हमें चाहने वाले मित्र

09 अप्रैल 2017

भाजपा शासित राज्य ,,मुख्यमंत्री ,,मंत्री ,,विधायक ,,कार्यकर्ता ,,पदाधिकारी नरेंद्र मोदी सर के कई निर्देशों की पालना नहीं करते

आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी साहिब के आदेश ,,,निर्देशों की पालना ,,,अधीनस्थ अधिकारी ,,कितनी करते है ,,यह तो पता नहीं ,,लेकिन भाजपा शासित राज्य ,,मुख्यमंत्री ,,मंत्री ,,विधायक ,,कार्यकर्ता ,,पदाधिकारी नरेंद्र मोदी सर के कई निर्देशों की पालना नहीं करते ,,,,नरेंद्र मोदी का सपना स्वच्छ भारत का है ,,उन्होंने अभियान भी चलाया है ,,राज्यों को निर्देश भी दिए है ,,लेकिन एक प्रधानमंत्री ,,,जो भाजपा की रूह और आत्मा है ,,उसके आदेश निर्देश ,,स्वच्छ भारत अभियान ,,का मज़ाक़ ,,भाजपा शासित ,राज्य ,भाजपा के जिलाप्रमुख ,,पंच ,,सरंपंच ,विधायक ,,सांसद ,,नगर निकाय के चेयरमन ,,पार्षद ,,महापौर ,,वगेरा इसकी पालना सुनिश्चित करना तो दूर ,,इन लोगो ने ,,अपने अपने राज्यो ,,अपने अपने शहरो ,,अपने अपने वार्डो में ,,इस अभियान के प्रति ,, प्राथमिक रूप से ,,व्यवहारिक रूप से ,,किसी भी एक मोहल्लेवासी को ,,स्वच्छता ,,का उदाहरण देकर ,,संतुष्ठ नहीं किया है ,,तीन साल पहले ,,प्रधामंत्री सर के ,,स्वछता अभियान के दिए गए निर्देशों के साथ ,,,देश में सरकारों ,,,निकायों ,,,पंचायतों ,,ज़िलापरिषदो की कड़ी से कड़ी जुडी है ,,लेकिन उन्होंने पुरे देश में ,,खासकर राजस्थान ,,कोटा में तो इसका कोई रत्ती भर उदाहरण भी पेश नहीं किया है ,,आदरणीय प्रधानमंत्री ने बढे ही विनम्र लहजे में ,,जो रक्षा के नाम पर ,,शैतानी हरकतों को रोक देने की हिदायत दी थी ,,लेकिन कोई नहीं रुका ,,राजस्थान में अलवर बहरोड़ की ,नृशंस हत्या ,,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आदेशों की नफरमानी है ,,प्रधानमंत्री के सख्त निर्देशों के बाद भी ,,राजस्थान सरकार के गृह मंत्री ,,उकसाने वाले ,,हत्यारों को बचाने वाले बयान दे रहे है ,,विधायक ज्ञान देव आहूजा ,,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशों के विपरीत बेहूदा भरे बयान दे रहे है ,,जांच की दिशा ,,भाजपा शासन में ,प्रधानमंत्री के निर्देशों के विपरीत चल रही है ,,अखबारों में ,,गांय पालकर दूध का व्यवसाय करने वालों को ,,खुले आम सरकार के प्रतिनिधियों द्वारा ,,गौ तस्कर के नाम से प्रकाशित करवा कर ,,नरेंद्र मोदी के फरमान की धज्जियाँ उड़ाई जा रही है ,,उत्तरप्रदेश में टिकिटों में दल बदल ,,राजनीति के अपराधीकरण पर रोक के निर्देशों के बाद क्या हुआ ,,हम सब जानते है ,वोह मुख्यमंत्री किसको बनाना चाहते थे ,और मुख्यमंत्री बनाना किसे ,,किस मजबूरी में बनाना पढ़ा ,,सभी जानते है ,,गुजरात के महेश शाह ,,जो गुजरात के सेकड़ो काले धनव्यापरियों के ,ज़िम्मेदार ,है ,उन्हें प्रधानमंत्री के ,,काले धन व्यापारियों के खिलाफ सख्त निर्देशों के बाद भी ,,गायब कर दिया गया ,,आज वोह मीडिया और आम जनता के ज़हन से भी लापता है ,,,,नरेदंर मोदी ,कश्मीर में शान्ति ,,,विकास चाहते है ,,लेकिन वहां पत्थरबाजों के समर्थक ,,आतंकवादियों की बुआ कही जाने वाली महबूबा से ,,मुफ्त में ही ,, समझौता कर सरकार बना ली गयी है ,,,,नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री सर ,,लोकतत्रं के कटटर समर्थक है ,,लेकिन उन्हें ,,उनके निर्देशों को नज़र अंदाज़ करते हुए ,,गोआ और ,,मणिपुर मे अल्पमत की सौदेबाज़ी सरकार ,,,बनाकर ,,उपेक्षित किया गया ,,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ,दिल्ली नगर निगम चुनाव में पक्की ,,तीखी नज़र थी ,,लेकिन इसके बावजूद भी ,,,दिल्ली एम सी डी चुनाव में ,,पांच पार्षदों ,,के आवेदन ही लापरवाही से गलत भरे गए ,,जो ख़ारिज हो जाने के बाद ,एक राष्ट्रिय स्तर की ,,बढे बढे क़ानून विदो ,,की पार्टी की काफी खिल्ली उड़ी ,हिअ ,नरेंद्र मोदी ने ,,मुख़्तार अब्बास नक़वी को ,,अल्संख्यक कल्याण कार्यक्रम चलाने की सख्त हिदायत दी है ,,लेकिन मुख़्तार अब्ब्बास नक़वी ने ,,नरेंद्र मोदी के जज़्बातो ,,आदेशों ,,निर्देशों की परवाह किये बगैर ,,राजस्थान की गोरक्षा के नाम पर ,शेतानो द्वारा की गयी हत्या ,,का लोकसभा जैसे मंदिर में ,,जानकारी होने से इंकार कर ,,ऐसी कोई हत्या होना नहीं बताया ,,खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा संचालित ,,प्रधानमंत्री ,,ग्रीवेंसेस ,,विभाग का भी यही हाल है ,,प्रधानमंत्री के पास ,,देश भर से पहुंची शिकायतों को ,उनके निर्देशानुसार ,,तुरंत दर्ज कर ,संबंधित राज्यों को पहुंचा दी जाती है ,,लेकिन भाजपा शासित राज्यों में ,,प्रधानमंत्री के सख्त निर्देशों के बाद भी ,,ऐसी शिकायते ,,ठंडे बस्ते में डाल दी जाती है ,,,राजस्थान में तो मुख्यमंत्री कार्यालय में स्थित प्रधानमंत्री कार्यालय से आवश्यक निर्देशों के साथ ,,फॉरवर्ड की गयी ऐसी शिकायतों पर महीनो से कोई कार्यवाही नहीं हुई ,,प्रधानमंत्री भ्रष्टाचार के खिलाफ है ,,लेकिन उनकी पार्टी समर्थित सरकारों में ,,भ्र्ष्टाचार ,,फ़िज़ूल खर्ची रोकने के स्थान पर ,,यह सभी कार्यवाही ,,बदस्तूर जारी है ,,दोस्तों यह तो कुछ उदाहरण ,है ,,लेकिन एक ईमानदार ,,एक संत ,,जो चौबीस घंटे ,, भूखे ,,प्यासे रहकर ,,राष्ट्रिय एकता ,,राष्ट्रिय निर्माण कार्यक्रमों को क्रियान्वित करने में जुटा है ,,ऐसे संत प्रधान मंत्री ,,जो देश के ,,भाजपा के सिरमौर भी है ,,भाजपा की रूह ,,आत्मा भी है ,,फिर भी ,,यह भाजपाई ,,यह भाजपा की सरकारें ,,यह भाजपा के नेता ,,यह कार्यकर्ता ,यह गौ रक्षक ,,यह राजस्थान के विधायक ,,ज्ञानदेव आहूजा ,,गृह मंत्री ,,गुलाब कटारियां ,,केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ,,खुद दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ,,जैसे लोग मनमानी कर रहे है ,,इनके निर्देशों के उलंग्घन के अपराधी है फिर भी पद पर यह लोग बने है ,,इससे लगता है के नरेंद्र मोदी की पकड़ अब ,,सियासत में वन मेंन ,,शो से ढीली हो गयी है ,,कोई तीसरी ताक़त है जो नरेंद्र मोदी की उपेक्षा ,,,उनके आदेश निर्देशों की अवहेलना कर ,,उन्हें कमज़ोर करने की कोशिशों में जुटी है ,,और यह लोग सभी उसमे हिस्सेदार बने है ,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...