगुरु , स्वेच्छा से , अज़ान , कीर्तन , भजन , घंटियों , पर पाबंदी लगाने की सलाह दे रहे हैं ,, वही धर्म गुरु ,, गिनती के लोगों की रस्मन इबादत , पूजा , अर्चना की एडवाइज़री जारी कर रहे है ,, यह बात अलग है , के मुख्यमंत्री हों , प्रशासन से जुड़े लोग हों , उन्हें आदर सत्कार देकर , उन्हें ऐसा करने के लिए मोटिवेट कर रहे है , क्योंकि सरकार की जो एडवायज़री है , अगर इस मज़हबी स्थलों की पाबंदियों को लेकर , सरकारी सख्ती होती , तो विद्रोह होता इसलिए , अपने ही लोग ,अपने ही लोगों को समझा रहे है , पुलिस और प्रशासन का यह कम्युनिटी लाइजनिंग सिस्टम है ,, जिसमे , प्रशासन पूरी तरह से कामयाब हुआ है , हालात भी ऐसे है जो हमे यह सब करने को मजबूर कर रहे है , लकिन ऐसा क्यों हो रहा है ,, हम से हमारा खुदा , हमारा भगवान ,वाहेगुरु , ,जीसस क्यों खफा है , क्यों नाराज़ है ,, क्या कभी हमने सोचा है , हमारे धर्मगुरु , जो धर्म के नाम पर सियासत में आ गए है, , कुछ साधु , संत , ,मौलवी ,, मुल्ला , क़ाज़ी अपना मूल काम छोड़कर ,कर , सियासत में आ गए है , वोह मंत्री है , मंत्री दर्जा हैं , जब ऐसा है , जब उन्हें इस दर्जे का इनाम , हुकूमत ने दिया है , तो वोह फिर , अपने इष्ट से ज़्यादा , सरकार , उन्हें इस ओहदे पर लाने वाले व्यक्ति को खुश करने में अपना वक़्त लगाएंगे , , सरकार की मज़हब के खिलाफ , मज़हब के अनुयायियों के खिलाफ ,, ,नीतियों को भी वोह , सकारात्मक तरीके से वकील बन कर प्रचारित करेंगे , या फिर खामोशी इख़्तियार कर लेंगे ,, हमारे खुद के अख़लाक़ , आदाब , हमारे घरों में , रिश्तेदारों में , पड़ोसियों में ,, दोस्तों में , गृहस्थी में , व्यापार में , नौकरियों में , ईमानदाराना नहीं है ,, एक दूसरे से नफरत करना , बुराइयां करना , हमारा शोक हो गया है ,, ,रामराज कहो , ,या फिर इस्लाम का पड़ोसी कभी भूखा न सोये , आपकी वजह से पड़ोसी को कोई तकलीफ न हो , यह आपकी ज़िम्मेदारी है यह आपका सिद्धांत हों ,, इससे हम भटक गए है , धर्म युद्ध , , कहो या फिर जेहाद कहो ,, जिसका अर्थ बुराई के खिलाफ जंग लड़ना , फिर बुराई करने वाला कोई अपना , रिश्तेदार नातेदार ही क्यों ना हो ,, सच का साथ देना , इन सब सिद्धांतों से हम भटक गए है ,, अब यज़ीद हैं ,फिरोन है , कंस है , कौरव है , और हम , उन गिनती के लोगों को ,भाईसाहब , काका जी , नेता जी कह रहे है , जो लोग अच्छे है , जो लोग सात्विक हैं , उन्हें हम तिरस्कृत कर रहे है , महिलाओं की इज़्ज़त , अस्मत हमारे लिए , अब अहमियत नहीं रखती , रोज़ मर्रा इज़्ज़त अस्मत लुटती है , हम में से कुछ लोग धार्मिक आधार पर उन घटनाओं को तोलते है , अपने अपने धर्म के ज़ालिमों को , फटकारने की जगह ,, उन्हें दुलारते है ,, हीरो बनाते है , तो फिर जनाब , जब हम ईश्वर के ,, अल्लाह के , वाहेगुरु के , जीसस के ,, श्री महावीरजी ,,के ,मज़हबी संदेश के रास्तों से हठ जाएंगे , भटक जाएन्गे , तो फिर हमे , उस अदृश्य शक्ति , जो यह सब चला रही है , उसके प्रकोप का शिकार तो होना ही होगा , इसलिए कहते है अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है , सुधर जाओ , अपने अपन धर्म मज़हब की गाइड लाइन पर लोट आओ , किसी का दिल मत दुखाओ , किसी को तकलीफ मत दो , बुराई का साथ मत दो , बुरे को बुरा कहो , अच्छे को अच्छा कहकर , उसकी तारीफ करो , , सच के लिए संघर्षः करो ,,, महिलाओं का सम्मान करो , , अराजकता , हिंसा,, लूट खसोट , भ्रष्टाचार , , मुनाफ़ाख़ोरी , ब्याजखोरी , जुएं , सट्टे , मार काट , का रास्ता छोडो , ओरिजनल रामराज , ओरिजनल , हुज़ूर स अ व की हिदायतों का राज , ओरिजनल श्री महावीरजी की हिदायतों का राज , ओरिजनल जीसस की हिदायतों का राज , गीता का राज , वाहेगुरु की हिदायतों का राज , फिर से आने के लिए , हम अपने अपने धर्मों की तरफ लोट आये ,जो धर्मगुरु सियासी ,होकर हमे बहका बरगला रहे हैं , उन्हें , उनकी करतूतों को सार्वजनिक करे , बुरे नेताओं को घर बिठाओ , अच्छे लोगों को आगे लाओ , शायद फिर सब ठीक हो जाये , प्रकृति , का गुस्सा कम हो जाये ,, शायद , शायद ,, ओर हैं मन्दिर , मस्जिद , गुरुद्वारे दिलों में रखें , उन्हें इलाज के लिये भी तैयार रखें ,, अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...