हमें चाहने वाले मित्र

07 फ़रवरी 2017

पत्नी और कामवाली बाई

अगर आप पत्नी और कामवाली बाई के बीच के वार्तालाप पर गौर करें तो काफी सारे "वन-लाइनर्स" ऐसे होते हैं मानो एक प्रेमिका अपने प्रेमी से बात कर रही हो....
.
सुनो.....कल टाइम से आ जाना हाँ.....
.
कल दो बार आ जाना ना......
.
देखो मैं इंतज़ार करूंगी.....धोखामत दे देना ऐन टाइम पे....
.
मैं कब से तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी....आज बहुत देर कर दी....
.
कल थोड़ा जल्दी आना ना.....
.
.
और सबसे क्लासिक......
.
""देखो जब भी छोड़ना हो तो पहले से बता देना,एकदम से मत छोड़ना ताकि मैं दूसरा इंतजाम कर सकूं....""

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

दोस्तों, कुछ गिले-शिकवे और कुछ सुझाव भी देते जाओ. जनाब! मेरा यह ब्लॉग आप सभी भाईयों का अपना ब्लॉग है. इसमें आपका स्वागत है. इसकी गलतियों (दोषों व कमियों) को सुधारने के लिए मेहरबानी करके मुझे सुझाव दें. मैं आपका आभारी रहूँगा. अख्तर खान "अकेला" कोटा(राजस्थान)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...