हमें चाहने वाले मित्र

05 अप्रैल 2017

धौलपुर में वोटर से ज़्यादा,,जिनका वहाँ वोट नहीं है ,,वोह प्रचारक हो गए है ,

सूना है धौलपुर में वोटर से ज़्यादा,,जिनका वहाँ वोट नहीं है ,,वोह प्रचारक हो गए है ,,,,,,धौलपुर के मतदाता ,अवैध लोगो के आवागमन और अतिक्रमण से काफी इरिट्रेट हो रहे है ,,,,,लेकिन अलवर में हरियाणा के निहत्थे बुज़ुर्ग मेवाती की कथित गोरक्षकों द्वारा की गयी निर्मम हत्या ,,के बाद ,,भाजपा के मुस्लिम प्रचारको के पास ,,कोई जवाब नहीं बचा है ,,अब वोह मुस्लिम समाज के पास भाजपा के लिए किस मुंह से वोट मांगने जाए ,,बस इसीलिए ,,फिर से कोंग्रेस के पक्ष में लहर ज़िंदाबाद हो गयी है ,प्रभाव शाली लोगो के बीच दबे कुचले ,,मुस्लिम समाज के भटके लोग ,अब समझ गए है ,,के इस सरकार में ,,बेवजह दौड़ा दौड़ा कर मारने वालों को ,,वक़्त पर गिरफ्तार भी नहीं किया जाता है ,उलटे ,,कुतर्क शुरू होते है ,,और यह जो भाजपा के ठेकेदार है न सब्ज़ बाग़ दिखाकर जो मुस्लिम समुदाय को बहका कर वोट मांगने की कोशिशो में जुटा था ,,इनमे से एक ने भी इस वीभत्स ,,निर्मम ,,,दिल हिलादेने वाली नृशंस कार्यवाही के खिलाफ अपनी जुबांन तक नहीं खोली है ,,इसीलिए इनकी पोल आम मुस्लिम मतदाताओं में खुल जाने के बाद ,,धौलपुर का पंजा ,,वहां हाथी छाप कमल निशान को ,,मसल रहा है ,,,,,लानत है ऐसे समाज के ठेकेदारो पर ,,जो ज़रा सी कुर्सी के फायदे के लिए अपना इमान बेच दे और ,,समाज के निहत्थे लोगो पर ऐसे हमलो के बाद ,,ऐसे लोगो की समर्थित पार्टी में मुख्यमंत्री स्तर पर सार्वजनिक रूप से आवाज़ न उठा सकें ,,,,,अख्तर खान अकेला कोटा राजस्थान

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...