हमें चाहने वाले मित्र

30 नवंबर 2016

,इस्लाम में दूसरे खलीफा ,,हज़रत फ़ारुक़ ऐ आज़म ने ,,,वक़्फ़ का तरतीबी निज़ाम क़ायम किया जिसकी मुतव्वली उनकी पुत्री हज़रत हफ़सा को वक़्फ़ अलल औलाद मुतव्वली बनाया

राजस्थान मदरसा बोर्ड के,,, पूर्व चेयरमेन ,,मौलाना,, अल्हाज फज़ले हक़ क़ादरी ,,ने बड़ोदा में आयोजित निज़ाम ऐ ओकाफ की राष्ट्रिय सेमिनार में कहा ,,के वक़्फ़ का निज़ाम ,,इस्लाम में दूसरे खलीफा ,,हज़रत फ़ारुक़ ऐ आज़म ने ,,,वक़्फ़ का तरतीबी निज़ाम क़ायम किया जिसकी मुतव्वली उनकी पुत्री हज़रत हफ़सा को वक़्फ़ अलल औलाद मुतव्वली बनाया गया था ,,,मौलाना फज़ले हक़ ने उक्त सेमिनार में मुख्य वक्ता के रूप में बोलते हुए ,,, इस्लाम ,,क़ुरान ,,हदीस ,,शरीयत की रौशनी में वक़्फ़ जायदादों के प्रबन्धन के बारे में खुसूसी जानकारियां दी जिसे देश भर से आये सभी उपस्थित लोगो ने सराहा ,,,,, निज़ाम ऐ ओकाफ सेमिनार का आयोजन एडवोकेट इक़बाल शेख ने किया था ,,सेमिनार में रिज़वान क़ादरी ,,जुबेर गोपलानी ,,फरीद कट पीसवाले ,,आई डी पटेल सहित हज़ारो की तादाद में मुतव्वलियों ने हिस्सा लिया ,,सेमिनार में मौलाना ज़हीर अब्बास सदस्य मुम्बई पर्सनल लो बोर्ड ,,,एडवोकेट साबिर निज़ाम ऐ वक़्फ़ गुजरात भी शामिल थे ,,सेमिनार में मुख्य अतीथि पद से बोलते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री के रहमान ने कहा ,,के वक़्फ़ के नए संशोधित क़ानून में मुतव्वलियो को काफी अधिकार दिए गए है ,,के रहमान ने कहा के हिंदुस्तान में देश की सर्वाधिक भूमि रेलवे के पास है जबकि दूसरे नम्बर पर मिलेट्री के पास है और तीसरे नम्बर की सबसे बढ़ी सम्पत्ति वक़्फ़ के निज़ाम के पास है ,,उन्होंने कहा के वर्तमान हालातो में नए क़ानून के तहत हम हमारी वक़्क़ सम्पत्तियों की हिफाज़त क़ानूनी रूप से कर सकते है ,,,निज़ाम ऐ ओकाफ के संयोजक ने कहा के ,गुजरात में वक़्फ सम्पत्ति पर गुजरात सरकार की नज़र थी ,,वक़्फ़ सम्पत्ति एक एक करके बेचीं जा रही थी ,,इसीलिए क़ानूनी रूप से मुतव्वलियो ने कार्यवाही करके अदालत का स्थगन आदेश प्राप्त कर सरकार के मनसूबो पर पानी फेरते हुए वक़्फ़ की सम्पत्ति की हिफाज़त की है ,,अल्लाह की राह में समर्पित वक़्फ़ सम्पत्ति के रखरखाव ,,प्रबन्धन ,,संरक्षण सौन्दर्यकरण ,,आय में व्रद्धि को लेकर इस सेमिनार में कई महत्वपूर्ण सुझाव आये ,,सभी मुतव्वलियों ,,आगन्तुक महमानो ने ,,मौलाना फज़ले हक़ क़ादरी के उद्बोधन को काफी सराहते हुए ,ऐसे कार्यक्रमो में मौलाना फज़ले हक़ जैसे विद्वान् वक्ताओं को बुलाने का प्रस्ताव भी पारित किया ,,मौलाना फज़ले हक़ गुजरात से जयपुर सलीम कागज़ी के निधन पर शोक जताने पहुंचे थे जहाँ आज वृहद संयुक्त शोकसभा में मौलाना फज़ले हक़ क़ादरी ने ,,सलीम कागज़ी की भूली बिसरी यादो को पेश किया जिससे वहां उपस्थित लोग भाव विहल हो गए ,,,,,,,,,,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...